बाजार सहमा, एयरलाइंस और एसबीआई के शेयर नीचे, यस बैंक में सुधार

एक तरफ लोग खुद को संभालने में लगे हुए हैं तो वहीं दूसरी तरफ बाजार संभालने से भी नहीं संभाल रहा हैं अगर आज के भारतीय बाजार की बात करें तो यह भारी गिरावट के साथ शुरू हुआ जो इस साल की अब तक की सबसे बड़ी गिरावट है।
सोमवार को शुरू हुए बाजार करीब सेंसेक्स 1000 अंक की ज्यादा की गिरावट के साथ खुला तो वहीं निफ्टी ने भी करीब 800 की अंकों की गिरावट के साथ कारोबार शुरू किया। भारतीय बाजार की इस गिरावट के लिए कोरोना वायरस के साथ साथ यस बैंक भी पूरी तरह से जिम्मेदार है क्योंकि हालिया यस बैंक के नए नियम के चलते निवेशको ने बाजार से दूरी बना ली हैं जिससे बाजार में कमजोरी दिख रही है। इससे पहले शुक्रवार को भी बाजारों में नरमी देखने को मिली थी लेकिन शुक्रवार को यस बैंक के शेयर सबसे नीचे चले गए और करीब ₹6 तक पहुंच गए थे हालांकि सोमवार की मंदी के बीच यस बैंक के निवेशकों के लिए अच्छी खबर यह है कि यस बैंक के शेयर में थोड़ी उछाल देखने को मिल रही है।
वैसे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के चेयरमैन रजनीश कुमार ने यह दावा किया था कि एसबीआई यस बैंक में निवेश करेगी जिससे यस बैंक के हालात में सुधार होगा लेकिन इस बयान के बाद यस बैंक के शेयर में तेजी नजर आई लेकिन सोमवार को खुले बाजार में एसबीआई के शेयर दबाव में नजर आए।
वही कोरोना वायरस की वजह से कई देशों में उड़ान सेवाएं या तो पूर्ण रूप से बंद कर दी गई हैं या फिर उड़ान सेवाओं में कटौती कर दी गई है जिससे एयरलाइंस के शेयर बाजार भी निचले स्तर पर काम कर रहे हैं। आप को बता दे कि चीन की हवाई सेवाएं पूरी तरह से बंद हो चुकी है जिससे और भी देशों कि हवाई सेवाएं प्रभावित हुए है।
 एक रिपोर्ट की माने तो एफबीआई ने मार्च 2020 में करीब भारतीय बाजार से 13000 करोड रुपए से ज्यादा निकाल लिए, डिपॉजिटरी आंकड़ों के मुताबिक करीब 2 मार्च से 6 मार्च के बीच एपीआई ने शेयर बाजारों से 8997 करोड़ रुपए और बॉन्ड बाजार से करीब 4159 करोड रुपए निकाले जिससे बाजार सहमा हुआ है और गिरावट का सिलसिला लगातार जारी है।

आपकी प्रतिक्रिया...