कोरोना काल में अंकित ग्राम द्वारा की गई सेवा

सेवाधाम आश्रम ‘अंकित ग्राम‘ परम आराध्य सदगुरुदेव भगवान  श्री रणछोड़दासजी महाराज, पद्मभूशण आचार्यदेव श्रीमद् विजय रत्न सुन्दर सुरीष्वरजी महाराज, वात्सल्य, करूणामूर्ति पन्यास प्रवर श्री वज्रसेन विजय महाराज, मानवसेवी आचार्य हेमप्रभ सुरीष्वरजी और अचार्य विजय हेम वल्लभ सुरीजी जैसे सुसंतों की सद्प्रेरणा से षत प्रतिषत नीति मार्ग (सत्य मार्ग) पर चलने का प्रयास कर रहा है लेकिन इस मार्ग पर चलना खूब मुश्किल काम है। लोहे के चने चबाने जैसा है किन्तु हमारा संकल्प है कभी अनीति का कार्य नही करेंगे।

निश्चित रूप से इस मार्ग पर चलने से चित्त की प्रसन्नता और परमात्मा के सानिध्य का अनुभव होता है कई एडजेस्टमेंट वाले दानदाता छूट जाते है, तो परमात्मा की कृपा से अनेक कठिनाईयों के बाद नई व्यवस्था हो जाती है। संस्था ने 35 एसी के समय भी किसी प्रकार का एडजस्टमेंट नही किया परिणाम स्वरूप 50 करोड़ के एकझम्शन में से 1.50 करोड़ भी एकत्र नही कर सके।

 कारपोरेटस् दे सकते है सहयोग

संस्था 80G, 12 A, FCRA, Undertaking CSR Activities Ouality Management Aystem ISO, NITI Ayoug  में पंजीयत है। इस हेतु कारपोरेट्स कभी भी अपने प्रतिनिधी को भेज कर संस्था की जांच करवा सकते है, संतुष्ट होने पर सेवाधाम के संचालन विकास-विस्तार में निरन्तर सहयोग हो सकते है।

सद्गुरू प्रसादम् के माध्यम से निरन्तर चल रहा भोजन वितरण का अभियान

पहली और दूसरी लहर में कुष्ठधाम सहित उज्जैन नगर निगम के 20 वार्डों में झुग्गी झोपड़ियों, श्रमिक-मलिन बस्तियों के साथ तालाबंदी में फंसे बेसहारों-बेघर मजदूरों, भिक्षुकों, बुजुर्गों दिव्यांगों, बच्चों और दर्षनार्थियों को भूख से परेशान लोगों को भोजन वितरण का कार्य प्रारम्भ किया जो निरन्तर जारी है। इसके साथ बर्तन, सूखा राश्न और नगद सहायता भी दी गई। भारत के विभिन्न हिस्सों से आने वाले 244 बेसहारों को अपनाकर नवजीवन प्रदत्त किया। वर्तमान में भूख मुक्त उज्जैन अभियान के तहत नियमित भोजन प्रदान हो रहा है।

भूख से परेशान गरीब जरूरतमंदों का सहारा बनकर अपनी आवश्यकताओं से भी अधिक समझा, भूख से परेशान लोगों की जरूरतों को।

कोई भूखा न रहे-भूखा न रोए-भूखा न सोए और

      पुण्य नगरी में आकर भूखा न जाए

*4 लाख 30 हजार से अधिक भोजन पैकेट्स

 *30 टन हरी कच्ची सब्जी-’ल

 *1 लाख से अधिक ेलो डा’ंड से प्राप्त एनर्जी केक, नकदी और बर्तन भी किए वितरित

सेवाधाम आश्रम ‘अंकित ग्राम’ उज्जैन द्वारा कोरोना महासंक्रमण काल में बेघर-बेसहारे-निराश्रित-मरणासन्नों, घर-परिवार-समाज द्वारा तिरस्कृत-उपेक्षित बुजुर्गों, दिव्यांगों और बच्चों पीड़ित-शोषित महिलाओं को सहारा देकर उनकी सेवा करने के साथ अपनी आवश्यकताओं से बढ़कर उज्जैन के कोरोना संक्रमण दुश्काल में दूसरो की जरूरतों को समझा एवं लॉकडाउन के प्रथम दिन से जिला प्रशासन की पहल पर शहर की झुग्गी-झोपड़ियों, मलिन बस्तियों, कुष्ठ बस्तियों सहित नगर निगम के 20 से अधिक वार्डों में सामाजिक संस्थाओं, स्वयं सेवकों, जनप्रतिनिधियों, जिला प्रशासन और निगम अधिकारियों के माध्यम से जरूरतमंदों तक भोजन पंहुचाया।

सेवाधाम की प्रमुख आवश्यकताएं

सेवाधाम में 700 सदस्यीय परिवारों का चाय, नाश्ता, दो समय का भोजन, दूध, दवाइयों के साथ बिजली, पानी, अस्पताल और कार्यकर्ता वेतन आदि पर लगभग 25 लाख प्रतिमाह का व्यय है। मुश्किल से लगभग 5 लाख रुपए के स्थाई दानदाता हैं। कोरोना काल में आश्रम में दान में भी काफी कटौती हुई है, नियमित खर्च सहज नहीं है, मांगना भी मुश्किल का काम है। वही दूसरी और आवासीय स्थान भी अत्यधिक कम है, जिस पर लगभग 10 करोड़ का व्यय है। इस हेतु भी दानदाताओं से विनम्र अनुरोध है कि अधिक जानकारी हेतु सेवाधाम आश्रम के संस्थापक सुधीर भाई गोयल से सम्पर्क 9425092505 पर किया जा सकता है।

  1. ‘अंकित ग्राम’ सेवाधाम आश्रम द्वारा कोविड-19 में लगभग 1.25 लाख भूख से परेशान संक्रमण काल में फंसे मेहमानों-भिक्षुकों, बच्चों, युवाओं एवं बुजुर्गो को भोजन के पैकेट्स पहुंचाए। अनलॉक में भी यह सेवा निरंतर जारी रही एवं गुरु पूर्णिमा पर्व 06 जुलाई 2020 से “भूख मुक्त उज्जैन अभियान” के तहत वर्तमान समय तक लगभग 43.0 लाख से अधिक भूख से परेशान उज्जैन वासियों को भोजन प्रतिदिन पहुंचाया जा रहा है।

  2. 24 मार्च 2020 से ही सम्पूर्ण आश्रम तालाबंदी की जद में बाहर प्रवेश बंद कार्यकर्ताओं के अभाव में भी सावधानियां रखी गई।

  3. आश्रम के विभिन्न प्रकल्पों को प्रतिदिन सेनेटाइज किया गया।

  4. साबुन से हाथ धोने के साथ मास्क लगाना आवश्यक किया गया।

  5. 30 टन से अधिक कच्ची हरी सब्जी और फल समीपस्थ छोटे और समस्या ग्रस्त को बांटे।

  6. प्रताप स्नैक्स, इन्दौर से प्राप्त 1 लाख से अधिक डायमण्ड एनर्जी केक भी बच्चों एवं बुजुर्गों तक पहुंचाए।

  7. कुष्ठधाम हामूखेड़ी में महारोगियों को बड़ी संख्या में बर्तन और सूखा राश्न मध्यम वर्गीय परिवारों, पत्रकारों एवं जरूरतमंदों को 1000 से अधिक फिनाईल का बॉटल वितरित किया।

  8. उज्जैन शहर में फीवर चेक करने के साथ मास्क एवं सैनिटाइजर निशुल्क वितरित किए।

  9. कोविड-19 के दौरान बचाव और सावधानी के उपायों के साथ आरोग्य सेतु एप के लिए भी व्यापक जागरूकता की गई और आश्रम परिसर में विशेष सावधानी के साथ लॉकडाउन के नियमों का पूर्णत: पालन किया गया। साथ ही वर्तमान समय में भी इसका पालन किया जा रहा है।

  10. सेवाधाम द्वारा पैदल यात्रा करने वाले यात्रियों की भी भरपूर मदद कर उन्हें भोजन उपलब्ध कराने के साथ उनके गंतव्य तक भी उनके घर पहुंचाया।

  11. आश्रम को महिला एवं बाल विकास विभाग (म.प्र) द्वारा बाल गृह और बालिका गृह के लिए प्रदेश के 5 क्वारंटाइन सेंटर में से एक क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया, जिसमें अनवरत क्वारंटाइन हेतु बालक-बालिकाएं वर्तमान में भी आ रहे हैं। इसके साथ ही साथ युवा एवं वृद्ध हेतु भी यह सुविधा उपलब्ध है।

  12. कोरोना महा संक्रमण काल में संस्थापक सुधीर भाई गोयल, श्रीमती कांता भाभी, मोनिका-गौरी गोयल के साथ ही साथ श्री रामकृष्ण बाल गृह एवं मां शारदा बालिका गृह के बच्चों ने समस्त सेवा साथियों के साथ मिलकर यह सेवा अनवरत जारी रखी।

13 . सेवाधाम आश्रम के स्वप्नदृष्टा भाई जी ने गुरु पूर्णिमा पर्व 2020 से ‘भूख मुक्त उज्जैन अभियान’ के तहत निरन्तर यह सेवा जारी रखी है एवं आज भी उज्जैन के महाकालेश्वर के समीप सायं 5 बजे नियमित सेवा धाम के सेवा वाहन द्वारा भोजन का वितरण किया जा रहा है।

 

आपकी प्रतिक्रिया...