हिंदी विवेक : we work for better world...

टीजेएसबी सहकारी बैंक भारत की प्रमुख सहकारी बैंको में से एक है। बैंक विगत ४६ वर्षों से अपने ग्राहकों का विश्वास जीत कर उनकी सेवा के लिए हमेशा तत्पर रही है। बैंक के पास अपने ग्राहकों को देने लिए लगभग सभी प्रकार के डिजिटल प्रोडक्ट जैसे ई-बैंकिंग, आएमपीएस, पीओएस, आदि उपलब्ध हैं। हाल ही में बैंक यूपीआई पर आधारति मोबाइल एप ट्रांजएप लेकर आई है। टीजेएसबी सहकारी बैंक भारत की एकमेव सहकारी बैंक है जिसने स्वयम का यूपीआई एप निकाला है।

अब आप सोच रहे है होंगे कि यूपीआई है क्या? आपने सरकार द्वारा चलए जा रहे विज्ञापनों में देखा या सुना होगा कि यूपीआई (यूनिफाइड पेमेंट इंटरफ़ेस) भारत सरकार एवं आरबीआई के सौजन्य से लाया गया है। यूपीआई के सारे व्यवहारों की निगरानी एनपीसीआई द्वारा की जाती है। यूपीआई में अभी लगभग ३० बैंकों का समावेश है। यूपीआई के माध्यम से आप से एक बैंक से दूसरे बैंक खाते में लेनदेन का व्यवहार बहुत आसानी कर सकते हैं।

अब आप के दिमाग में प्रश्न उठ रहा होगा कि क्या यूपीआई बिलकुल ई-वालेट जैसा ही है? इसका उत्तर है बिलकुल नहीं। जब आप किसी व्यापारी को अपने ई-वालेट से भुगतान करते हैं तो पहले आपको अपने बैंक खाते से वालेट में पैसे ट्रांसफर करने पडते हैं। उसके पश्चात ही आप उस व्यापारी को भुगतान कर सकते हैं। इस व्यवहार के लिए ग्राहक तथा व्यापारी दोनों को ई-वालेट कंपनी को भी भुगतान करना पड़ता है। ठीक इसके विपरीत जब आप अपने यूपीआईएप से व्यापारी को भुगतान करते हैं तब पैसे सीधे आपके बैंक खाते से निकल कर व्यापारी के बैंक खाते में जमा हो जाते हैं। और यह सब होता कुछ ही सैकेंड में। सबसे बडी बात यह सेवा बिलकुल निशुल्क है।

ट्रांजएप, टीजेएसबी सहकारी बैंक का यूपीआई एप है। आप इसे आसानी से गूगल प्ले स्टोर से भारत के किसी डाउनलोड तथा उपयोग कर सकते हैं। यह यूपीआई एप अन्य यूपीआई एप की तरह वर्चुअल आई डी पर काम करता है। यह वर्चुअल आईडी आपके के किसी ई-मेल आईडी की तहर होता है। उदहारण के लिए आपका नाम सुनील है तो आपका वर्चुअल आईडी होगा ‘सुनील@टीजेएसबी’। आईडी अल्फ़ान्यूमेरिकल भी हो सकता है जैसे ‘सुनील@टीजेएसबी’। आप इस आईडी से अपने किसी अन्य बैंक (जो यूपीआई पर हैं) के खाते को भी जोड़ सकते हैं।

विमुद्रीकरण की घोषणा के बाद इस एप के डाउनलोड में तेजी से वृद्धि हो रही है। कैश की कमी के कारण बैंक ने ग्राहकों का ध्यान रखते हुए अपनी हर ब्रांच और आसपस के सभी महत्वपूर्ण स्थानों पर बैंक के इस डिजिटल प्रोडक्ट के बारे में जानकारी देना शुरू कर दिया है। बैंक के कई ग्राहक कैंपो का आयोजन किया जा रहा है। महाविद्यालय के विद्यार्थी हों या छोटे-बड़े व्यापारी, सब्जी विक्रेता, प्लम्बर, इलेक्ट्रीशियन, कारपेंटर या फिर ऑटो रिक्शा वाले; सभी ट्रांजएप्प से लाभ प्राप्त कर रहे हैं। हाल ही में ठाणे शहर की एक ऑटो रिक्शा चालकों की यूनियन के साथ मिलकर २५०० रिक्शा चालको को ट्रांजएप से जोड़ा गया।

* गूगलप्ले से ट्रांजएप डाउनलोड करें।
* अपना नाम डाले।
* आपका वर्चुअल आईडी(वीआईपी) चुने। इसे आप खुद तैयार करें। जैसे आपका नाम@टीजेएसबी।
* आपका ईमेल आईडी डालें।
* जन्मतिथि डाले।
* एक्सेप्ट एंड साईन इन पर क्लिक करें।
* आपके बैंक में रजिस्टर मोबाइल नंबर से एसएमएस भेजे।
* अगली स्क्रीन पर आप अपनी पसंद का ४ अंक पासवर्ड डालकर कन्फर्म करें।
* फिर सिक्योरिटी प्रश्न और उसका उत्तर लिखें। यदि आप अपना पासवर्ड भूल गए तो इससे पासवर्ड रिकव्हर हो जाएगा।
* इसके बाद वापस आपका पासवर्ड डालकर अगलीस्क्रीन पर जाएं।
* एड बैंक अकाउंट पर क्लिक करें।
* अपना बैंक चुनें और फिर आपके कार्ड डिटेल्स डालें। आपको एक ओटीपी मिलेगा।
* उस ओटीपी के साथ एमपिन (जो आपका आपका पासवर्ड भी हो सकता है) डालें।
* “बैंक अकाउंट सक्सेफुली लोडेड” ऐसा सन्देश आयेगा। इस पूरी प्रक्रिया में कहीं भी आपसे आप के बैंक खाते की जानकारी जैसे कि खाता नंबर या आईएफएससी कोड नहीं मांगी गई है। ट्रांजएप डाउनलोड करने से पूर्व आपको निम्न बातों का ध्यान रखना आवश्यक है।
* इसके लिए आपका टीजेएसबी में खाता होना आवश्यक नहीं है। यदि आपका खाता यूपीआई से जुडी किसी भी बैंक से है तो आप ट्रांजएप का इस्तेमाल कर सकते हैं।
* आप के पास स्मार्ट फोन (एन्ड्राईड) वर्शन ४.२.२ होना आवश्यक है।
* आप के पास मोबाइल बैंकिँग या डचड बैंकिँग से रजिस्ट्रेशन होना चाहिए।
* यदि आप के पास ड्युअल सिम वाला फ़ोन है तो पहले सिम के स्लॉट में बैंक में रजिस्टर्ड नंबर वाला सिम कार्ड डालें।
इस तहर आप कैशलेस इकॉनमी से जुड़ें तथा अपने परिवार व मित्रों को भी कैशलैस इकॉनामी के लिए प्रेरित करें। 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu