युवाओं को क्यों पड़ रहा दिल का दौरा (Heart attack)

आप ने अक्सर देखा होगा कि एक युवा जो पूरी तरह से फिट नजर आता है जिम कर के उसकी बॉडी भी शानदार नजर आती है फिर अचानक से एक दिन पता चलता है कि उसे दिल का दौरा पड़ा और उसकी मौत हो गयी जबकि हमारी पहले से यह धारणा बनीं हुई है कि दिल का दौरा सिर्फ बुजुर्गों को पड़ता है और उनका कमजोर दिल उसे नहीं सह पाता और उनकी मौत हो जाती है लेकिन यह धारणा अब पूरी तरह से गलत होती नजर आ रही है। आज कल युवाओं में भी तेजी से हार्ट अटैक के केस देखने को मिल रहे है। 
युवाओं में बढ़ रहे दिल के दौरे के लिए किसी एक कारण को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है इसके लिए तमाम कारण है। अगर अपनी दिनचर्या को देखें तो इसमें बहुत हद तक परिवर्तन हो चुका है हम सभी लोग अब अपने शरीर को ध्यान में रखकर कुछ भी नहीं करते हैं बल्कि हम वही करते है जो दिखावे के लिए किया जाता है या फिर जो हमारा मन करता है जबकि यह दोनों ही स्थिति हमारे शरीर के लिए हानिकारक होती है। फैशन के नाम पर हमारा खाना पीना बिल्कुल बदल चुका है हम तेजी से पश्चिमी सभ्यता को अपने निजी जीवन में उतार रहे है हमारे खाने-पीने और सोना का समय बिल्कुल बदल चुका है जो हमारे शरीर को बहुत हद तक नुकसान पहुंचाता है। 
देश के युवाओं को मजबूत और स्वस्थ शरीर की चाह अब नहीं रही है बल्कि अब दिखावे के लिए सुंदर शरीर बनाने का प्रचलन चला है और इसलिए तमाम लोग दवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं यह दवाएं हमारे शरीर को अंदर से खोखला करती है और हमें कमजोर बनाती हैं लेकिन हमारे देश के सिनेमा ने सभी को यह सिखा दिया है कि शरीर में 6 पैक होने चाहिए। शरीर को सुडौल बनाने के लिए हम दवाओं का इस्तेमाल करते है जिससे हमारे शरीर का खून मोटा हो जाता है और थक्के बनने लगते है और जब हार्ट इसे पंप नहीं कर पाता है तो दिल का दौरा पड़ता है। 
 
ब्लड प्रेशर कम होने से भी हार्ट अटैक का खतरा बना रहता है क्योंकि रक्त प्रवाह कम होने से खून दिल तक नहीं पहुंच पाता जिससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है इसलिए सभी को समय समय पर शरीर की जांच कराते रहनी चाहिए। गैस की समस्या भी बहुत तेजी से आजकल बढ़ रही है। गैस भी हमारे खान-पान, खाना बनाने के तरीके और सोने के ढंग पर निर्भर करता है कुकर का खाना, गैस पर बना खाना, मशीन वाली चाय व कॉफी यह सभी भी गैस के लिए बड़े कारण है जिससे हमें गैस की परेशानी होती है और अंत में यह हार्ट अटैक के लिए जिम्मेदार होती है। आजकल हार्ट अटैक के लिए तनाव भी बहुत बड़ी वजह बन रही है क्योंकि अक्सर अपने काम की वजह से ज्यादातर लोग तनाव में रहते है सभी को अमीर बनने की चाह है लेकिन वह कम ही लोगों की पूरी होती है ऐसे में ज्यादातर लोग तनाव में रहते है। 
दिल को मजबूत बनाने के लिए वैसे तो बहुत सारे उपाय है लेकिन आप अपने खान-पान के साथ साथ नियमित योग व प्राणायाम भी करके दिल को मजबूत बना सकते है। दिल को स्वस्थ रखने के लिए आप ताड़ासन, उत्तानपादासन, कटिचक्रासन, धनुरासन, पवनमुक्तासन और अर्ध हलासन जैसे योग व प्राणायाम आप कर सकते है। 
हार्ट अटैक के लक्षण-
सबसे पहले सीने में दर्द शुरू होता है फिर यह दर्द हाथ, पीठ, गर्दन और जबड़े तक पहुंच जाता है। सीने में दर्द जब 5 मिनट से अधिक समय तक हो तब उसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और तुरंत डॉक्टर को संपर्क करना चाहिए। सांस लेने में तकलीफ, पसीना, मन घबराना और चक्कर आने जैसे लक्षण हार्ट अटैक को दर्शाते हैं। 

आपकी प्रतिक्रिया...