भारत की इस मिसाइल से डरेंगे दुश्मन, DRDO ने किया सफल परीक्षण

चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच भारत लगातार अपने रक्षा क्षेत्र को मजबूत करता जा रहा है। दूसरे देशों से जारी खरीद के साथ साथ स्वदेशी मिशाइल और हथियार भी तैयार किये जा रहे है। भारत ने शौर्य मिसाइल के नये संस्करण का सफल परीक्षण किया। यह मिसाइल 800 किमी दूर अपने दुश्मनों पर आसानी से हमला कर सकती है और यह परमाणु हथियार से भी लैस होगी। शनिवार को अब्दुल कलाम द्वीप से दोपहर 12.10 बजे LC4 से शौर्य मिसाइल को लांच किया गया। मिसाइल ने अपने तय समय में टारगेट को हिट किया और यह परीक्षण सफल रहा। जानकारी के मुताबिक यह मिसाइल हल्की है जिसे आसानी से आपरेट किया जा सकता है।  
भारत ऐसी कई और मिसाइलों का अब तक सफल परीक्षण कर चुका है और कई इसी कतार में अब भी शामिल है। केंद्र की मोदी सरकार अपने दुश्मनों को यह भलीभांति बताना चाहती है कि भारत किसी भी दुश्मन से डर कर पीछे हटने वाला नहीं है। जमीन से जमीन पर मार करने वाली यह मिसाइल 800 किमी दूर तर अपने टारगेट को हिट कर सकती है। इस मिसाइल को पनडुब्बी से लांच की जाने वाली बैलेस्टिक मिसाइल का जमीनी रुप माना जा रहा है। टू स्टेज राकेट वाली यह मिसाइल 40 किमी ऊंचाई तक पहुंचने से पहले यह आवाज की 6 गुना अधिक रफ्तार से जायेगी और टारगेट को हिट करेगी। यह मिसाइल सॉलिड फ्यूल से चलती है। 
 
पूरी तरह से भारत में निर्मित इस मिसाइल में कई आधुनिक सिस्टम है यह क्रूज मिसाइल की तरह खुद को गाइड कर सकती है और यह टारगेट को हिट कर सकती है। इस मिसाइल को दुश्मन ट्रैक तो कर सकते है लेकिन इसकी गति इतनी तेज होगी कि उन्हे सिर्फ 400 सेकेंड का समय मिलेगा और इतने कम समय में इसे ट्रैक करना मुश्किल है। मिसाइल परीक्षण के दौरान रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) एवं अंतरिम परीक्षण परिषद (ITR) से जुड़े अधिकारियों और वैज्ञानिकों का दल भी उपस्थित था। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) लगातार रक्षा क्षेत्र के लिए काम कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के नारे केबाद इसने अपने प्रयासों को और बढ़ाया है। 
 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दोनों कार्यकाल पर नजर डालें तो रक्षा क्षेत्र को लगातार मजबूत किया जा रहा है इसमें दूसरे देशों से आयात के साथ साथ स्वदेशी मिसाइल, हथियार और लड़ाकू टैंक भी शामिल है। पिछले कुछ दिनों में भारत ने एमबीटी अर्जुन टैंक से लेजर गाइडेड एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल एजीटीएम का टेस्ट किया था यह परीक्षण पूरी तरह से सफल था। भारत की तरफ से लगातार रक्षा क्षेत्र को मजबूत करने का काम जारी है क्योंकि भारत के दोनों पड़ोसी देश पाकिस्तान और चीन लगातार घात लगाए बैठे है ऐसे में सेना की ताकत और हौसले को हमेशा मजबूत बनाएं रखना होगा और शायद केंद्र की मोदी सरकार इसे करने में सफल भी हो रही है।  
  

This Post Has One Comment

  1. DR.PAWAR VEENA SUNIL

    MODIJI IS POWERFUL PRIME MINISTER.

आपकी प्रतिक्रिया...