बिहार चुनाव: फिर हुए विकास, जनता राज और रोजगार के वादे

Bihar Elections Schedule


उत्तर प्रदेश और बिहार में चुनाव भी किसी त्यौहार से कम नही होता और करीब सभी राजनीतिक पार्टियां यूपी और बिहार में चुनाव जीतना चाहती है। लोकसभा चुनाव को लेकर तो यहां तक कहा जाता है कि दिल्ली का रास्ता इन दोनों राज्यों से हो कर ही जाता है क्योंकि बाकी राज्यों की तुलना में इन दोनों राज्यों के पास ज्यादा सीटें है इसलिए यहां से चुनाव जीतना सबसे ज्यादा जरूरी होता है शायद यही वजह थी कि पीएम मोदी खुद उत्तर प्रदेश के वाराणसी से चुनाव लड़े थे।
 
बिहार में बढ़ी सरगर्मी
बिहार में भी विधानसभा चुनाव के ऐलान के बाद राज्य में सरगर्मी बढ़ गयी है। सभी पार्टियां फिर से जनता को मसीहा बनाने के सपने दिखाने लगी है क्योंकि लोकतंत्र के इस उत्सव का यही तरीका है कि जब भी चुनाव आता है सभी दल के लोग जनता के दरवाज़े पर नजर आने लगते है और सिर्फ जनता के हित की ही बात करते है। हालांकि वह अलग बात है कि चुनाव नतीजों के बाद यही जनता नेता के दरवाज़े के चक्कर लगाती है फिर भी कभी कभी नेताओं से मुलाकात नहीं हो पाती है। बिहार में भी कुछ नज़ारा ऐसा ही होने वाला है कि अब सभी छोटे बड़े नेता जनता के बीच नजर आयेंगे। 
 
लालू यादव का चुनावी वादा
लालू प्रसाद यादव ने भी चुनाव के ऐलान के बाद तुरंत एक ट्वीट किया और यह बता दिया कि अगर इस बार उनकी पार्टी विजयी होती है तो फिर बिहार में जनता का ही राज होगा हालांकि वह अलग बात है कि इससे पहले भी कई दशक तक लालू यादव की पार्टी राज कर चुकी है लेकिन तब जनता का राज शायद नहीं था। लालू यादव का पूरा परिवार ही राजनीति में है और काफी समय तक बिहार पर राज भी किया है लेकिन उस दौरान विकास की कोई भी किरण कहीं से नजर नहीं आयी थी बल्कि रिपोर्ट की मानें तो सिर्फ क्राइम का रेट काफी उपर तक गया था। 


बिहार का चुनावी परिदृश्य

बिहार में कुल 243 विधानसभा सीटें है और पिछले चुनाव परिणाम के मुताबिक सबसे ज्यादा लालू प्रसाद यादव की पार्टी को कुल 73 सीट मिली थी जबकि दूसरे नंबर पर सीएम नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू थी जिसे 69 सीट मिली थी और बीजेपी को 54 सीटें मिली थी। बिहार में फिलहाल एनडीए की सरकार है और नीतीश कुमार राज्य के मुख्यमंत्री है। बिहार चुनाव से पहले पीएम मोदी ने भी एक के बाद एक कई वर्चुअल रैली को बिहार में संबोधित किया है और बिहार में विकास के लिए कई नये रास्ते भी खोले है।    
 
 
चुनाव आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर तारीखों का ऐलान कर दिया है। चुनाव आयोग के मुताबिक बिहार में चुनाव तीन चरणों में होगा जिसमें करीब 7 करोड़ से अधिक वोटर अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। 
 
पहले चरण में कुल 71 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होगा जिसके लिए नामांकन की आखिरी तारीख 8 अक्टूबर होगी जबकि 12 अक्टूबर नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख होगी। 
 
दूसरे चरण के मतदान के लिए 9 अक्टूबर को नोटिफिकेशन जारी किया जायेगा और 16 अक्टूबर तक सभी को नामांकन दाखिल करना होगा जबकि 19 अक्टूबर तक ही आप नामांकन वापस ले सकते है।   
 
तीसरे चरण के लिए 13 अक्टूबर को नोटिफिकेशन जारी होगा और नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 20 अक्टूबर होगी जबकि नामांकन वापसी के लिए 23 अक्टूबर आखिरी तारीख होगी। 
पहला चरण- 28 अक्टूबर 2020
दूसरा चरण- 03 नवंबर 2020
तीसरा चरण- 07 नवंबर 2020
चुनाव परिणाम- 10 नवंबर 2020
 
मतदान के लिए चुनाव आयोग की तैयारी
चुनाव आयोग की तरफ से बिहार चुनाव की कड़ी तैयारी की जा रही है क्योंकि कोरोना काल के बाद यह पहला चुनाव है। बिहार जनसंख्या की दृष्टि से भी बड़ा राज्य है इसलिए वहां कोरोना का संक्रमण और ना फैले इसलिए सुरक्षा के विशेष इंतजाम किये जायेंगे। बिहार चुनाव में कोरोना संक्रमित लोगों को भी वोट देने की व्यवस्था की गयी है लेकिन इन्हे अंत में मतदान केंद्र पर पूरी सुरक्षा के साथ ले जाया जायेगा। बिहार विधानसभा चुनाव में बड़ी मात्रा में पीपीई किट, ग्लव्स, सेनेटाइटर और मास्क का इस्तेमाल होने वाला है।
 
पीपीई किट-  6 लाख
फेस मास्क- 46 लाख
फेस शील्ड- 6 लाख
ग्लव्स- 23 लाख 
सेनेटाइज़र-  47 लाख 

आपकी प्रतिक्रिया...