18-19 नवंबर को गाजियाबाद में होगी संघ कार्यकारी की बैठक

संघ की वार्षिक बैठक
आगामी वर्ष की कार्ययोजना एवं वर्तमान में चल रहे कार्यों की समीक्षा के लिए इस बार कोरोना महामारी की परिस्थियों को देखते हुए राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारिणी मंडल की क्षेत्र स्तर की बैठक दिल्ली से सटे गाज़ियाबाद में होगी। 18 और 19 नवंबर को सरस्वती शिशु मंदिर, नेहरू नगर गाज़ियाबाद में होने वाली बैठक में संघ के सरसंघचालक डा. मोहनजी भागवत और सहकार्यवाह सुरेश जोशी (भैयाजी) जी उपस्थित रहेंगे। गाज़ियाबाद में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में होने वाली बैठक में उत्तराखंड, मेरठ और ब्रज के अखिल भारतीय कार्यकारिणी मंडल के 22 सदस्य हिस्सा लेंगे।

राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ की कार्य पद्धति में प्रतिवर्ष नित्यप्रति चल रहे अपने कार्यों की समीक्षा एवं आगामी वर्षों की योजना के लिए कार्यकारी मंडल की नियमित बैठक दिपावली के समीप होती है। इसमें क्षेत्र और प्रांत के संघचालक, कार्यवाह, प्रचारक व अखिल भारतीय दायित्व वाले कार्यकर्ता उपस्थित रहेंगे। इस वर्ष शासकीय दिशा निर्देशों के अनुपालन को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है कि यह बैठक अखिल भारतीय स्तर पर न करके क्षेत्र के अनुसार की जायेगी क्योंकि कोरोना महामारी की वजह से ज्यादा लोगों को एक साथ जमा होने पर अभी रोक लगी हुई है जिससे संघ अपनी बैठकें छोटी छोटी टुकड़ियों में कर रहा है।

संघ ने अपने कार्यों को सुचारु रुप से चलाने के लिए पूरे देश को 11 भागो में बांटा हुआ है जिसमें से पश्चिमी उत्तर प्रदेश क्षेत्र की बैठक का आयोजन गाज़ियाबाद में किया जा रहा है। इसी प्रकार से देश के अलग अलग भागों में भी बैठकें हो रही है और पूरे साल संघ के द्वारा किये गये कार्यों पर चर्चा और समीक्षा की जा रही है। संघ की इस बैठक से यह निष्कर्ष निकलता है कि पूरे साल में जो कुछ भी हुआ उसका समाज और लोगों के जीवन पर कितना सकारात्मक असर पड़ा है।

गाज़ियाबाद बैठक की रुप रेखा
संघ की गाज़ियाबाद बैठक दो दिनों तक चलेगी जिसमें महामारी कोविड-19 को लेकर चर्चा होगी और संघ के कार्यों की समीक्षा भी होगी। इसके साथ ही इस महामारी से प्रभावित जनजीवन, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वावलंबन, स्वदेशी सहित तमाम जरूरी विषयों पर चर्चा होगी।

आपकी प्रतिक्रिया...