तेरा विश्वास शक्ति बने, याचना नही

Continue Readingतेरा विश्वास शक्ति बने, याचना नही

हे प्रभो! मेरी केवल एक ही कामना है कि मैं संकटों से डर कर भागूँ नहीं, उनका सामना करूँ। इसलिए मेरी यह प्रार्थना नहीं है कि संकट के समय तुम मेरी रक्षा करो बल्कि मैं तो इतना ही चाहता हूँ कि तुम उनसे जूझने का बल दो। मैं यह भी…

हिंदुओं की दुर्दशा के लिए कौन जिम्मेदार है?

Continue Readingहिंदुओं की दुर्दशा के लिए कौन जिम्मेदार है?

असाम ब्रह्मपुत्र नदी और घने जंगलों का सुन्दर प्रदेश चिरकाल से हिन्दू राजाओं द्वारा शासित प्रदेश रहा है। असाम में इस्लाम ने सबसे पहले दस्तक बख्तियार खिलजी के रूप में 13 वीं शताब्दी में दी थी। बंगाल पर चढ़ाई करने के बाद खिलजी ने असाम और तिब्बत पर आक्रमण करने…

आधुनिक लद्दाख के निर्माता कुशोक बकुला रिम्पोछे 

Continue Readingआधुनिक लद्दाख के निर्माता कुशोक बकुला रिम्पोछे 

भगवान बुद्ध के शरीर त्याग के समय उनके 16 शिष्यों ने प्रतिज्ञा ली  थी कि जब तक उनके विचार पूरे विश्व में नहीं फैलेंगे, तब तक वे मोक्ष से दूर रहकर बार-बार जन्म लेंगे और यह काम पूरा करेंगे। इन 16 में से एक कुशोक बकुला अब तक 20 बार…

मूर्तिपूजक उन्ही डायनासोर का पुनर्जन्म है

Continue Readingमूर्तिपूजक उन्ही डायनासोर का पुनर्जन्म है

कॉर्टेज़ (Cortes)एक साहसिक स्पैनिश ठग था। जुलाई 1519 में वह मेक्सिको पहुँचा। उससे पहले एक दशक में स्पैनिश लोगों ने क्यूबा के स्थानीय लोगों को नरसंहार व अपने साथ लाई बीमारियों के द्वारा समाप्त कर दिया था। क्यूबा मेक्सिको से एक हज़ार मील दूर था। इस दूरी को नोट करे।…

हिमालय की तरह अचल भारत- नेपाल मैत्री 

Continue Readingहिमालय की तरह अचल भारत- नेपाल मैत्री 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर नेपाल की यात्रा की, यह यात्रा ऐसे समय में हुई है जब विश्व  का बहुत बड़ा हिस्सा युद्ध और हिंसा के वातावरण के दौर से गुजर रहा है। विश्व के कई देश कोविड महामारी के बाद आंतरिक अशांति से गुजर रहे…

ऐतिहासिक ज्ञानवापी क्या कह रही है?

Continue Readingऐतिहासिक ज्ञानवापी क्या कह रही है?

यह भारत में कानून के राज और प्रतिष्ठा का एक और उदाहरण है कि एक स्वयंसिद्ध मामला सर्वे, जांच, साक्ष्य और पक्ष-विपक्ष के तर्क-वितर्कों से होकर किसी निष्कर्ष की ओर जाता हुआ हम देख रहे हैं। एक ऐसा मामला, जो दिन की रोशनी की तरह साफ है। ज्ञानवापी के सफेद…

बिना नींव के कैसे बना गगनचुम्बी भव्य मंदिर ?

Continue Readingबिना नींव के कैसे बना गगनचुम्बी भव्य मंदिर ?

क्या यह आधुनिक तकनीकों वाला युग नींव खोदे बिना एक गगनचुंबी इमारत के निर्माण की कल्पना कर सकता है ? यह तमिलनाडु का बृहदेश्वर मंदिर है, यह बिना नींव का मंदिर है । इसे इंटरलॉकिंग विधि का उपयोग करके बनाया गया है इसके निर्माण में पत्थरों के बीच कोई सीमेंट,…

सदा प्रसन्न रहिए, ईश्वर को याद रखिए‼️

Continue Readingसदा प्रसन्न रहिए, ईश्वर को याद रखिए‼️

आप संसार के कर्मनिष्ठ महापुरुषों से शिक्षा ग्रहण कीजिए, अपने को धैर्यवान बनाइए, काम को खेल की तरह करिए, कठिनाइयों को मनोरंजन का एक साधन बना लीजिए । अपने मन के स्वामी आप रहिए, अपने घर पर किसी दूसरे को मालिकी मत गाँठने दीजिए। चिंता, शोक आदि शत्रु आपके घर…

आदि पत्रकार – देवर्षि नारद

Continue Readingआदि पत्रकार – देवर्षि नारद

सृष्टिकर्ता प्रजापति ब्रहमा के मानस पुत्र नारद - महान तपस्वी, तेजस्वी, सम्पूर्ण वेदान्त एवं शस्त्र  के ज्ञाता तथा समस्त विद्याओं में पारंगत हैं, वे  ब्रहमतेज से संपन्न हैं। नारद जी के महान कृतित्व व व्यक्तित्व पर जितनी भी उपमाएं लिखी जायें कम हैं। देवर्षि नारद ने अपने धर्मबल से परमात्मा…

मानस के अंग्रेजी अनुवादक एफ.एस.ग्राउस

Continue Readingमानस के अंग्रेजी अनुवादक एफ.एस.ग्राउस

गोस्वामी तुलसीदास कृत श्री रामचरितमानस केवल भारत ही नहीं, तो विश्व भर के विद्वानों के लिए सदा प्रेरणास्रोत रही है। दुनिया की प्रायः सभी भाषाओं में इसका अनुवाद हुआ है। अंग्रेजी में सर्वप्रथम इसका अनुवाद भारत में नियुक्त अंग्रेज प्रशासनिक अधिकारी श्री एफ.एस.ग्राउस ने किया।  श्री ग्राउस का जन्म 1836 ई.…

ज्ञानवापी परिसर में शिवलिंग!

Continue Readingज्ञानवापी परिसर में शिवलिंग!

ज्ञानवापी में शिवलिंग मिलने की खबर ने देश की राजनीति को गरमा दिया है। हिन्दू पक्ष ने दावे की बात कही है वहीं कोर्ट ने भी शिवलिंग वाली जगह को सील करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने जिलाधिकारी, पुलिस कमिश्नर और सीआरपीएफ कमांडेंट को आदेश दिया है कि हर…

गर्भगृह का रहस्य और विज्ञान

Continue Readingगर्भगृह का रहस्य और विज्ञान

यदि तुम किसी हिंदू मंदिर में गए हो तो वहां तुमने गर्भगृह का नाम सुना होगा। मंदिर के अंतरस्थ भाग को गर्भ कहते हैं। शायद तुमने ध्यान न दिया हो कि उसे गर्भ क्यों कहते हैं। अगर तुम मंदिर की ध्वनि का उच्चार करोगे हरेक मंदिर की अपनी ध्वनि है,…

End of content

No more pages to load