लातूर भूकंप की 28वीं बरसी: जब सो रहे लोगों पर बरपा था कहर

Continue Readingलातूर भूकंप की 28वीं बरसी: जब सो रहे लोगों पर बरपा था कहर

30 सितंबर 1993 की वह काली रात जिसने हजारों लोगों को काल के गाल में समा दिया। महाराष्ट्र के लातूर वासियों के लिए यह दिन किसी काले दिन से कम नहीं है जिसका दर्द वह आज भी दिलों में लिए घूम रहे है। 30 सितंबर 1993 को महाराष्ट्र के लातूर में…

धरती क्यों डोलती है?

Continue Readingधरती क्यों डोलती है?

11 मार्च, 2011 को जापान में आए भूकम्प की तीव्रता 8.9 आकी गई थी। भूकम्प के विनाशकारी परिणाम के आंकड़ेें भूकम्प के बाद कई घंटों बाद पता चलते हैं तथा चर्चा में भी रहते हैं।

End of content

No more pages to load