कल्पना चावला के नाम पर 29 सितंबर को लांच होगा अमेरिकी अंतरिक्ष यान


कल्पना चावला का सम्मान
भारत की बेटी कल्पना चावला जिसके नाम से सभी वाक़िफ़ हैं हालांकि दुर्भाग्य की बात यह है कि आज वह हमारे बीच नहीं है लेकिन विज्ञान के क्षेत्र में उन्होंने जो योगदान दिया है उसने पूरे देश का गौरव बढ़ाया है और कल्पना चावला को आज भी उनके योगदान के लिए याद किया जा रहा है। कल्पना चावला भारतीय मूल की पहली महिला थी जिन्होंने अंतरिक्ष में कदम रखा था लेकिन उनके ना रहने के बावजूद भी उनका नाम एक बार फिर से इतिहास रचने जा रहा है।
नॉर्थरोप ग्रुप मैन के एयरोस्पेस कंपनी ने अपने रि-सप्लाई एयरक्राफ़्ट का नाम कल्पना चावला के नाम पर रखा है। नॉर्थरोप ग्रुप मैन एयरोस्पेस कंपनी नासा के इंटरनेशनल स्पेस सेंटर को सप्लाई पहुंचाने का काम करती है। नॉर्थरोप ग्रुप में एयरोस्पेस कंपनी ने अब तक 13 बार सप्लाई एयरक्राफ़्ट भेजा है और अब उनका 14वां एयरक्राफ़्ट उड़ान भरने जा रहा है जिसे कल्पना चावला का नाम दिया गया है। कंपनी की तरफ से कल्पना चावला के लिए एक सम्मान के तौर पर किया जा रहा है।

kalpana-chawla


आप को बता दें कि एयरोस्पेस कंपनी नॉर्थरोप ग्रुप मैन कॉरपोरेशन की तरफ से भेजे गये इस स्पेस क्राफ्ट का मुख्य काम रिफ्यूलिंग करना होता है। नॉर्थ ग्रुप मैन का 14वां अंतरिक्ष यान इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन नासा से 29 सितंबर को लांच किया जाएगा। जानकारी के मुताबिक एयरोस्पेस कंपनी की यह परंपरा है कि वह अपने हर सेटेलाइट को उस अंतरिक्ष यात्री के नाम पर रखता है जिन्होंने मानव युक्त स्पेस सेटेलाइट में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया हो।
भारत में जन्मी कल्पना चावला ने सन 1988 में नासा ज्वाइन किया और 19 नवंबर 1997 को पहला अंतरिक्ष मिशन शुरू किया था लेकिन साल 2003 में अपना मिशन पूरा करके जब वापस लौट रही थी उसी दौरान 1 फरवरी 2003 को कोलंबिया स्पेस शटल दुर्घटनाग्रस्त हो गया और उनकी मौत हो गयी थी। हरियाणा के करनाल में 1 जुलाई 1961 को कल्पना चावला का जन्म हुआ था। कल्पना चावला ने फ्रांस के जॉन पियर से शादी की थी जो एक फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर थे। कल्पना चावला ने अपनी अंतरिक्ष यात्रा के दौरान कुल 372 घंटे अंतरिक्ष में बिताए और पृथ्वी की कुल 252 परिक्रमा की।
नासा से जुड़े सोर्स बताते है कि यान में एक फोम का सामान्य सा टुकड़ा था जिसे उस दौरान नज़र अंदाज़ कर दिया गया था जिसकी वजह से शटल धरती पर वापस लौटते वक्त ब्लास्ट हो गया और दुनिया ने कल्पना चावला सहित 7 काबिल एस्ट्रोनॉट खो दिये।

आपकी प्रतिक्रिया...