अमेरिकी समाज में हिंदू विचार क्यों हुआ इतना प्रतिष्ठित

Continue Readingअमेरिकी समाज में हिंदू विचार क्यों हुआ इतना प्रतिष्ठित

कई अमेरिकी राज्यों ने अक्टूबर माह को हिंदू विरासत माह घोषित किया है। उनका मानना है कि हिंदू धर्म ने अपनी अद्वितीय विरासत से अमेरिका के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। 1960 के दशक में बहुत से अमेरिकियों का हिंदू धर्म से परिचय 'ध्यान' व 'साधना' के माध्ये से…

हिंदुत्व : धर्म की अवधारणा, सत्य एवं भ्रांति

Continue Readingहिंदुत्व : धर्म की अवधारणा, सत्य एवं भ्रांति

हिंदुत्व का दूसरा नाम सनातन संस्कृति या सनातन धर्म है। सनातन का अभिप्राय ही यह है कि जो काल की कसौटी पर सदैव खरा उतरे, जो कभी पुराना न पड़े, जिसमें काल-प्रवाह में आया असत्य प्रक्षालित होकर तलछट में पहुँचता जाय और सत्य सतत प्रवहमान रहे। फिर यह भ्रांति कब,…

जयंती: युगों युगों तक अमर रहेंगे महाराजा अग्रसेन

Continue Readingजयंती: युगों युगों तक अमर रहेंगे महाराजा अग्रसेन

भारतवर्ष में ऐसे तमाम देवी-देवताओं और राजाओं ने जन्म लिया है जिन्हे युगों युगो तक याद किया जाता रहेगा। ऐसे युगान्तर राजा के बताए मार्ग पर लोग आज भी चल रहे हैं। ऐसे लोगों को उनके सेवाभाव, प्रेम और उनकी नीति के लिए जाना जाता है। महाराजा अग्रसेन भी ऐसे…

सिद्धि और साधना का पर्व शारदीय नवरात्र

Continue Readingसिद्धि और साधना का पर्व शारदीय नवरात्र

केरल में नवरात्रि देवी सरस्वती के सम्मान के रूप में  मनायी जाती है। इन नौ दिनों को केरल में सबसे शुभ माना जाता है। तमिलनाडु में नवरात्रि के समय गुड़ियों का एक प्रसिद्ध त्योहार मनाया जाता है, जिसे बोम्मई कोलू कहा जाता है।

महारानी दुर्गावती ने जब अकबर को दिया था लोहा, जबलपुर में आज भी होती है इस वीरांगना की पूजा

Continue Readingमहारानी दुर्गावती ने जब अकबर को दिया था लोहा, जबलपुर में आज भी होती है इस वीरांगना की पूजा

  आज हमारे देश की सभ्यता और संस्कृति बची है तो उसके लिए कुछ लोगों को अपना बलिदान देना पड़ा था जिसमें एक नाम महारानी दुर्गावती का भी है। महारानी ने अपने राज्य, देश और आत्मसम्मान के लिए शस्त्र धारण किया और अंतिम समय तक मुगलों से लड़ते हुए अमरत्व…

आधुनिक विज्ञान के अनुकूल वैदिक ज्ञान…

Continue Readingआधुनिक विज्ञान के अनुकूल वैदिक ज्ञान…

हम भारतीय के रूप में महान संतों और हमारे पूर्वजों द्वारा लिखे गए पवित्र वेदों और हिंदू संस्कृति के ग्रंथों के गहरे और वास्तविक अर्थ को समझने में विफल रहे हैं।  मनोवैज्ञानिक रूप से देखा जाए तो हमारे प्राचीन काल के किसी भी ज्ञान को कहानी के माध्यम से दिखाने…

‘कन्यादान’ हिन्दू संस्कृति के खिलाफ बढ़ते विज्ञापन

Continue Reading‘कन्यादान’ हिन्दू संस्कृति के खिलाफ बढ़ते विज्ञापन

भारत वह देश है जहां हिंदुओं की संख्या अधिक है और सनातन धर्म सबसे पहला धर्म है। दरअसल सनातन धर्म की उत्पत्ति को लेकर कोई निश्चित तिथि भी नहीं है ऐसा कहा जाता है कि पृथ्वी की रचना के साथ ही सनातन धर्म की शुरुआत हुई थी। तमाम ऋषि मुनियों…

राम मंदिर नींव के एक तरफ क्यों लगाया गया है भगवा ध्वज ?

Read more about the article राम मंदिर नींव के एक तरफ क्यों लगाया गया है भगवा ध्वज ?
Ayodhya: A view of the ongoing construction work of the Ram Mandir in Ayodhya, Thursday, Sept. 16, 2021. The foundation work of the temple is nearing completion. (PTI Photo)(PTI09_16_2021_000172A)
Continue Readingराम मंदिर नींव के एक तरफ क्यों लगाया गया है भगवा ध्वज ?

राम मंदिर का निर्माण कार्य तेजी से आगे बढ़ रहा है और समय समय पर उसकी तस्वीरें भी राम भक्तों के लिए जारी की जा रही है। ट्रस्ट की तरफ से मीडिया को बुलाया गया और मंदिर निर्माण कार्य के बारे में सूचना दी गयी। राम मंदिर के नींव का…

जानें हिन्दी दिवस का इतिहास

Continue Readingजानें हिन्दी दिवस का इतिहास

देश में सबसे अधिक हिन्दी बोलने वालों की संख्या है और उत्तर भारत के अधिकतर राज्य की यह प्रमुख भाषा है हालांकि इस भाषा का इस्तेमाल देश के उन राज्यों में भी होता है जहाँ हिन्दी भाषी नहीं है या फिर कम हैं। हिन्दी भाषा को देश के अलग अलग…

व्यक्ति,परिवार,राष्ट्र निर्माण के आराध्य गणपति

Continue Readingव्यक्ति,परिवार,राष्ट्र निर्माण के आराध्य गणपति

भगवान् गणपति जी के दो स्वरूप हैं । एक आध्यात्मिक जो सूक्ष्म है, अदृश्य है और दूसरा सांसारिक जो स्थूल है और दृश्यमान । हमारे शरीर में कुल पाँच गण हैं, प्रत्येक गण में पांच सूत्र । इस प्रकार ये कुल 25 गणसूत्र कहलाते हैं जिनसे हम काम करते हैं,…

भगवान श्रीगणेश के जन्म का रहस्य

Continue Readingभगवान श्रीगणेश के जन्म का रहस्य

भारतीय धर्म और संस्कृति में भगवान श्रीगणेश सर्वप्रथम पूजनीय और प्रार्थनीय हैं। भगवान श्री गणेश अग्र पूज्य, गणों के ईश गणपति, स्वस्तिक रूप तथा प्रणव स्वरूप हैं। उनकी पूजा के बगैर कोई भी मंगल कार्य शुरू नहीं होता। इन्हें विघ्न विनाशक और बुद्धि प्रदाता भी कहा जाता है। इसके स्मरण…

महिलाएं क्यों रखती हैं हरितालिका तीज का निर्जला व्रत?

Continue Readingमहिलाएं क्यों रखती हैं हरितालिका तीज का निर्जला व्रत?

उत्तर भारत में 'तीज' के नाम से महिलाओं का बहुत ही प्रचलित व्रत होता है हालांकि यह काफी कठिन होता है क्योंकि इस दिन महिलाओं को बिना अन्न व जल के पूरा दिन और रात रहना होता है। सूर्योदय के बाद से अगले सूर्योदय तक व्रत करने वाली महिला अन्न-जल…

End of content

No more pages to load