मुंबई के तटीय इलाकों पर चक्रवात का खतरा, उद्धव ठाकरे ने घर में रहने का दिया निर्देश

  • मुंबई के तटीय इलाकों पर चक्रवात का खतरा
  • चक्रवात निसर्ग से महाराष्ट्र-गुजरात को खतरा
  • उद्धव ठाकरे ने सभी से घर में रहने की दी सलाह
  • केंद्र सरकार हर मदद के लिए तैयार 
महाराष्ट्र पर मुसीबत कम होने का नाम नहीं ले रही है। पहले कोरोना वायरस की महामारी और अब चक्रवाती तूफान जिसकी वजह से फिर से लोगों की जिंदगी पर खतरा मंडराता नजर आ रहा है। चक्रवात निसर्ग की वजह से एक बार फिर से मुंबई और उसके आसपास के इलाके खतरे में पड़ चुके हैं मौसम विभाग की माने तो यह चक्रवाती तूफान महाराष्ट्र के लिए खतरनाक साबित हो सकता है और इसमें कई लोगों की जान भी जा सकती है हालांकि तूफान के कम होने की भी उम्मीद मौसम विभाग द्वारा जताई जा रही थी।
 

उद्धव ठाकरे की घर में रहने की अपील
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने चक्रवात से पहले एक वीडियो संदेश के द्वारा सभी से अपील करते हुए कहा कि लोग 2 दिनों तक अपने घरों से बाहर ना निकले, उद्धव ठाकरे ने कहा कि पहले के मुकाबले यह चक्रवात काफी खतरनाक है और इससे बड़े नुकसान की भी आशंका जताई जा रही है हालांकि उन्होंने यह कहा कि हम भगवान से यह प्रार्थना कर रहे हैं कि चक्रवात महाराष्ट्र की सीमा पर पहुंचने से पहले ही कमजोर हो जाए। वही चक्रवात के खतरे को देखते हुए देश की तीनों सेनाओं और एनडीआरफ को तैयार रखा गया है ताकि किसी भी बुरे वक्त के लिए इनकी मदद ली जा सके।
 
 

केंद्र सरकार हर मदद के लिए तैयार
उद्धव ठाकरे ने अपने वीडियो संदेश में बताया कि चक्रवात को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से भी बात हुई है। केंद्र सरकार ने हर तरह की मदद का भरोसा दिया है और इसके लिए केंद्र ने भी योजना तैयार कर रखी है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि समुद्र के नजदीकी इलाकों में रहने वाले मछुआरों और बाकी लोगों को भी वहां से निकाल लिया गया है और आसपास के लोगों को सतर्क रहने की हिदायत दी गई है। हालांकि उद्धव ठाकरे ने आशंका जाहिर की है तूफान के बाद अगर बाढ़ की स्थिति बनती है कुछ स्थानों पर बिजली की आपूर्ति हो सकती है क्योंकि पानी भरने के बाद बिजली के कई उपकरण काम करना बंद कर देते हैं इसलिए सभी लोगों से अपील है कि वह अपने सभी बिजली से चलने वाले सामानों को चार्ज करके रखें।
 

सेना और NDRF मदद के लिए तैयार
चक्रवात निसर्ग को ध्यान में रखते हुए मुंबई और आसपास के इलाकों में रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। एनडीआरएफ की कुछ टीमों को संवेदनशील इलाकों में तैनात कर दिया गया है जबकि कुछ को अलर्ट पर रखा गया है। वही पालघर और रायगढ़ में स्थित रासायनिक और परमाणु ऊर्जा संयंत्रों की सुरक्षा को भी चाक-चौबंद कर दिया गया है। मौसम विभाग की तरफ से चेतावनी जारी कर कहा गया है कि 3 जून की शाम को चक्रवाती तूफान महाराष्ट्र से होते हुए गुजरात तक जाएगा इस दौरान भारी बारिश का अनुमान है।

आपकी प्रतिक्रिया...