जानिए, नये संसद भवन की विशेषताएं


10 दिसंबर को देश के दूसरे संसद भवन का शिलान्यास होने वाला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसका शिलान्यास करेंगे और यह सन 2022 तक तैयार हो जायेगा। लोकसभा स्पीकर ओम बिरला के मुताबिक वर्ष 2022 का संसद सत्र नये संसद भवन में आयोजित किया जायेगा। वर्तमान का संसद भवन अपना 100 वर्ष पूरा करने वाला है जिससे अब उसे अलविदा कहने का समय आ गया है। वर्तमान संसद भवन का निर्माण ब्रिटिश के समय में किया गया था और इसे एडविन लुटियंस और हर्बर्ट बेकर्स द्वारा डिज़ाइन किया गया था। इसकी शुरुआत 12 फरवरी 1921 को गयी थी और यह 18 जनवरी 1927 को बनकर तैयार हो गया था इसको तैयार करने में कुल 6 साल का समय लगा था और करीब 83 लाख रुपये का खर्च आया था। 
नये संसद भवन के निर्माण में बड़ी संख्या में लोगों को शामिल किया जा रहा है जिससे इसे कम से कम समय में पूरा किया जा सके। इस नये संसद भवन का काम-काज टाटा समूह को दिया गया है। इस भवन निर्माण में सीधे तौर पर 2000 लोगों को काम पर लगाया जायेगा जबकि भवन निर्माण के बाहर के लोगों की की भी गिनती की जाए तो करीब 9000 लोग इस काम में शामिल हो रहे है। टाटा ने इस साल सितंबर में सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास योजना के तहत इन नये संसद भवन का प्रोजेक्ट लिया है और इसकी कुल लागत 861.90 करोड़ आंकी गयी है। देश के लिए यह गौरव की बात होगी कि नये संसद भवन का निर्माण स्वदेशी कंपनी द्वारा किया जा रहा है। यह ना सिर्फ हर देशवासी के लिए गौरव की बात होगी बल्कि इससे रोज़गार के भी अवसर पैदा होंगे। 
 
नये संसद भवन में एक विशालकाय संविधान कक्ष भी होगा जहां भारत की लोकतांत्रिक धरोहर को प्रदर्शित किया जायेगा। सांसदों के लिए लॉन्ज, पुस्तकालय, विभिन्न समितियों के कक्ष, भोजन कक्ष और पार्किंग कक्ष होगा। नये संसद भवन के निकट ही सांसदों का कार्यालय भी बनाया जायेगा जो संसद भवन से टनल के माध्यम से जोड़ा जायेगा। 
 
नये संसद भवन को भी पुराने भवन के स्वरूप पर तैयार किया जा रहा है। पुराने भवन की तरह ही नये संसद भवन में भूतल, प्रथम तल और द्वितीय तल होगा। इसकी उंचाई भी पुराने भवन के बराबर होगी जिससे दोनों भवन देखने में खूबसूरत लगे। 
नये संसद भवन की विशेषताएं- 
1. संसद भवन 64,500 वर्ग मीटर में फैला होगा।
2. भवन भूकंप प्रतिरोधी क्षमता से पूरी तरह से लैस होगा। 
3. भवन निर्माण पर कुल 971 करोड़ रुपये खर्च किये जायेंगे।  
4.  नये संसद भवन में 1224 सांसद एक साथ बैठ सकते है। 
5. भवन के निकट दोनों सदनों के सदस्यों के लिए कार्यालय का निर्माण होगा। 
6. वर्तमान संसद भवन को पुरातात्विक संपत्ति के तौर पर सुरक्षित रखा जायेगा।
7. नये संसद भवन में कागज का इस्तेमाल नहीं किया जायेगा। 
8. संसद भवन पूरी तरह से आत्याधुनिक टेक्नॉलिजी से लैस होगा। 
9. नये संसद भवन में वायु और ध्वनि प्रदूषण को रोकने का भी उपाय किए जायेंगे। 
10. नये संसद भवन के लोकसभा कक्ष में 888 सांसदों और राज्यसभा में 384 सांसदों के बैठने की व्यवस्था होगी।
11.  वर्तमान भवन में लोकसभा में 543 सांसद और राज्यसभा में 245 सांसद बैठते है।

This Post Has One Comment

  1. DR.PAWAR VEENA SUNIL

    MODIJI IS GREAT.

आपकी प्रतिक्रिया...