हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...
एक बार सुन्दर वन में खरगोश ने अपने लिए चारों तरफ मंडरा रहे खतरों पर विचार करने के लिए बैठक की। जंगल के मांसाहारी जीवों ने उनका जीना मुश्किल कर दिया था। अतः बैठक में निर्णय लिया गया कि सभी खरगोश जल-समाधि ले लें। सभी खरगोश इकट्ठे होकर तालाब की ओर चल पड़े।

उस तालाब में हजारों मेंढ़क रहते थे रहते थे। मेंढ़क तालाब से बाहर निकलकर धूप सेंक रहे थे।

खरगोशों के आने का शोर सुनकर वे भयभीत होकर ‘छपाक-छपाक’ पानी में कूद गए।

उन्हें ऐसा करते देखकर खरगोशों का सरदार चिल्लाकर बोला-‘‘ठहर जाओ, कोई आत्महत्या नहीं करेगा। देखो, हमसे डरने वाले जीव भी इस दुनिया में मौजूद हैं। जब वे आत्महत्या की बात नहीं सोचते तो हम क्यों सोंचे।’’ और फिर सभी खरगोश वापस जंगल की ओर चल दिए।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: