हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

जंगल के बीचों-बीच एक नदी बहती थी. उस नदी के किनारे एक मेंढक अपने तीन बच्चों के साथ रहता था.

वे सभी खाते-पीते बाहरी दुनिया से अलग बड़े ही आराम की जिंदगी गुज़ार रहे थे. खा-पीकर मेंढक ने अच्छी सेहत बना ली थी. उसे देखकर उसके बच्चों को लगता कि दुनिया में उनके पिता जैसा विशाल और शक्तिशाली दूसरा कोई नहीं है. मेंढक को भी इस बात का अहंकार था. वह अपने बच्चों को अपनी बहादुरी के नित नए किस्से सुनाता और उनके मुँह से अपनी तारीफ सुन फूला नहीं समाता था.

एक दिन मेंढक के तीनों बच्चे खेलते हुए जंगल से लगे गाँव में पहुँच गए. वहाँ उन्हें एक बैल दिखाई पड़ा. उसे देख वे सभी आश्चर्यचकित रह गए क्योंकि इतना विशालकाय जीव उन्होंने पहले कभी नहीं देखा था. उनकी आँखें फटी की फटी रह गई.

उस समय बैल घास चर रहा था. घास चरने के बाद उसने एक जोरदार हुंकार भरी, जिसे सुन तीनों मेंढक डर गए. डर के मारे वे भागने लगे. भागकर वे सीधे अपने पिता के पास पहुँचे.

बच्चों को डरा हुआ देखकर मेंढक ने कारण पूछा. सभी बच्चों ने डरते-डरते बैल के बारे में बताया और कहने लगे कि उससे विशालकाय और शक्तिशाली जीव उन्होंने पहले कभी नहीं देखा है. हो न हो वहीँ दुनिया में सबसे शक्तिशाली है.

यह बात सुनकर मेंढक के अहंकार को ठेस पहुँची. वह किसी अन्य को खुद से ज्यादा विशाल और शक्तिशाली मानने को तैयार नहीं था.

उसने गहरी सांस भरकर खुद को फुला लिया और अपने बच्चों को दिखाते हुए पूछा, “क्या वह इतना विशाल था?”

बच्चों ने एक साथ उत्तर दिया, “नहीं, वह तो इससे कहीं ज्यादा विशाल था.”

मेंढक ने थोड़ी और सांस भरी और खुद को थोड़ा और ज्यादा फुलाया. लेकिन बच्चों ने बताया कि बैल इससे भी अधिक विशाल था. मेंढक खुद को किसी भी हाल में कम नहीं दिखाना चाहता था. उसने जोर से साँस खींची और खुद को फुलाने लगा. वह खुद को फुलाता चला गया. उसने खुद में अत्यधिक हवा भर दी, और एक सीमा के बाद वह फट गया. इस तरह अपने अहंकार के कारण मेंढक को अपने प्राण गंवाने पड़े.

सीख – अहंकार पतन का कारण है.   

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: