अयोध्या दीपावली: 10 लाख से अधिक दीपों के साथ देखें अयोध्या की दीपावली

दीपावली से पहले हर साल की तरह इस बार भी अयोध्या नगरी पूरी तरह से सज कर तैयार है लेकिन इस बार अयोध्या की दीपावली में कुछ खास है और इसकी वजह यह है कि इस बार भगवान श्री राम के मंदिर का निर्माण हो रहा है। दीपावली को लेकर यह मान्यता है कि जब भगवान श्रीराम अपना 14 वर्ष का वनवास खत्म कर अयोध्या लौटे थे तो उस खुशी में नगर वासियों ने दीप जलाए थे। इस बार भी कुछ ऐसा ही हो रहा है भगवान श्रीराम कई वर्षों बाद अयोध्या मंदिर में पधारे है। दीपावली की खुशी में पूरे अयोध्या को दुल्हन की तरह सजाया गया है। मंदिर, मठ, सड़कें और नदियां सब जगहों को दीपों और लाइटों से ऐसे सजाया गया है कि आप देखते ही रह जायेंगे।

अयोध्या की दीपावली को लेकर सरकार की तरफ से भी जोरदार तैयारी चल रही है। दीपावली के दिन मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल पूजा करने वाले है जिसकी तैयारी भी तेजी से चल रही है। इस दौरान सरयू नदी पर भी आरती होगी। सरयू नदीं को भी पूरी तरह से साफ-सफाई के साथ तैयार किया गया है। नदी के घाटों को भी पूरी तरह से सजाया गया है।

इस बार दीपावली में अयोध्या में कुल 5 लाख 51 हजार हजार दीप जलाए जायेंगे और इसी के साथ ही अयोध्या का नाम गिनीज ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज हो जायेगा। एक साथ इतनी बड़ी संख्या में दीप जलाने का कई कोई उत्सव नहीं हुआ है। अयोध्या में हर तरह “सबमे राम-सबके राम” की चित्रकारी देखने को मिल रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सन 2017 में ही दिपावली के दौरान दीपोत्सव की शुरुआत की थी और कहा था कि आने वाले दिनों में अयोध्या में बड़े पैमाने पर दीपोत्सव का उत्सव मनाया जायेगा। पिछले साल 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब दीपोत्सव की खुशी पूरे देशवासियों को देखने को मिल रही है।

एक तरफ दीपावली को लेकर जहां तैयारियाँ जोरो पर है वहीं सुरक्षा व्यवस्था को भी नजर अंदाज़ नहीं किया जा सकता है। राम मंदिर निर्माण को लेकर तमाम विरोध भी देखने को मिला है जिससे यह साफ होता है कि दुश्मन कभी भी इसे क्षति पहुंचाने की कोशिश कर सकते है। आतंकी खतरे को देखते हुए विशेष जवानों को भी केंद्र की तरफ से तैयार किया गया है इसके साथ ही बम डिस्पोजल दस्ता, क्विक रिएक्शन टीम और विशेष सुरक्षा गार्ड भी तैयार किये गये है। स्थानीय प्रशासन ने बाहर से आने वाले लोगों पर रोक लगा दी गयी है। अयोध्या में बिना अनुमति पत्र के दाखिल नहीं हुआ जा सकता है और अनुमति पत्र के साथ भी आप को तीन सुरक्षा मानकों से गुजरना होगा।

आपकी प्रतिक्रिया...