सेवा कार्य में तत्पर भारत विकास परिषद

भारत विकास परिषद राष्ट्रीय स्तर का संगठन है। मैं मुंबई प्रान्त का अध्यक्ष हूँ और मुंबई प्रान्त में हमारी 16 शाखाएं है। इन 16 शाखाओं के माध्यम से हमने बहुत ही व्यापक स्तर पर सेवा कार्य चलाये है जो लगातार जारी है और आगे भी जारी रहेंगे। हमने अब तक सेवा कार्यों पर 70 लाख रूपये खर्च किये है। इनमें से 50 प्रतिशत राशन किट एवं 40 प्रतिशत फूड पैकेट और 10 प्रतिशत पीपीइ किट, माक्स, सेनिटाइजर सहित अन्य कार्यों में खर्च किया है।कुल मिलकर लगभग 5000 से अधिक राशन किट का वितरण गरीब, मजदुर और जरूरतमंद परिवारों को किया गया है। इसके साथ ही खाद्य पदार्थ का भी वितरण बड़ी संख्या में किया गया है। मुंबई एयरपोर्ट, टैक्सी स्टैंड, कांदिवली, मलाड, जे.बी.नगर, अंधेरी, कुर्ला, मुंबई सेंट्रल आदि क्षेत्रों में यह सेवा कार्य किये जा रहे है। भारतीय समाज का विकास और उत्थान करने के उद्देश्य से भारत विकास परिषद की स्थापना की गई है। परिषद के पांच सूत्र है संपर्क, सहयोग, संस्कार, सेवा और समर्पण।

श्याम सुंदर खेतान-अध्यक्ष , भारत विकास परिषद मुंबई प्रांत

इन्ही सूत्रों के आधार पर परिषद का कार्य सम्पूर्ण भारत में चलता है। पुरे भारत में परिषद की 1500 शाखाएं है। लगभग 80,000 मंडल है। जिनके माध्यम से विभिन्न क्षेत्रों में विकास एवं सेवा कार्य किये जा रहे है। भारत विकास परिषद में समाज के प्रतिष्ठित लाखों लोग जुड़े हुए है। मुंबई प्रान्त महासचिव राकेश ओस्तवाल, कोषाध्यक्ष हीरालाल शर्मा, विनोद मोरवाल, सीए एस. एस. गुप्ता, डॉ. एस. एस. मन्था आदि पदाधिकारी सेवा कार्यो को सफल बनाने में जुटे है। स्वथ्य,समर्थ और संस्कारित भारत के नव निर्माण के लिए भारत की अद्वितीय सामाजिक संस्था भारत विकास परिषद् सदैव तत्पर है।

आपकी प्रतिक्रिया...