जी हां, गांधी को समझना हो तो संघ की शाखा में आइए

Continue Reading जी हां, गांधी को समझना हो तो संघ की शाखा में आइए

गांधी को आज के समय में समझना हो तो संघ के स्वयंसेवक के साथ सेवा बस्तियों में जाइए, शाखा में देशभक्ति के गीत गाइए, संघ प्रेरित गौशालाओं में गौ सेवा करिए, विद्या भारती के विद्यालयों में राष्ट्रभक्ति के उपक्रम देखिए, वनवासी कल्याण आश्रम के कार्यकर्ताओं के साथ रहिए, तब गांधी समझ में आ जाएंगे।

सिया राम मय अवनि अम्बर, और अयोध्या धुरी महत्तर

Continue Reading सिया राम मय अवनि अम्बर, और अयोध्या धुरी महत्तर

जिन हिन्दुओं को, जिन भारतीयों को यह क्षण देखने, उसका साक्षी बनने, उसे अनुभव करने का सौभाग्य मिला है उस क्षण के सौभाग्य की तुलना सबके सहस्त्रों वर्षों के पुण्य से हो सकती है। यह भारत माता के प्रति अनन्य भक्ति का पुण्य है।

कोरोना संकट के दौरान मोदी का नेतृत्व अमृतमय अवदान

Continue Reading कोरोना संकट के दौरान मोदी का नेतृत्व अमृतमय अवदान

नयन बोल नहीं पाते और कलम देख नहीं पाती। वरना जो दृश्य इस स्तंभ को लिखते समय मन में कोलाहल निर्मित कर बैठे, वे कागज पर उतर आते।

कोरोना जैसी विषाक्त है तब्लीगी मानसिकता

Continue Reading कोरोना जैसी विषाक्त है तब्लीगी मानसिकता

यह वही मानसिकता है जिसके कारण कश्मीर से पांच लाख हिन्दुओं को तड़पा तड़पा कर मारने , स्त्रियों को अपमानित करने के  बाद उनको उनके अपने पुश्तैनी घरों से निकाल दिया गया। 

   मोदी युग सभ्यता मूलक परिवर्तन का संकेत

Continue Reading    मोदी युग सभ्यता मूलक परिवर्तन का संकेत

   नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की असाधारण और अभूतपूर्व विजय ने भारत ही नहीं विश्व की राजनीति में एक नया अध्याय जोड़ा है। अन्य देशों में ऐसा मौलिक परिवर्तन लाने में सैकड़ों वर्ष और हिंसक क्रांतियों की आवश्यकता हुई थी। भारत की हिंदू सांस्कृतिक धारा ने अंगुली पर तिलक लगाकर भारत को बदलने का आरंभ कर दिया।

मनोहर पर्रीकर कुछ अलग ही बिंदास अंदाज

Continue Reading मनोहर पर्रीकर कुछ अलग ही बिंदास अंदाज

जिस राजनीति में धन और पद का अहंकार नेता जी की पहली पहचान बन गई है, वहां पर्रीकर एक गजब के अपवाद थे जिनकी सादगी और अपनेपन ने राजनीति के साधक रूप का दर्शन कराया।

इस भारत को जीतना ही होगा

Continue Reading इस भारत को जीतना ही होगा

जैसे मरुथल में अचानक मलय की बयार बहे, वैसे संसद में नरेंद्र मोदी का भाषण हुआ। कांग्रेस के कई नेता मुझसे मिले और बोले कि जो मोदी ने कहा वे शब्द सुनने के लिए उनके कान तरस गए थे।

युग बदला, सिर्फ सत्ता नहीं

Continue Reading युग बदला, सिर्फ सत्ता नहीं

यह कहना भी कम लगता है कि इतिहास रचा गया। वास्तव में ऐसा लगता है कि 1857 की भारतीय फौज 157 साल बाद जीती और अंग्रेजों की काली छाया से मुक्ति मिली।

End of content

No more pages to load