लव जिहाद कानून: राजस्थान सरकार वोट बैंक बचाने की कर रही कोशिश!

उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और हरियाणा में लव-जिहाद के खिलाफ कानून बनने के बाद से ही बीजेपी ने बाकी राज्यों में भी इस तरह के कानून को लेकर मांग तेज कर दी है। राजस्थान की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने सन 2008 में लव जिहाद के खिलाफ एक कानून पारित किया था और उसे राष्ट्रपति के पास भेज दिया था लेकिन वह आज भी लंबित पड़ा हुआ है। राजस्थान की तत्कालीन सरकार ने लव जिहाद पर रोक लगाने के लिए यह कानून पारित किया था और कहा था कि इस कानून के पास होने से राज्य में कंवर्जन और लव-जिहाद पर रोक लग जाएगी और तमाम हिंदू बेटियों की इज्जत बच जायेगी।

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अगर राजस्थान धर्म स्वातंत्र्य विधेयक 2008 को मंजूरी देते है तो यह कानून राजस्थान में तत्काल प्रभाव से लागू हो जायेगा और लव जिहाद पर रोक भी लग जाएगी। राजस्थान की मौजूदा कांग्रेस की गहलोत सरकार इस कानून के विरोध में है और दूसरे राज्यों में बने लव जिहाद कानून को भी गलत करार दे रहे है लेकिन अगर राष्ट्रपति के पास से यह कानून पास हो जाता है तो इस पर कोई भी रोक नहीं लगा सकता है।

राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ राज्य के बीजेपी नेताओ ने लव जिहाद कानून को लेकर मांग तेज कर दी है और राज्य सरकार से आरोपियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने की मांग की है। बीजेपी के युवा मार्चो की तरफ से इसके खिलाफ अभियान शुरु किया गया है और सभी से अपील की गयी है कि इस तरह की कोई भी घटना होती है तो उसकी जानकारी पार्टी कार्यकर्ताओं को तुरंत दें। बीजेपी की तरफ से कहा गया है कि राज्य की हिंदू लड़कियों को प्यार के नाम पर बहलाया जा रहा है और बाद में उनका कंवर्जन करवा दिया जाता है इसलिए हम सरकार से यह मांग करते है कि यूपी और एमपी की ही तर्ज पर राजस्थान सरकार को भी कानून बनाना चाहिए जिससे हिंदू लड़कियों की रक्षा हो सके।

भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा की तरफ से कहा गया कि उत्तर प्रदेश की तर्ज पर अगर कंवर्जन के खिलाफ कोई कानून तैयार किया जाता है तो इससे सामान्य, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति जैसी तमाम महिलाओं को कंवजर्न से बचाया जा सकता है। देश के पिछले इलाकों में धन और काम की लालच में कंवर्जन का काम तेजी से चल रहा है और तमाम संगठन इस पर गैरकानूनी तरह से काम कर रहे है। हम राजस्थान की सरकार से यह मांग करते है कि सभी लोग अपने धर्म का पालन कर सकें और किसी की इच्छा को बल, प्रलोभन या कपटपूर्ण तरीके से प्रभावित नही किया जा सके इसके लिए हम राजस्थान की गहलोत सरकार से ऐसे कानून की मांग करते है।

बीजेपी नेता राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि, “इतिहास साक्षी है कि कांग्रेस ने हमेशा तुष्टिकरण व भेदभाव की राजनीति अपनाई है इसलिए वह हाशिए पर रही है। विवाह सभी का व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मामला है लेकिन इसके लिए किसी युवती पर बलपूर्वक, डरा धमकाकर या अनुचित दबाव डालकर कंवर्जन करना पूरी तरह से गलत है” प्रेम व विवाह के लिए जबरन कंवर्जन करना गलत है और पाप भी है सरकार को इसके खिलाफ कानून बनाना चाहिए और दोषियों को सख्त से सख्त सजा देनी चाहिए।

राजस्थान की कांग्रेस सरकार पर यह आरोप लगाया गया कि वह लव जिहाद जैसी बड़ी समस्या से खुद को दूर रखना चाहते है क्योंकि वोट बैंक की राजनीति इससे प्रभावित होती है। राजस्थान सरकार अगर राज्य में लव जिहाद के खिलाफ कानून लाती है तो उसे मुस्लिम वोट बैंक खोने का डर रहेगा इससे गहलोत सरकार लव जिहाद कानून का विरोध कर रही है।

आपकी प्रतिक्रिया...