सुधीर चौधरी को आतंकवादी कहना कितना सही?

वरिष्ठ पत्रकार सुधीर चौधरी को आप सभी ने एक निजी चैनल पर जरूर देखा होगा और उनकी खबरें भी शायद आप को प्रभावित करती होंगी। सुधीर चौधरी को उनके डीएनए (DNA) कार्यक्रम की वजह से एक अलग पहचान मिली है इस कार्यक्रम में वह किसी भी मुद्दे पर बहुत खुले रूप में बात करते हैं लेकिन अब उन्हें इसके लिए ही निशाने पर लिया जा रहा है। हमारे देश में आतंकी खतरा दशकों से देखने को मिल रहा है। पुलिस और सेना के जवान हर दिन शहीद होते हैं इसलिए सुधीर चौधरी का आतंकियों को लेकर हमेशा से कड़ा रुख रहा है। आतंकियों को लेकर वह हमेशा से ही कड़े शब्दों का प्रयोग करते आ रहे हैं जिसके लिए अब यूएई (UAE) की राजकुमारी ने उन्हें आतंकी कह दिया है। प्रिंसेस के इस बयान के बाद से सुधीर चौधरी को यूएई में होने वाले एक कार्यक्रम की गेस्ट लिस्ट से भी बाहर कर दिया गया। 

 

यूएई (UAE) की प्रिंसेस हेंड बिंत-ए-फैसल अल कासिम ने सुधीर चौधरी को आड़े हाथों लेते हुए उन्हें मुसलमानों का विरोधी बताया और कहा कि ऐसा व्यक्ति जो मुसलमानों के खिलाफ आग उगलता रहता है उसे हमारे देश में एक कार्यक्रम में स्पीकर बनाया जा रहा है। प्रिंसेस हेंड बिंत-ए-फैसल अल कासिम ने कहा कि, “एक भारतीय एंकर जो हर दिन मुसलमानों का अपमान करता है उसे उस देश में बोलने और सम्मानित करने के लिए आमंत्रित किया जाता है जिसके लोगों का वह हर समय अपमान करता है” राजकुमारी के इस बयान के बाद इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट अबू धाबी के सदस्यों ने सुधीर चौधरी को गेस्ट लिस्ट से बाहर कर दिया।

 

यूएई (UAE) की प्रिसेस हेंड बिंत-ए-फैसल अल कासिम ने अपने एक ट्वीट में सुधीर चौधरी पर फर्जी खबरें चलाते, इस्लामोफोबिया और सांप्रदायिक नफरत फैलाने का भी आरोप लगाया। प्रिंसेस ने अबू धाबी की जनता से भी सवाल किया कि, क्या हमें किसी गैर पेशेवर पत्रकार को एक मंच पर यहां की जनता के बीच आमंत्रित करना चाहिए? क्या हमारी ही बेज्जती करने वाले को बुलाकर खुद की इज्जत कम करना चाहिए? इसके साथ ही कासिम ने और भी कई आरोप लगाए और यह दावा किया कि सुधीर चौधरी अपने टीवी शो के माध्यम से मुसलमानों का अपमान कर रहे हैं। 
यूएई (UAE) की प्रिंसेस की तरह से लगाए गए आरोप उनके खुद के विचार हो सकते हैं लेकिन ऐसा बिल्कुल गलत है कि एक एंकर किसी विशेष समुदाय पर आक्रमण करेगा। भारत में भी टीवी शो पर लगाम लगाने वाले तमाम नियम और कानून बने हुए है इसलिए कोई भी अपनी मनमर्जी से कुछ नहीं बोल सकता या दिखा सकता है। एक टीवी एंकर किसी भी खबर को पूरी ईमानदारी से दिखाता है और उसकी सच्चाई को दुनिया के सामने रखता है। डिजिटल दुनिया में आप किसी भी फैक्ट को चेक कर सकते हैं और अगर होने पर आप किसी भी टीवी चैनल या एंकर पर केस कर सकते हैं। 

 

भारत में जितने भी आतंकी मारे जाते हैं वह सभी मुसलमान ही होते है तो कोई भी एंकर या चैनल उनका नाम तो नहीं बदल सकता है ऐसे में अगर सही खबर बताई जाती है तो इसका यह मतलब नहीं होता है कि किसी को टारगेट किया जा रहा है। भारत में किसी भी मुसलमान को आतंकी नहीं कहा जाता है क्योंकि भारत के मुसलमानों ने देश की आजादी में भी अपना खून बहाया है और आज भी कितने लोग देश की सेवा कर रहे हैं इसलिए यूएई (UAE) की प्रिसेस हेंड बिंत-ए-फैसल अल कासिम का यह दावा कि भारत में मुसलमानों पर अत्याचार हो रहें है यह पूरी तरह से गलत है और निराधार है। 

आपकी प्रतिक्रिया...