संघप्रमुख का कहा राष्ट्रवादी मुस्लिमों को स्वीकार

Continue Readingसंघप्रमुख का कहा राष्ट्रवादी मुस्लिमों को स्वीकार

"तोड़ दूंगा ये सारे बुत ए खुदा पहले यह तो बता तुझको इनसे इतनी जलन क्यों है। आए हैं कहां से ये बुत तेरी ही बनाए हुए पत्थरों और मिट्टियों से पहले यह तो बता की उन पत्थरों और मिट्टियों में क्या तू नही है?" किसी शायर का ये शेर…

सुपर फ़ूड मोटे अनाज की प्राकृतिक कृषि

Read more about the article सुपर फ़ूड मोटे अनाज की प्राकृतिक कृषि
Indian farmer plowing rice fields with a pair of oxen using traditional plough at sunrise.
Continue Readingसुपर फ़ूड मोटे अनाज की प्राकृतिक कृषि

23 दिसंबर: राष्ट्रीय किसान दिवस पर विशेष सुपर कृषक बनने का मार्ग: सुपर फ़ूड मोटे अनाज की प्राकृतिक कृषि देश में मोटे अनाजों की कृषि, उत्पादन व उपभोग को पर केंद्रित इस लेख के पूर्व यह कविता पढ़िए - यह रागी हुई अभागी क्यों? चावल की किस्मत जागी क्यों? जो…

बाबरी विध्वंस और मंदिर निर्माण की राष्ट्र यात्रा

Continue Readingबाबरी विध्वंस और मंदिर निर्माण की राष्ट्र यात्रा

भारतीय राजनीति में 6 दिसम्बर का उल्लेखनीय महत्व है। इस दिन देश में हजारों सालों से हाशिए पर रहे वंचित वर्ग के उन्नायक डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर का परिनिर्वाण दिवस है। साथ ही, भारतीय संस्कृति के प्रतीक प्रभु श्रीराम की जन्मभूमि पर हुए विदेशी अतिक्रमण को हटाने की शुरुआत भी इसी दिन हुई थी। बाबासाहेब द्वारा बनाए गए संविधान की छाया में आज भव्य राम मंदिर का निर्माण कार्य  हो रहा है।

राष्ट्ररक्षा का भाव ही वनवासी समाज का मूल स्वभाव है

Continue Readingराष्ट्ररक्षा का भाव ही वनवासी समाज का मूल स्वभाव है

जनजातीय समाज का भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में अपना व्यापक, विस्तृत व विशाल योगदान रहा है। विदेशी आक्रान्ताओं के विरुद्ध वर्ष 812 से लेकर 1947 तक भारत की अस्मिता के रक्षण हेतु इस  समाज के हजारों लाखों यौद्धाओं ने अपना सर्वस्व बलिदान किया है। जनजातीय समाज की आतंरिक सरंचना ही कुछ इस प्रकार की विलक्षण है कि यह सदैव स्वयं को देश की मिट्टी से जुड़ा हुआ पाता है। इस समाज की प्रत्येक पीढ़ी ने केवल जनजातीय परम्पराओं और राज्यों के लिए ही संघर्ष नहीं किया बल्कि वनों से लेकर नगरीय समाज तक प्रत्येक देशज  तत्व की विदेशियों से रक्षा का कार्य इन्होने किया है। स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव वर्ष में जनजातीय समाज की अद्भुत गौरवशाली सैन्य, सांस्कृतिक, सामाजिक, कला, नाट्य, वास्तु, खाद्ध्य परंपरा, चित्रकला, शस्त्र विद्या, आपताकाल में कूट शब्दों में संवाद, वनप्रेम, प्रकृति पूजा, पशुप्रेम व आदि जैसे अनेकों अनूठे व विलक्षण गुणों की चर्चा आवश्यक हो जाती है।

भारत ता तल्ला डा सांस्कृतिक टीका (भारत के माथे का सांस्कृतिक तिलक)

Continue Readingभारत ता तल्ला डा सांस्कृतिक टीका (भारत के माथे का सांस्कृतिक तिलक)

भारत की हृदयस्थली मध्य प्रदेश संस्कृति और जीवन की विविधताओं को अपने अंदर समाहित किए हुए है। यहां की जीवनशैली और मेहनतकश प्रवृत्ति राष्ट्र के विकास में महत्त्वपूर्ण योगदान दे रही है। मंदिरों, पवित्र नदियों और अन्य दर्शनीय स्थलों का संगम यह भूमि हमेशा से ही विश्व भर के सांस्कृतिक पर्यटकों की पसंदीदा जगह रही है।

भारत में वैचारिक धुंधकाल

Continue Readingभारत में वैचारिक धुंधकाल

राजनीतिक स्तर पर वामपंथ फलक से गायब होता जा रहा है लेकिन वह अलग-अलग तथा ज्यादा खतरनाक और विध्वंसक तरीके से सामने आ रहा है। समाज को तोड़ने के लिए चलाए जा रहे इनके अभियान इतने सूक्ष्म तरीके से चलाए जा रहे हैं कि आम जन को पता ही नहीं चल पाता कि यह एक वामपंथी नैरेटिव है। इन देश विरोधी गतिविधियों पर रोक लगाया जाना आवश्यक है।

नमो स्वतंत्र भारत की ध्वजा, नमो, नमो

Continue Readingनमो स्वतंत्र भारत की ध्वजा, नमो, नमो

रामधारी सिंह जी दिनकर ने यह कविता रची थी। तिरंगे को समर्पित यह कविता किस प्रकार आज नरेंद्र मोदी के नमो को उच्चारित और मंडित करती है। यह एक चमत्कार ही है। नरेंद्र मोदी जी को भी नमो कहते हैं। दिनकर की के शब्द तो तिरंगे को ही समर्पित हैं किंतु इसमें गूंजता नमो राग का आज के नमो से साम्य किसी दैवीय संयोग से कम नहीं लगता.. आज यह कविता उन Narendra Modi जी को समर्पित, जो तिरंगे के सम्मान हेतु इस कविता के प्रत्येक शब्द को अपनी सांसों से जीवंत करते हैं।

स्वामी विवेकानन्द का शिकागो भाषण, भविष्य का रोडमैप

Continue Readingस्वामी विवेकानन्द का शिकागो भाषण, भविष्य का रोडमैप

स्वामी जी ने जब शिकागो में अपने विचारों को व्यक्त करते हुए कहा था कि राष्ट्रवाद का मूल, धर्म व संस्कृति के विचारों में ही बसता है, तब सम्पूर्ण पाश्चात्य विश्व ने उनके इस विचार से सहमति व्यक्त की थी और भारत के इस युग पुरुष के इस विचार को अपने-अपने देशों में जाकर प्रचारित और प्रसारित करते हुए भारतीय संस्कृति के प्रति सम्मान प्रकट किया था। पिछले ही वर्षों मे जब बाइबिल की 400 वीं वर्षगाँठ के अवसर पर ब्रिटिश प्रधानमन्त्री डेविड कैमरन ने कहा था कि ब्रिटेन एक ईसाई राष्ट्र है और इसे कहने में किसी को कोई भय या संकोच नहीं होना चाहिएब्रिटिश प्रधानमन्त्री ने कहा था कि ब्रिटेन एक ईसाई राष्ट्र है और इसे कहने में किसी को कोई भय या संकोच नहीं होना चाहिए; तब निश्चित ही उनकी इस घोषणा की पृष्ठभूमि में विवेकानंद जी का यह विचार ही था।

राष्ट्र जागरण का पर्व गणेशोत्सव और लो.तिलक

Continue Readingराष्ट्र जागरण का पर्व गणेशोत्सव और लो.तिलक

 इस प्रकार हमारे गणेश उत्सव का धार्मिक ही नहीं अपितु सामाजिक व राष्ट्रीय महत्त्व रहा है। इस उत्सव को मनाने वाले हम हिंदू बंधुओं का भी दायित्व बनता है कि हम इस उत्सव को सामाजिक समरसता स्थापित करने, जातिगत भेदभाव मिटाने और राष्ट्रीयता के भाव को स्थापित करने की दिशा में एक शस्त्र की तरह उपयोग करें। आज के दौर में आवश्यकता है कि इस उत्सव के  माध्यम से हिंदुत्व के परम प्रयोगवादी, प्रगतिवादी व परम प्रासंगिक रहने के सारस्वत भाव की प्राण प्रतिष्ठा की जाए। गणेश पंडालों से, स्थापना व विसर्जन की शोभायात्राओं को फ़िल्मी गीतों, नृत्योंम शराब व अन्य व्यसनों से दूर रखा जाए; यही लोकमान्य तिलक व वीर सावरकर जैसे अनेक स्वातंत्र्य योद्धाओं को हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी।  महाराष्ट्र के लगभग 50 हजार सार्वजनिक गणेश पंडाल व देश भर के लगभग तीन लाख पंडालों में स्वाधीनता के अमृत महोत्सव को भी उत्साह के साथ मनाया जाए तो राष्ट्रीयता को नए प्राणतत्व मिलेंगे। स्वाधीनता के अमृत महोत्सव वर्ष में हम गणपति बप्पा से आराधना करें कि स्वतंत्रता के सौवें वर्ष के आने से पूर्व भारत माता अपने परम वैभव के शिखर पर विराजमान हो व हम एक विकसित व सर्वशक्तिशाली राष्ट्र बन जाए। 

इंडीजेनस डे का खंडन करता है बिरसा मुंडा का उलगुलान

Read more about the article इंडीजेनस डे का खंडन करता है बिरसा मुंडा का उलगुलान
B 5047
Continue Readingइंडीजेनस डे का खंडन करता है बिरसा मुंडा का उलगुलान

मूलनिवासी दिवस या इंडिजिनस पीपल डे एक भारत मे एक नया षड्यंत्र है। सबसे बड़ी बात यह कि इस षड्यंत्र को जिस जनजातीय समाज के विरुद्ध किया जा रहा  है, उसी जनजातीय समाज के कांधो पर इसकी शोभायमान पालकी भी चतुराई पूर्वक निकाली जा रही है। वस्तुतः प्रतिवर्ष इस दिन यूरोपियन्स और पोप को आठ करोड़ मूल निवासियों का निर्मम नरसंहार करने के लिए क्षमा मांगनी चाहिए। यह दिन यूरोपियन्स के लिए पश्चाताप व क्षमा का दिन है। यह दिन चतुर गोरे ईसाई व्यापारियों द्वारा भोलेभाले जनजातीय समाज को  मार काट करके उनकी भूमि छीन लिए जाने का शर्मनाक दिन है। यूरोपियन्स ने इस दिन को षड़यंत्रपूर्वक उत्सव का दिन बना दिया और आश्चर्य यह कि भारत का वनवासी समाज भी इस कुचक्र में फंस गया है।

गुरु भी रहते हैं योग्य शिष्य की खोज में

Continue Readingगुरु भी रहते हैं योग्य शिष्य की खोज में

ऐसा नहीं है कि केवल शिष्य को सद्गुरु की तलाश रहती है, बल्कि गुरु को भी एक योग्य शिष्य की उतनी ही आवश्यकता होती है ताकि वह अपने उच्च मानकों को समाज के सम्मुख प्रतिपादित कर सके। इतिहास में ऐसे असंख्य उदाहरण बिखरे पड़े हैं जो इस ओर समाज का ध्यान खींचते हैं और मार्गदर्शन भी करते हैं।

राजनैतिक दल डिलिस्टिंग के पक्ष में या विरोध में ?

Continue Readingराजनैतिक दल डिलिस्टिंग के पक्ष में या विरोध में ?

जनजातीय मुद्दों पर प्रतिदिन अपने स्वार्थ की रोटियां सेंकने वाले विभिन्न संगठन व राजनैतिक दल डिलिस्टिंग जैसे संवेदनशील मुद्दे पर चुप क्यों हैं? स्पष्ट है कि वे कथित धर्मान्तरित होकर जनजातीय समाज के साथ छलावा और धोखा देनें वाले लोगों के साथ खड़े हैं। ये कथित दल, संगठन और एनजीओ…

End of content

No more pages to load