सिक्किम में जैविक खेती एक भुलावा

Continue Reading सिक्किम में जैविक खेती एक भुलावा

जैविक खेती के प्रति अति मोह और राजनीतिक स्टंटबाजी के कारण सिक्किम में अनाज उत्पादन बहुत तेजी से घटता चला गया। राज्य को दूसरे राज्यों से बड़े पैमाने पर अनाज लाना पड़ता है। बढ़ती आबादी के संदर्भ में इस स्थिति पर गौर और पुनर्विचार किया जाना चाहिए।

खेती पर बल, केंद्र में किसान

Continue Reading खेती पर बल, केंद्र में किसान

कृषि व संबद्ध क्षेत्रों को लेकर मोदी सरकार की पूरी कोशिश यही है कि किसान परेशान नहीं रहे। इसीको ध्यान में रखते हुए आम बजट 2018-19 के केंद्रबिंदु में किसानों को रखा गया। इरादा है सन 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करना।

खेती का सच

Continue Reading खेती का सच

वर्तमान समय में भारतीय कृषि हरित क्रांति के समय की अपेक्षा ढांचागत स्तर पर अलग तथा मजबूत है। यहां कुछ ऐसा है जो हमें भारतीय कृषि के प्रति आशान्वित करता है। जर्मनी की राजनीतिक विज्ञानी एलिजाबेथ नेवेल नुमानन ने ‘चुप्पी का वर्तुल‘ नामक सिद्धांत पेश किया है, जिसका माने है…

कृषि को भी समुचित महत्व दें

Continue Reading कृषि को भी समुचित महत्व दें

सम्पूर्ण व्यावसायिक निर्यात की वैश्विक रैंकिंग में बुरी तरह से पिछड़ते हुए भारत का १९ वां स्थान है वहीं कृषि उत्पाद के निर्यात के मामले में आश्चर्यजनक रूप से छठा स्थान है। वित्तीय साक्षरता की ही भांति हर भारतीय के लिए कृषि का ज्ञान होना भी आवश्यक है।विगत व

End of content

No more pages to load