गेम जिहाद से धर्मांतरण का कुचक्र

धर्म की उत्पत्ति का मुख्य आधार मानव के जीवन से है अर्थात् जब से मनुष्य की उत्पत्ति हुई है इसके साथ साथ धर्म भी विकसित होता गया है. मानवीय जीवन में धर्म के पांच आधार है ज्ञान , प्रेम , न्याय , समर्पण और धीरज प्रत्येक मनुष्य का जन्म इन पांच अधारों को प्राप्त करने के लिए होता है . जैसे – जैसे मानव सभ्यता विकसित होकर राजनीति करने की ओर विकसित होने लगी वैसे वैसे धर्म की परिधि मनुष्य के नीजि जीवन से निकलकर सत्ता तक पहुंच गई, जिसके परिणाम स्वरूप जो सत्ता पर काबिज होता है वो जबरन प्रलोभन देकर अपनी जनता का धर्मान्तरण करवा लेता है.

धर्मान्तरण का इतिहास भारत में बहुत पुराना है, लिखित दस्तावेजों और साक्ष्यों के अनुसार औरंगजेब के शासन काल में सबसे अधिक क्रूरता से धर्मान्तरण करया गया था. स्वतंत्र भारत में जबरन धर्मान्तरण कराने पर तीन साल की कैद और बीस हजार रूपए जुर्माना जबकि नाबालिग एससी एसटी के मामले में चार साल की कैद और चालीस हजार रूपए जुर्माना का प्रावधान है. उड़िसा, कर्नाटक, उत्तरप्रदेश,उत्तराखंड, झारखंड, गुजरात जैसे राज्यों में धर्म परिवर्तन को लेकर अपने कानून भी है. इसके बावजूद लगातार भारत के मूल निवासियों और सनातन के अनुयायियों को अन्य धर्म में परिवर्तन किया जा रहा है.

बीते दिनों ऑनलाइन गेम के जरिए धर्मान्तरण की खबर से हड़कंप मच गया था. ऑनलाइन गेम खेलवाने की आड़ में चल रहे धर्मांतरण सिंडिकेट में गाजियाबाद पुलिस ने हाल ही में कार्रवाई की थी. डीसीपी निपुण अग्रवाल ने पीड़ित बच्चों से पूछताछ की तो पता चला कि धर्मान्तरण के तीन स्टेप थे-

फर्स्ट स्टेप में एक ऐसा गैंग एक्टिव था जो अन्य धर्मों के नाम से आईडी बनाकर मोबाईल या कम्प्यूटर पर Fort Nite ऐप पर गेम्स खेलता था. जब कुछ लड़के गेम हार जाते थे तो उन्हें कुरान की आयत पढ़वाई जाती थी और फिर उन्हें गेम जिताकर कुरान पर भरोसा दिलाया जाता था. सेकेंड स्टेप मे डिसकोर्ड ऐप के द्वारा मुस्लिम लड़के हिन्दू नाम की यूजर आईडी बनाकर हिन्दू लड़कों से चैटिंग करते थे और उन्हें इस्लामिक रीति रिवाज अपनाने के लिए बहलाते थे. थर्ड स्टेप में वे प्रतिबंधित इस्लामिक प्रवक्ता जाकिर नाईक के कुछ वीडियो स्पीच सुनाकर इस्लाम अपनाने के लिए प्रेरित करते थे. साथ ही वे इस्लामिक कल्चर के संबंध में जानकारी उपलब्ध कराते थे.

गाजियाबाद में ऑनलाइन गेमिंग के जरिए धर्म परिवर्तन का मामला सामने आने के बाद केन्द्र सरकार ने सभी गेमिंग ऐप का रिव्यू करने का फैसला लिया है. केन्द्रिय आईटी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा, भारत में तीन टाइप के गेम्स पर प्रतिबंध लगाया जाएगा.
गेम्स जिसमें सट्टेबाजी शामिल है
गेम्स जो हानिकारक हो सकते है
गेम्स जिनकी लत लग सकती है

संविधान प्रत्येक व्यक्ति को अपने धर्म को मानने, आचरण करने और प्रचार करने का मौलिक अधिकार प्रदान करते है. धर्मान्तरण के तहत व्यक्ति किसी अन्य धर्म वाले को अपने धर्म में शामिल करने का प्रयास करता है. अंत:करण और धर्म की स्वतंत्रता के व्यक्तिगत अधिकार का विस्तार धर्मान्तरण के सामूहिक अधिकार के अर्थ में नही किया जा सकता है.

हाल के दिनों में ऐसे कई उदाहरण सामने आए हैं. जिसमें लोग अपने धर्म को छुपाकर या गलत तरीके से दूसरे व्यक्ति के साथ शादी करते हैं और शादी के बाद धर्म परिवर्तन करने के लिए मजबूर करते है. न्यायालय के अनुसार इस तरह की घटनाएं न केवल धर्मान्तरित व्यक्तियों की धर्म की स्वतंत्रता का उल्लंघन करती हैं बल्कि हमारे समाज के धर्मनिरपेक्ष ताने बाने के खिलाफ है.

धर्म बेहद संवेदनशील मामला है जिससे छेड़छाड़ करने वाले पर सख्त सजा होनी चाहिए, जरूरी है ऐसे कानूनों को लागू करने की जो सरकार को यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि वे किसी व्यक्ति के मौलिक अधिकारों को सीमित न करते हो और न ही इनसे राष्ट्रीय एकता को क्षति पहुँचाती हो, ऐसे कानूनों के मामले में स्वतंत्रता एवं दुर्भागयपूर्ण धर्मान्तरण के मध्य संतुलन बनाना बहुत ही आवश्यक है.

व्यक्तिगत स्तर पर भी जरूरत है कि हरेक परिवार में बड़े बजुर्ग अपने घर के बच्चों को अपने धर्म के प्रति जागरूक बनाए. हिन्दूत्व और सनातन की विशेषता से रूबरू कराए जिससे पथ से भटक कर बहकावे में ना आए.

Leave a Reply