रॉयल इंडियन एयरफोर्स से इंडियन एयरफोर्स तक का सफर

”नभः स्पृशं दीप्तम” भारतीय वायु सेना की स्थापना आजादी से पहले ही हो चुकी थी लेकिन तब ब्रिटिश सरकार की तरफ से उसे रॉयल इंडियन एयरफोर्स नाम दिया गया था जबकि आजादी के बाद रॉयल शब्द को निकाल दिया गया और यह इंडियन एयरफोर्स यानी भारतीय वायुसेना बन गयी। 8 अक्टूबर 1932 को भारतीय वायु सेना की स्थापना की गयी थी लेकिन वायु सेना के पहले एयरक्राफ्ट ने 1 अप्रैल 1933 को उड़ान भरी थी। वायु सेना के पहले दस्ते में 6 ऑफिसर और 19 सिपाही शामिल थे। यह भारत की तीनों सेनाओं में से एक है जो दुश्मनों से देश की रक्षा करती है। आजादी से लेकर अभी तक वायु सेना ने कई बार दुश्मनों के दांत खट्टे किये है जिसमें पाकिस्तान का युद्ध प्रमुख रूप से शामिल है।

8 अक्टूबर शुक्रवार को वायुसेना ने अपना 89वां स्थापना दिवस मनाया। गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर वायु सेना की तरफ से प्रदर्शन किया गया और दुनिया को वायु सेना ने अपनी ताकत दिखाई। इस दौरान भारत-पाकिस्तान के 1971 के युद्ध की विजय गाथा को दर्शाया गया। भारत पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध को 50 साल पूरे हो रहे है इसलिए वायु सेना ने अपने स्थापना दिवस पर विजय का पताका फहराया। 
 
वायु सेना के स्थापना दिवस के मौके पर तीनों सेनाओं के प्रमुख मौजूद रहे। वायु सेना प्रमुख वीआर चौधरी ने बहादुर सैनिकों को वायु सेना मेडल से सम्मानित किया और उन्हें बधाई देते हुए कहा कि आप ने देश की सेवा की कसम ली है और इसे आप अंतिम समय तक निभाते रहेंगे। इस खास मौके पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत भी मौजूद रहे। आठ हजार फीट की ऊंचाई से वायु सेना के जवानों ने छलांग लगाई और अपना करतब दिखाते हुए जमीन पर सही सलामत पहुंचे। इस कार्यक्रम में पहली बार हैंड ग्लाइडर और पैरा मोटर ग्लाइडर को शामिल किया गया। इन्होंने भी हवा में प्रदर्शन किया। इनका इस्तेमाल रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए किया जाता है। 
 
इस बार के कार्यक्रम में लोगों की नजर तेजस और राफेल पर थी। भारत में निर्मित तेजस विमान की अपने लुक की वजह  से आकर्षण का केंद्र बना रहा वहीं फ्रांस से लाया गया राफेल विमान भी लोगों के लिए रोमांचक रहा। कार्यक्रम में इन विमानों ने फ्लाई पास्ट किया। कार्यक्रम में चिनूक, अपाचे हेलीकॉप्टर, हरक्यूलिस, मिराज-2000 और जगुआर ने अपनी ताकत का प्रदर्शन किया। वायु सेना के स्थापना दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बधाई दी और ट्वीट कर कहा, वायु सेना दिवस पर हमारे योद्धाओं और उनके परिवार को बधाई, भारतीय वायु सेना साहस, परिश्रम और व्यावसायिकता का पर्याय है। वायु सेना ने चुनौतियों के दौरान देश की रक्षा करने और अपनी मानवीय भावना के माध्यम से खुद को प्रतिष्ठित किया है। 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी वायु सेना दिवस पर सेना का मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि, इस अदम्य बल की 89वीं वर्षगांठ पर सभी इंडियन एयरफोर्स कर्मियों और उनके परिवारों को बधाई। हमें चुनौतियों का पूरी तत्परता के साथ करना होगा और राष्ट्र की सेवा के वायु सेना पर गर्व है। 

आपकी प्रतिक्रिया...