बीरबल ने पकड़ा चोर

बीरबल की चतुराई से सभी हैरान थे. जब भी कोई परेशानी होती, तो बीरबल को ही याद किया जाता. जब कोई समस्या आती, तो बीरबल को ही हल निकलाने के लिए कहा जाता. एक बार राजा अकबर के प्रदेश में चोरी हई. चोर ने एक व्यापारी का बहुत ही कीमती सामान चुरा लिया था. व्यापारी यह तो जानता था कि चोर उसके 10 नौकरों में से ही एक है, लेकिन कौन है, यह वो पता नहीं लगा पा रहा था.

चोर को पकड़ने के लिए व्यापारी राजा अकबर के पास गया और उसने अपनी परेशानी बताई. राजा जानते थे कि इस व्यापारी की समस्या का हल स़िर्फ एक ही इंसान के पास है, वो है- बीरबल. राजा ने कहा क्यों न बीरबल की मदद ली जाए. व्यापारी बीरबल के पास गया और उसने बीरबल को सारी बातें बताई.

बीरबल ने भी व्यापारी को मदद का आश्‍वासन दिया और सिपाहियों से कहा कि सभी 10 नौकरों को पकड़कर जेल में डाल दिया जाए. सिपाहियों ने सभी नौकरों को पकड़ कर जेल में डाल दिया. फिर बीरबल ने सबसे पूछा कि चोरी किसने की है, लेकिन किसी भी नौकर ने यह नहीं माना कि वही चोर है.

बीरबल ने सोचा कि ये लोग ऐसे नहीं मानेंगे, कुछ तरकीब ही लगानी पड़ेगी. बीरबल बाहर गए और कुछ देर बाद दस समान लंबाई की छड़ी लेकर आए और सभी 10 लोगों को एक-एक छड़ी पकड़ा दी. छड़ी पकडाते हुए बीरबल ने कहा कि ये कोई साधारण छड़ी नहीं है, जिस भी इंसान ने चोरी की होगी, कल सुबह तकउसकी छड़ी 2 इंच बड़ी हो जाएगी. यह कह कर बीरबल चले गए.

अगले दिन बीरबल सुबह होते ही जेल गए और सभी नौकरों की छड़ी को देखने लगे. उन्होंने जब ध्यान से देखा, तो पता चला कि उनमें से एक नौकर की छड़ी 2 इंच छोटी थी. यह देखते ही बीरबल ने फ़ौरन कहा- यही चोर है!

व्यापारी असमंजस में था, उसने बीरबल से पूछा कि कैसे उन्हें पता चला कि चोर वही है? बीरबल ने कहा कि मैंने कल सबको कहा था कि ये छड़ी मामूली नहीं है, जो भी असली चोर होगा, उसकी छड़ी कल तक 2 इंच लंबी हो जाएगी, इसलिए चोर ने अपने छड़ी के 2 इंच बड़े हो जाने के डर से रात को ही छड़ी को 2 इंच छोटा कर दिया था, ताकि अगर वो लंबी भी हुई, तो किसी को पता नहीं चलेगा. व्यापारी बीरबल की बुद्धिमता की प्रशंसा किए बिना न रह सका.

सीख: झूठ बोलनेवाला या चोर कितना ही शातिर क्यों न हो, उसका झूठ या चोरी पकड़ने का कोई न कोई तरीक़ा ज़रूर होता है, बस आपको धैर्य से और सूझबूझ से काम लेना होता है.

 

आपकी प्रतिक्रिया...