चीन एक ‘अलग-थलग’ और ‘मित्रविहीन’ भारत चाहता है

Continue Readingचीन एक ‘अलग-थलग’ और ‘मित्रविहीन’ भारत चाहता है

क्या भारत, चीन से निपट सकता है? यह प्रश्न बीते छह दशकों से प्रासंगिक है। क्या इस संकट का समाधान उन नीतियों में छिपा है, जिसका अनुसरण मई 2014 से पहले 13 पूर्ववर्ती प्रधानमंत्री कर चुके है?— इसके परिणामस्वरूप ही आज भी 38 हजार वर्ग कि.मी. भारतीय भूखंड पर चीनी…

विकसित राष्ट्र की आधारशिला रखने वाला बजट

Continue Readingविकसित राष्ट्र की आधारशिला रखने वाला बजट

भारत का अमृत काल प्रारम्भ हो चुका है और वर्ष 2047 में भारत अपनी स्वाधीनता के 100 वर्ष पूरे कर रहा होगा। उस समय तक भारत को विश्व के मानचित्र पर एक विकसित राष्ट्र के रूप में स्थापित करने की प्रेरणा देश के प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी ने…

वैश्विक अर्थव्यवस्था पर होगी निर्भरता कम

Continue Readingवैश्विक अर्थव्यवस्था पर होगी निर्भरता कम

भारत सरकार द्वारा ‘मेक इन इंडिया’ और ‘आत्मनिर्भर भारत योजना’ को अत्यधिक बढ़ावा देने के कारण देश की आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था की गति वैश्विक स्तर पर तीव्रतम हो गई है। साथ ही, जीएसटी के कारण निवेशकों को अन्य देशों की अपेक्षा भारत में कर की बचत हो रही है, जिस वजह…

अमेरिका : रसोई में भोजन बनाना छोड़ने का दुष्परिणाम

Continue Readingअमेरिका : रसोई में भोजन बनाना छोड़ने का दुष्परिणाम

अमेरिका में क्या हुआ जब घर में खाना बनाना बंद हो गया? 1980 के दशक के प्रसिद्ध अमेरिकी अर्थशास्त्रियों ने अमेरिकी लोगों को चेतावनी कि यदि वे परिवार में आर्डर देकर बाहर से भोजन मंगवाएंगे तो परिवार व्यवस्था धीरे धीरे समाप्त हो जाएगी।साथ ही दूसरी चेतावनी दी कि यदि उन्होंने…

2023 में भारत देगा वैश्विक अर्थव्यवस्था को गति

Continue Reading2023 में भारत देगा वैश्विक अर्थव्यवस्था को गति

अभी हाल ही में अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक फण्ड (आईएमएफ) ने बताया है कि वर्ष 2023 में वैश्विक स्तर पर विशेष रूप से चीन, अमेरिका एवं यूरोपीयन यूनियन से प्राप्त हो रहे आर्थिक क्षेत्र से सम्बंधित संकेतों के अनुसार इन देशों सहित विश्व की एक तिहाई अर्थव्यवस्थाओं पर मंदी का असर दिखाई…

आर्थिकी के 75 साल

Continue Readingआर्थिकी के 75 साल

आज सभी देशों की अर्थव्यवस्था कोरोना महामारी के कारण तहस-नहस हो गई है, जिसमें भारत भी शामिल है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के अनुसार वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही और आगामी तिमाहियों में नकारात्मक वृद्धि दर्ज होने के बावजूद भारत की विकास दर वर्ष 2021 में 11% रहने का अनुमान है।

हिन्दू त्यौहार और उनसे जुड़े आर्थिक समीकरण

Continue Readingहिन्दू त्यौहार और उनसे जुड़े आर्थिक समीकरण

दुर्गा पूजा और नवरात्रि पर शुरू हुआ भारत के त्योहारों का एक मौसम दीपावली के बाद भाई दूज पर आकर थोड़ी देर ठहरता है। ठहरता इसलिय क्योंकि त्यौहार यहीं ख़त्म नहीं होते। ये जरूर कहा जा सकता है कि दुर्गा-पूजा के अवसर पर कपड़ों की खरीदारी होती है और परम्परागत…

आत्मनिर्भरता से ही बनेगा नया भारत

Continue Readingआत्मनिर्भरता से ही बनेगा नया भारत

देश को सामाजिक, आर्थिक विकास एवं पारदर्शी और जवाबदेह शासन प्रदान करने के लिए मोदी सरकार प्रतिबद्ध है। आत्मनिर्भर भारत इस तरह नए भारत की ही संकल्पना है। मोदी जी के नेतृत्व में भारत के सतत विकास के पथ पर आगे बढ़ने और नई ऊंचाइयों को छूने की उम्मीद है।

कांग्रेस के लिये मुसीबत बनते चिदंबरम!

Continue Readingकांग्रेस के लिये मुसीबत बनते चिदंबरम!

चिदंबरम के विरुद्ध लुक आउट नोटिस जारी करना भी सीबीआई का आश्चर्यजनक कदम था ,परंतु सीबीआई को यह विकल्प चुनने के लिए दरअसल चिदंबरम ने ही विवश किया।

बड़े लक्ष्य और आम आदमी का सरोकार

Continue Readingबड़े लक्ष्य और आम आदमी का सरोकार

वर्तमान वर्ष के बजट में हमने जीडीपी में लम्बी छलांग लगाने समेत कई बड़े लक्ष्य रखे हैं। लेकिन आम आदमी के सरोकारों पर भी गौर करना होगा। यदि उसकी क्रय शक्ति न बढ़ी तो सारे प्रयास व्यर्थ हो जाएंगे। हालांकि, मोदी सरकार के आत्मविश्वास की स्पष्ट झलक बजट में दिखाई देती है। 

देश को लूट लिया इन घोटालेबाजों ने

Continue Readingदेश को लूट लिया इन घोटालेबाजों ने

जिस देश में बैंक का कर्ज चुका न पाने के कारण एक तरफ किसान आत्महत्या को बाध्य होते हों वहां बैंकों को हजारों करोड़ की चपत लगाने वाले पूंजीपति कानून को ठेंगा दिखाते हुए भोग-विलास कर रहे हों तो बात सोचने की हो जाती है। हर्षद मेहता, केतन पारेख से लेकर नीरव मोदी और मेहुल चोकसी तक ऐसे घोटालेबाजों की सूची पहुंचती है।

बैंकिंग क्षेत्र में सुधार लाने की पहल करता बजट

Continue Readingबैंकिंग क्षेत्र में सुधार लाने की पहल करता बजट

मोदी सरकार बैंकिंग क्षेत्र में सुधार लाने के लिए गंभीरता से प्रयास कर रही है। ...सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के पुनर्पूंजीकरण हेतु पूंजी उपलब्ध कराने, आईबीसी के तहत वसूली में तेजी लाने और बैंकों के एकीकरण से बैंकों की सेहत में सुधार आएगा।

End of content

No more pages to load