JNU में रामनवमी पूजा का विरोध !

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) का नाम पढ़ाई से ज्यादा विवादों में रहता है। किसी भी मुद्दे पर वहां विवाद पैदा हो जाता है और अलग अलग विंग के छात्र आपस में भिड़ जाते हैं। नया मामला रामनवमी के दिन का है जब लेफ्ट ग्रुप और एबीवीपी के छात्रों के बीच झड़प देखने को मिली। कावेरी छात्रावास की इस झड़प में एक छात्रा के सिर में चोट भी आयी है जिसका अस्पताल में इलाज भी चल रहा है।

अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि इस झड़प की असली वजह क्या है लेकिन राम नवमी की पूजा और मांसाहारी भोजन को लेकर यह विवाद हुआ है। लेफ्ट ग्रुप का कहना है कि ABVP के छात्रों ने मेस में आकर स्टाफ से मारपीट की और नॉनवेज खाने को लेकर विरोध जताया जबकि एबीवीपी के छात्रों का कहना है कि रामनवमी के अवसर पर वह पूजा करना चाहते थे जिसे लेफ्ट ग्रुप के छात्रों की तरफ से रोकने का प्रयास किया गया।

यूनिवर्सिटी की तरफ से यह साफ कर दिया गया है कि यहां किसी भी धर्म के लिए कोई रोक टोक नहीं है और ना ही किसी के लिए कुछ स्पेशल हैं। विश्वविद्यालय में तमाम धर्म के लोग पढ़ने आते हैं इसलिए यहां सभी धर्मों को समान भाव से देखा जाता है। रामनवमी से लेकर रमजान तक सभी के लिए एक समान अधिकार दिए गए हैं। मेस के खान पान का काम यूनिवर्सिटी के पास है इसलिए उसमें छात्रों का नहीं पड़ना चाहिए। वहीं वार्डन की तरफ से यह नोटिस जारी कर दिया गया कि हर व्यक्ति को अपनी धार्मिक मान्यता के अनुसार पूजा पाठ करने की अनुमति दी गयी है इसमें किसी भी प्रकार की रोक नहीं है।

जेएनयू में हुए विवाद का मुद्दा कोई भी रहा हो लेकिन सवाल यह है कि इस तरह से यूनिवर्सिटी में झड़प होना कहां तक ठीक है? जिस कालेज से बच्चे प्रेम और समाज का पाठ पढ़ कर निकलते हैं वहां भी अब राजनीति शुरू हो गयी है और बच्चों को अलग अलग दल और धर्म के नाम पर बांट दिया गया है। छात्रों के संगठन इस हद तक जा चुके हैं कि वह दूसरे का विरोध भी करना शुरु कर दिए हैं। अगर एबीवीपी के छात्रों की बात मानें तो उन्हें रामनवमी की पूजा करने से रोका गया।

भारत जैसे हिन्दू राष्ट्र में भगवान की पूजा करने से रोकना समाज में कितना गलत प्रभाव डालेगा और शायद यही वजह रही कि बात खून खराबे तक पहुंच गयी। किसी के सिर में चोट लगी तो किसी के हाथ और पैर में निशान नजर आ रहे हैं। हालांकि यूनिवर्सिटी की तरह से मामले को संभाल लिया गया। वाइस प्रिंसिपल ने दोनों संगठनों के छात्रों के साथ रात का भोजन किया और मामले को खत्म करने की बात कही।

आपकी प्रतिक्रिया...