पाकिस्तान में धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर की जा रही हिन्दू लड़कियां

 

पाकिस्तान की इमरान सरकार कितना भी अल्पसंख्यकों के हित की बात करें लेकिन सच्चाई उससे बिल्कुल अलग है। नया पाकिस्तान बनाने की बात करने वाले इमरान खान की नाक के नीचे किस तरह से हिंदुओं को सताया जा रहा है यह आप इस विडियो से समझ सकते है। पाकिस्तान अल्पसंख्यकों के लिए खतरनाक देश है यानी कि यहां हिन्दू, ईसाई और सिख अपनी आज़ादी से जीवन नहीं बिता सकते। उन्हे स्थानीय और बहुसंख्यक मुस्लिमों के हिसाब से चलना पड़ रहा है।

पाकिस्तान में हिन्दू लड़कियों का अपहरण होना आम बात है… यहां बच्चियों का अपहरण के बाद जबरन धर्म परिवर्तन कराया जाता है और फिर इनकी शादी किसी से भी कर दी जाती है। ऐसे मामलों में ज्यादातर हिन्दू बच्चियां नाबालिग होती है और उनकी शादी किसी अधेड़ उम्र के मुस्लिम व्यक्ति से की जाती है…. एक रिपोर्ट के मुताबिक सिंध प्रांत में एक महीने के अंदर ऐसे करीब 4 मामले सामने आये है। महाशिवरात्रि के दिन भी एक नाबालिग लड़की का जबरन निकाह कराया गया। 13 साल की एक हिन्दू लड़की का पहले अपहरण किया गया और बाद में मौलवी ने अपहरणकर्ता से ही उसकी शादी करवा दी। यहां कुछ ऐसे भी दल है जिन्हे हिन्दू लड़कियों के धर्म परिवर्तन और निकाह करवाने के अच्छे खासे पैसे मिलते है।

धर्म परिवर्तन और निकाह की सबसे अधिक घटनाएँ सिंध प्रांत में देखने को मिल रही है। यहां का अल्पसंख्यक समाज पूरी तरह से भय में जी रहा है। यहां हर बाप को बस यही डर होता है कि उसकी बेटी का ना जाने कब अपहरण हो जाए। सिंध प्रांत में ही 100 से अधिक हिन्दूओं का धर्म परिवर्तन कराया गया है। ऐसी तमाम रिपोर्ट है जिसमें पाकिस्तान के यह कारनामों का गुणगान किया गया है लेकिन इस पर कोई भी मीडिया या फिर संगठन आवाज़ नहीं उठा रहा है। पाकिस्तान की सरकार को भी यह सब पता है और पुलिस को भी लेकिन किसी भी आरोपी के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो रही है।

आपकी प्रतिक्रिया...