कोरोना को लेकर अब घबराने की जरूरत नहीं

Read more about the article कोरोना को लेकर अब घबराने की जरूरत नहीं
FILE PHOTO: A woman holds a small bottle labelled with a "Coronavirus COVID-19 Vaccine" sticker and a medical syringe in this illustration taken October 30, 2020. REUTERS/Dado Ruvic/File Photo
Continue Readingकोरोना को लेकर अब घबराने की जरूरत नहीं

दुनिया में एक बार फिर तेज़ी से कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ने की खबरें हैं। खासतौर से चीन के बारे में कहा जा रहा है कि वहाँ जिस रफ़्तार से वायरस का एक नया वेरिएंट फ़ैल रहा है, वहां इससे पहले देखा नहीं गया। चीन के अलावा अमेरिका, जापान, दक्षिण…

अराजकता से घिरा पाकिस्तान

Continue Readingअराजकता से घिरा पाकिस्तान

पाकिस्तान की राजनीति में हिंसा हमेशा से ही बड़ा रोल निभाती रही है। प्रशासन के सभी अंगों के बीच की तनातनी के कारण वहां विकास की लहर कायदे से पहुंच ही नहीं पाई। वहां की आंतरिक उथल-पुथल उनके द्वारा पोषित आतंकवाद की छाया भी हम पर हमेशा पड़ती रही है, परंतु वर्तमान भारत सरकार ने पाकिस्तान को हर मोर्चे पर शिकस्त देने की तैयारी कर ली है।

भारतीय सांस्कृतिक सम्पदा की वापसी

Continue Readingभारतीय सांस्कृतिक सम्पदा की वापसी

भारत की अमूल्य सम्पदाएं मूर्तियों एवं कलाकृतियों के रूप में दुनियाभर के देशों खासकर इंग्लैंड के संग्रहालयों में बिखरी पड़ी हैं। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों से पिछले कुछ वर्षों में उनकी घर वापसी में तेजी आई है लेकिन अब समय आ गया है कि कोहिनूर समेत विश्व विख्यात वस्तुओं की वापसी के प्रति भी सकारात्मक रवैया अपनाया जाए।

पलटवार के लिए अनुकूल समय

Continue Readingपलटवार के लिए अनुकूल समय

कश्मीर के मुद्दे को पाकिस्तान जबरदस्ती हॉट केक बनाकर अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पेश करता है जबकि उसके यहां पर बलूचों के अधिकारों का खुले आम उल्लंघन होता रहता है। भारत के पास मौका है कि वह भी उन तमाम मुद्दों को लेकर पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर खींचे तथा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) को स्वतंत्र कराने का प्रयत्न करें।

वैश्विक क्षितिज पर भारतीय सूर्योदय

Continue Readingवैश्विक क्षितिज पर भारतीय सूर्योदय

पिछले कुछ वर्षों में भारत ने वैश्विक स्तर पर अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज करवाई है। वैसे तो भारत शुरू से ही किसी गुट में जाने से बचा रहा लेकिन रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान सभी महाशक्तियों की दृष्टि हमारी ओर ही रही। स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव वर्ष एक संकल्प पत्र की भांति है, कि आने वाले वर्षों में भारत सर्व प्रमुख ‘सुपर पावर’ बन कर उभरे।

ट्विटर और टेस्ला-प्रमुख एलन मस्क का विवादित सौदा

Continue Readingट्विटर और टेस्ला-प्रमुख एलन मस्क का विवादित सौदा

सोशल मीडिया कंपनी ट्विटर और टेस्ला-प्रमुख एलन मस्क के बीच 44 अरब डॉलर का सौदा खटाई में पड़ गया है। अब यह मामला लम्बी कानूनी लड़ाई का रूप लेने जा रहा है। इसमें दोनों पक्षों के अरबों डॉलर स्वाहा होंगे। ट्विटर के चेयरमैन ब्रेट टेलर का कहना है कि ट्विटर…

धार्मिक मान्यताओं को ठेस पहुँचाई जानी चाहिए?

Continue Readingधार्मिक मान्यताओं को ठेस पहुँचाई जानी चाहिए?

क्या यह मध्य युग की वापसी है जब धार्मिक विचारों को लेकर बड़े-बड़े हत्याकांड हो रहे थे? या उस खुली बहस का प्रस्थान-बिंदु है, जो कभी न कभी तो होगी। ‘शार्ली एब्दो’ पर हुए हमले के बाद आतंकवाद की निंदा करने के अलावा कुछ लोगों ने यह सवाल भी उठाया था कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की सीमा क्या हो? क्या किसी की धार्मिक मान्यताओं को ठेस पहुँचाई जानी चाहिए? फ्री स्पीच के मायने क्या कुछ भी बोलने की स्वतंत्रता है?

शिंज़ो आबे ने दी भारत-जापान मैत्री को नई ऊँचाई

Continue Readingशिंज़ो आबे ने दी भारत-जापान मैत्री को नई ऊँचाई

शिंज़ो आबे की हत्या की खबर से भारत स्तब्ध है। भारतीय जनता के मन में जो सम्मान जापान के प्रति है, वह किसी दूसरे देश के लिए नहीं है। हाल के वर्षों में शिंज़ो आबे के कारण यह सम्मान और ज्यादा बढ़ा है। ऐसे दोस्त को खोकर भारत दुखी है। इस हत्या के राजनीतिक परिणाम भी होंगे। खासतौर से सुदूर पूर्व और हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चल रहे घटनाक्रम पर इसका असर जरूर होगा।

दुनिया का सबसे बड़ा युद्धाभ्यास ‘रिम्पैक’

Continue Readingदुनिया का सबसे बड़ा युद्धाभ्यास ‘रिम्पैक’

वैसे तो प्रशांत महासागर क्षेत्र में होने वाला रिम्पैक युद्धाभ्यास 1971 से हो रहा है लेकिन इस वर्ष उसका सामरिक महत्त्व बढ़ गया है।  26 देशों का यह संयुक्त नौसेना अभ्यास चीन के आक्रामक रुख के खिलाफ एक घेराव साबित होगा।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का बढ़ता दायरा

Continue Readingआर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का बढ़ता दायरा

भारत के समानव अंतरिक्ष-अभियान गगनयान की पहली परीक्षण उड़ान जल्द ही होने वाली है। शुरुआती उड़ान में अंतरिक्ष-यात्री नहीं होंगे, पर जब जाएंगे तब उनके साथ ‘व्योममित्र’ नामक एक रोबोट भी अंतरिक्ष जाएगा। यह रोबोट पूरे यान के मापदंडों पर निगरानी रखेगा। इसमें कोई नई बात नहीं है, केवल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बढ़ते दायरे की ओर इशारा है।

नई विश्व-व्यवस्था की खोज

Continue Readingनई विश्व-व्यवस्था की खोज

पेट्रोलियम की भूमिका समाप्त होगी, तो उससे जुड़ी शक्ति-श्रृंखलाएं भी कमजोर होंगी। उनका स्थान कोई और व्यवस्था लेगी। हम मोटे तौर पर पेट्रो डॉलर कहते हैं, वह ध्वस्त होगा तो उसका स्थान कौन लेगा? यह परिवर्तन नई वैश्विक-व्यवस्था को जन्म देगा। भारत का भी महाशक्ति के रूप में उदय होगा। संरा सुरक्षा परिषद की व्यवस्था में बदलाव का प्रस्ताव है। भारत, जर्मनी, जापान और ब्राजील का ग्रुप-4 सुरक्षा परिषद की स्थायी सीट का दावेदार है। अमेरिका और रूस दोनों भारत के दावे के समर्थक हैं, पर चीन उसे स्वीकार नहीं करता।

वैश्विक-संकट और भारत की बढ़ती भूमिका

Continue Readingवैश्विक-संकट और भारत की बढ़ती भूमिका

दुनिया के सामने एक तरफ महामारी का खतरा है, वहीं आर्थिक-प्रगति और शांति बनाए रखने की जिम्मेदारी भी है। कोरोना के अलावा दुनिया में शीतयुद्ध का संक्रमण भी हुआ है। खासतौर से अमेरिका की चीन और रूस के साथ रिश्तों में तल्खी बढ़ती जा रही है। यूरोप में यूक्रेन की सीमा पर युद्ध के हालात बने हुए हैं। हालांकि भारत ने सावधानी के साथ खुद को इस होड़ से अलग रखा है, पर हमें चीन और पाकिस्तान की साठगांठ का सामना करना पड़ेगा।

End of content

No more pages to load