किसका भक्त

एक बार की बात है भगवान् श्रीराम और सीता में वाद -विवाद हो गया । श्रीराम ने कहा कि हनुमान मेरा भक्त है , और सीता माता ने कहा कि हनुमान मेरा भक्त है । तब फिर श्रीराम ने कहा कि हनुमान से ही पूंछ लिया जाये । बस फिर क्या था ? हनुमान जी आये , तब माता सीता ने पूंछा कि ” तुम किसके भक्त हो ? हनुमान जी समझ गए की आज कुछ दाल में काला है । उन्होंने ने कहा ” तुम्हारा यानी सीता का मैं भक्त नही हूँ । श्रीराम जी मुस्करा गए, और हनुमान से पूंछा अब तो तुम मेरे भक्त हो । तब हनुमान ने कहा तुम्हारा यानी श्रीराम का मैं भक्त नही हूँ ।

तब श्रीराम जी क्रोध से बोले कि तुम फिर किसके भक्त हो ? तब हनुमान जी कहा ” भगवन क्रोधित मत होइए । मैं श्री सीताराम का भक्त हूँ । तब श्रीराम और सीता माता ने हनुमान जी को गले से लगा लिया ।

आपकी प्रतिक्रिया...