मीडिया का माइक चालू था और कांग्रेस नेता पढ़ रहे थे शिवकुमार के गैरकानूनी कमाई की किताब

Continue Readingमीडिया का माइक चालू था और कांग्रेस नेता पढ़ रहे थे शिवकुमार के गैरकानूनी कमाई की किताब

कांग्रेस और भ्रष्टाचार का बहुत पुराना रिश्ता रहा है और यह रिश्ता लगातार बढ़ता ही जा रहा है। अगर आप को पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस के घोटालों की खबर नहीं मिल रही है तो कारण है उसका सत्ता से दूर रहना। जब देश में राजीव गांधी की सरकार थी…

जयंती विशेष: महात्मा गांधी जिनके दिल में बसते थे गांव

Continue Readingजयंती विशेष: महात्मा गांधी जिनके दिल में बसते थे गांव

2 अक्टूबर 2021 को महात्मा गांधी की 152वीं जयंती मनाई जा रही है। आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को पूरे देश में याद किया जा रहा है। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित सभी लोगों ने राजघाट जाकर उन्हें श्रद्धांजली दी और उनके बलिदानों को याद किया। गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को…

पंजाब में कांग्रेस का आत्मघाती फैसला

Continue Readingपंजाब में कांग्रेस का आत्मघाती फैसला

पंजाब के मुख्यमंत्री पद से कैप्टन अमरिंदर सिंह का त्यागपत्र कतई आश्चर्य का विषय नहीं होना चाहिए। पिछले एक वर्ष से पंजाब कांग्रेस के अंदर जो कुछ चल रहा था और केंद्रीय नेतृत्व जिस ढंग से वहां लचर भूमिका में थी उसकी परिणति यही होनी थी। नवजोत सिंह सिद्धू के…

पंजाब में जो हुआ तय था, आगे क्या होगा अनिश्चित है?

Continue Readingपंजाब में जो हुआ तय था, आगे क्या होगा अनिश्चित है?

पंजाब में लंबे समय से सब कुछ ठीक नहीं चल रहा था। सच तो यह है कि काँग्रेस में ही कुछ भी ठीक दिख नहीं रहा है। कभी राजस्थान तो कभी छत्तीसगढ़ में दिखने वाले विरोध के स्वर धीमें भी नहीं पड़ते हैं कि पंजाब का उफान जब-तब सामने आ…

किस राजनीतिक दल से किसान आंदोलन को मिल रहा फंड?

Continue Readingकिस राजनीतिक दल से किसान आंदोलन को मिल रहा फंड?

केंद्र सरकार के कृषि बिल के बाद से किसानों को आंदोलन शुरू हुआ और इसे करीब 9 महीने हो चुके हैं लेकिन अभी तक आंदोलन खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है जबकि सरकार और किसानों के बीच में 2 दर्जन से अधिक बार बैठक हो चुकी है फिर…

किसकी ईट से ईट बजाएंगे सिद्धू ?

Continue Readingकिसकी ईट से ईट बजाएंगे सिद्धू ?

क्रिकेट मैदान से राजनीति के मैदान में पहुंचे पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू की ग्रह दशा पिछले कुछ समय से ठीक नहीं चल रही है उन्होंने जब से बीजेपी छोड़ा तब से उन्हें शांति नहीं मिली है। वह लगातार परेशान है और कुछ पाने की कोशिश में है लेकिन वह…

सुष्मिता देव ने दिया पार्टी से इस्तीफा, कपिल सिब्बल ने सोनिया पर लगाया आरोप

Continue Readingसुष्मिता देव ने दिया पार्टी से इस्तीफा, कपिल सिब्बल ने सोनिया पर लगाया आरोप

कांग्रेस के पिछले कुछ सालों का इतिहास उठाकर देखें तो पार्टी से युवा नेता और कार्यकर्ता दूरी बना रहे है। सभी राज्यों में सीनियर नेता और युवा नेताओं के बीच एक दीवार नजर आती है जो खुद कांग्रेस ने तैयार की है और यही वजह है कि पार्टी दो भागों…

स्वतंत्रता की दूषित अवधारणा

Continue Readingस्वतंत्रता की दूषित अवधारणा

क्या राष्ट्र के नागरिकों के मध्य अल्पसंख्यक औऱ बहुसंख्यक की शर्मनाक औऱ विभेदकारी अवधारणा को हम अपनी उपलब्धियों के रूप में याद करें। क्या तुष्टीकरण की व्यवस्था के लिये स्वाधीनता की राजनीतिक लड़ाई लड़ी गई थी। समाजवाद के नाम पर हमने किस आर्थिक मॉडल की नींव रखी जो राष्ट्रीय हितों के ही विरुद्ध हो। सवाल बहुत है जो जीवन के हर क्षेत्र से जुड़े है। क्यों कौटिल्य, गांधी, दीनदयाल की सशक्त और मौलिक वैचारिकी को खूंटी पर टांगकर हमने वाम औऱ पश्चिमी विचारों को आत्मसात कर देश को आगे बढ़ाने के नीतिगत निर्णय लिए? आखिर भारतीय स्वत्व को भुलाकर उधार की वैचारिकी ने इन 74 सालों में हमें क्या दिया?

कांग्रेस नेता की हरकत से सदन हुई शर्मसार!

Continue Readingकांग्रेस नेता की हरकत से सदन हुई शर्मसार!

नेता और अभिनेता दोनो ही मिलते जुलते नाम होते है लेकिन दोनों में फर्क बहुत होता था। अभिनेता कोई भी रोल कर सकता है क्योंकि उसका वास्तविकता से कोई लगाव नहीं होता जबकि नेता को पूरी तरह से सच्चा और वास्तविक होना होना है क्योंकि उसके साथ उसके लोगों की…

विपक्ष देख रहा मुंगेरीलाल के सपने

Continue Readingविपक्ष देख रहा मुंगेरीलाल के सपने

कॉमरेड एक क्षण के लिए आंखें खोलें, और फिर वापस 1940 के हसीन सपनों में लौट जाएं। दो बार ऐसा हो चुका है। यह बुजुर्ग कॉमरेड कांग्रेस है। संसद तो निमित्त मात्र है, कांग्रेस तो सत्र के पहले भी और सत्र के बाद भी इसी नशे में आगे से आगे झुकने और गिरने में आनंदित होती रही है कि सरकार तो उसी की है, बस जनता ने उसे वोट नहीं दिया है, बस चुनाव आयोग ने उसके पक्ष में परिणाम नहीं दिए हैं, बस राष्ट्रपति ने उसे शपथ नहीं दिलाई है, बस प्रशासन उसके अनुरूप नहीं चल रहा है, बस वह अपनी मर्जी से सरकारी सौदे नहीं कर पा रही है, बस उसकी पार्टी में दम नहीं बचा है, बस उसके पास राज्यसभा की एक सीट के लिए गुंजाइश नहीं बची है...। बाकी तो वही है, उसे तो बस चाचा, बाबाजी, खलीफा, चेयरमैन, जहांपनाह, कॉमरेड, दत्तात्रेय वगैरह, जो मिल जाए, वही बने रहना है। अगर सत्र चल रहा है, तो हंगामा करो, और नहीं चल रहा है, तो सत्र बुलाने की मांग करो।

कांग्रेस नेताओं की बैठक, पर गांधी परिवार नदारत

Continue Readingकांग्रेस नेताओं की बैठक, पर गांधी परिवार नदारत

कांग्रेस की राजनीति तो दशकों पुरानी है लेकिन एक बात समझ नहीं आती कि कांग्रेस को किसी भी गठबंधन वाले राज्य में तवज्जो नहीं मिल रहा है फिर भी कांग्रेस लगातार विपक्ष को एकजुट करने में लगी हुई है। कांग्रेस ने इससे पहले भी यह प्रयास किया था कि देश…

राहुल आखिर क्यों लेते है आरएसएस का नाम?

Continue Readingराहुल आखिर क्यों लेते है आरएसएस का नाम?

शायद ही कभी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के किसी पदाधिकारी ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम लिया होगा और अगर लिया होगा तो उनको नसीहत ही दी होगी लेकिन राहुल गांधी अक्सर ही RSS नाम लेते फिरते रहते है। अब उनके पास कोई और मुद्दा नहीं है इसलिए,…

End of content

No more pages to load