fbpx
हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

चौपाल की चहल-पहल और सूनापन

Continue Reading

मैं बुन्देलखण्ड के एक गांव की चौपाल हूं। यहां की स्थानीय बोली में चौपाल को ‘अथाई’ कहते हैं जो शायद ‘अस्थायी’ का अपभ्रंश है, क्योंकि यहां की चहल-पहल अस्थायी और अनियमित रहती है। यहां कुछ भी पहले से निश्चित नहीं होता। लोग अनायास एक

End of content

No more pages to load

Close Menu