एक डाक्टर की कोरोना पर भविष्यवाणी, जून में चरम पर होगा संक्रमण

  • एम्स के डाक्टर ने कोरोना पर की भविष्यवाणी
  • जून महीने में कोरोना में हो सकती है भारी बढ़ोत्तरी
  • लॉक डाउन से देश को हुआ है फायदा
  • कोरोना के साथ जीने की आदत डालनी होगी
कोरोना वायरस से देश पिछले 3 महीने से जूझ रहा है लेकिन हालात में अभी तक कोई खासा सुधार देखने को नहीं मिल रहा है। कोरोना संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है हालांकि भारत के लिए राहत की बात यह है कि बाकी देशों के मुकाबले भारत में संक्रमण फैलने की तफ्तार काफी कम है और यहां लोग इलाज के बाद ठीक भी हो रहे हैं और दोबारा से उनमें लक्षण अभी तक नजर नहीं आ रहे हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से कोरोना के संक्रमण में थोड़ी तेजी देखने को मिल रही है जिस से उम्मीद लगाई जा रही है कि आने वाले जून महीने में संक्रमण और तेजी से बढ़ सकता है।
वही जाने-माने हॉस्पिटल एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कोरोना वायरस को लेकर एक चौंकाने वाला बयान दिया है। रणदीप गुलेरिया के मुताबिक जून का महीना कोरोना वायरस के लिए पीक महीना हो सकता है। डाक्टर गुलेरिया ने जून में सबसे ज्यादा संक्रमण फैलने की उम्मीद जताई है हालांकि इस दौरान उन्होने कहा कि लॉक डाउन का फायदा संक्रमण को रोकने में मिला है और इसकी वजह से ही कोरोना पर काफी हद तक लगाम लग सकी है। डॉक्टर रणदीप गुलेरिया के मुताबिक कोरोना एक साथ में खत्म होने वाली बीमारी नहीं है यह धीरे-धीरे ही खत्म होगी और हमें अब इसके साथ जीने की आदत डालनी होगी।
एम्स के निदेशक ने भारत की तुलना चीन, अमेरिका और इटली के साथ करते हुए बताया कि हमारी स्थिति बाकी देशों से बहुत ही बेहतर है। अमेरिका जैसा शक्तिशाली देश भी कोरोना के सामने घुटने टेक चुका है उसे यह समझ नहीं आ रहा कि आखिर इस अदृश्य दुश्मन से कैसे निपटा जाए। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने एक बयान में कोरोना वायरस की तुलना द्वितीय विश्वयुद्ध के पर्ल हार्बर और 9/11 अटैस से कि है। वही चीन और इटली के भी हालात बद से बदतर हो चुके थे इन दोनों देशों में मरने वालों की संख्या डरावनी हालात में पहुंच चुकी है।
देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है। 7 मई तक के आकड़े 52000 को पार कर चुके है इसके साथ ही मरने वालों की संख्या में भी करीब 200 की वृद्धि हुई है और अब तक करीब 1750 से अधिक लोगों की कोरोना वायरस की वजह से मौत हो चुकी है। संक्रमण की नजर से महाराष्ट्र पहले नंबर पर है जबकि राजधानी दिल्ली, गुजरात और पंजाब जैसे कई राज्यों की हालत भी चिंताजनक है।

आपकी प्रतिक्रिया...