लव-जिहाद और कंवर्जन का गढ मेवात!

विश्व हिन्दू परिषद के केंद्रीय संयुक्त महामंत्री डाक्टर सुरेंद्र जैन ने कहा कि मेवात की स्थिति बद से बदरत होती जा रही है। मेवात में हर दिन हिंदू लड़कियों पर अत्याचार हो रहे है। मुस्लिम पुरुषों द्वारा हिंदू लड़कियों का अपहरण और हत्या आम बात हो चुकी है। हिंदू लड़की अगर उनकी बात नहीं मानती है तो उसे मार दिया जाता है या फिर उसका अपहरण कर करवा दिया जाता है। कंवर्जन की भी तेज गति से हो रहा है और इसके खिलाफ कोई ठोस कदम भी नहीं उठाया जा रहा है।

विश्व हिन्दू परिषद की तरफ से इसका पूरजोर विरोध किया गया और सरकार से मांग की गयी कि जल्द से जल्द इसके खिलाफ कानून बनना चाहिए। मेवात की जनता को आतंकित किया जा रहा है। मेवात की स्थिति का जायजा लेने के बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इसके खिलाफ कदम उठाने का वादा किया था और कुछ महत्त्वपूर्ण घोषणाएँ भी की थी लेकिन वह सब कागज़ों तक ही सीमित रह गयी और पुलिस ने भी मेवात में हो रहे अत्याचार के खिलाफ कोई ठोस कदम नहीं उठाया।

मेवात में कंवर्जन के साथ साथ और भी कई कई समस्याएं है जिसकी जानकारी सरकार को है लेकिन इस पर अभी भी पूरी तरह से रोक नहीं लग सकी है। मेवात में गौहत्या भी तेजी से हो रही है जबकि सरकारी कागज़ में यहां पर गौहत्या पर रोक है लेकिन स्थानीय प्रशासन की मदद से गौ हत्या भी हो रही है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मेवात में हिंदुओं की जमीनों को भी वापस करने की बात कही थी लेकिन वह आदेश भी अभी तक कागज़ों में पड़ा हुआ है।

लव जिहाद के मामले भी लगातार मेवात में बढ़ते जा रहे है। मुस्लिम युवक एक साजिश के तहत हिंदू लड़कियों को प्यार के जाल में फांसते है और फिर उन पर शादी और कंवर्जन का दबाव डालते है और अगर किसी भी कारण वश लड़की शादी से इंकार करती है तो उसके साथ हत्या या अपहरण जैसी घटना होना आम बात है। लव जिहाद पर हाई कोर्ट ने भी अपनी टिप्पणी की है और इसे गलत बताया है। विश्व हिंदू परिषद ने भी सरकार से मांग की है कि इस पर जल्द से जल्द कानून बनना चाहिए और हिंदू बेटियों की रक्षा होनी चाहिए।

विश्व हिन्दू परिषद के केंद्रीय संयुक्त महामंत्री डाक्टर सुरेंद्र जैन निकिता हत्याकांड का भी जिक्र किया और कहा कि राज्य में मुख्यमंत्री और गृह मंत्री ने इस खबर का संज्ञान लिया था और जांच के आदेश दिए थे मेवात की स्थिति को देखते हुए सरकार की तरफ से जांच दल का भी गठन किया गया है जिसने अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप दी है लेकिन अभी तक इस पर सरकार की तरफ से कोई कदम नहीं उठाया गया है। विश्व हिंदू परिषद के मुताबिक मेवात के कुछ मंदिरों को भी दबाव में आकर पुलिस ने बंद करवा दिया है इसका विरोध हुआ था लेकिन भी तक सरकार ने भी इस पर कोई फैसला नहीं लिया है जबकि विश्व हिन्दू परिषद की तरफ से मांग की गयी है कि मंदिरों को जल्द से खोला जाए और दोषियों को खिलाफ कार्रवाई की जाए। विश्व हिंदू परिषद की तरफ से चेतावनी दी गयी कि सरकार की अपनी मजबूरी हो सकती है लेकिन हमारी नहीं, इसलिए अगर सरकार की तरफ से कोई कदम नहीं उठाया गया तो विश्व हिंदू परिषद इसके खिलाफ आंदोलन करेगा।

आपकी प्रतिक्रिया...