मोदी ने खिंचा आन्दोलनजीवियों का मुखौटा

घटनाक्रम….
1. Capt अमरिंदर सिंह का कांग्रेस छोड़ना
2. Capt की मुलाकात NSA, HM, PM से
3. BSF का कार्यक्षेत्र 15 से 50 किमी बढ़ाना
4. राहुल गांधी का इंग्लैंड रवाना (खालिस्तानियों से मिलने)
5. करतारपुर corridor को खोलना ( आम सिखों में सहानुभूति पैदा करना) 
6. गुरूपूरव के दिन किसान कानून वापस लेना 
ये मात्र संयोग नहीं है.. ये इलेक्शन के लिए भी नहीं है.. UP का चुनाव तो बाबा जी अकेले ही जीत लेंगे मोदी जी की भी जरूरत नहीं। इसके पीछे है पाकिस्तान की बड़ी साजिश को नाकाम करना जो किसानों की आड़ में खालिस्तान-2 की आग लगाना चाहते थे। पंजाब में कांग्रेस का समर्थन है खालिस्तानियों को याद करो इंदिरा गांधी ने ही जनरैल सिंह भिंडीवाले को खड़ा किया था अकालियों के खिलाफ चुनाव जीतने के लिए। फिर वो भस्मासुर बन गया था जो इंदिरा गांधी को ही भस्म कर गया
कांग्रेस सत्ता में रहने के लिए कभी भी देश को आग लगा सकती है।
किसान कानून वापस लेकर मोदी ने इनका मुखौटा खींच लिया है.. अब देखते हैं कि ये खालिस्तानी किस आड़ में छुपेंगे।

आपकी प्रतिक्रिया...