दिव्यांग कल्याणकारी संस्था ने मनाया विश्व दिव्यांग दिवस

पुणे. विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर दिव्यांग कल्याणकारी शिक्षण संस्था एवं वैद्यकीय संशोधन केंद्र (वानवडी, पुणे) ने हर्षोल्लास के साथ दिव्यांग दिवस समारोह मनाया। इस दौरान मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित महाराष्ट्र आरोग्य मंडल (पुणे) के सचिव अनिल गुजर ने अपने संबोधन में कहा कि इस संस्था में आने पर सर्वत्र अपनत्व का भाव दिखाई देता है। सभी केवल भावनात्मक रूप से नहीं जुड़े है बल्कि आत्मीयता से जुड़े है। उन्होंने संस्था की खुले दिल से प्रशंसा कर भविष्य में हर संभव मदद करने का भरोसा दिया।

इसके बाद अतिथि के तौर पर उपस्थित आयुर्वेदाचार्य डॉ. खंडू पाठक ने अपने वक्तव्य में संस्था का आभार जताते हुए कहा कि जिस तरह से आपको दिव्यांग बच्चों की सेवा में आनंद मिल रहा है उसी तरह दिव्यांग बच्चों का इलाज कर उन्हें अपने पैरों पर खड़ा कर मुझे भी बहुत ख़ुशी होगी। उन्होंने संस्था को सहयोग देने का आश्वासन दिया और सभी को दिव्यांग दिवस का महत्व बताते हुए अपनी ओर से शुभकामनाएं दी।

इस समय संस्था के दिव्यांग एवं पूर्व जरूरतमंद छात्रों को रुग्ण उपयोगी साहित्य का वितरण किया गया. जिसमें व्हीलचेयर, लाठी, बैसाखी एवं वाकर आदि का समावेश है। इसके साथ ही उन्हें अतिथियों के हाथों राशन का भी वितरण किया गया।

भारत माता, संत ज्ञानेश्वर महाराज एवं संत सूरदास जी की प्रतिमा पूजन कर कार्यक्रम की शुरुआत की गई। ‘सभी सुखी हो, सभी सक्षम हो, सबकी मंगलकामना’ इस गीत के साथ संस्था के सेवकों ने अतिथियों का स्वागत किया।

संस्था के कार्याध्यक्ष एड. मुरलीधर कचरे ने कार्यक्रम की प्रस्तावना रखी और संस्था की सचिव श्रीमती लता यादवराव बनकर ने अतिथियों का परिचय करवाया. उप कार्याध्यक्ष डॉ. एस. बी. जैन ने सभी का आभार माना।

इस कार्यक्रम में संस्था की सह सचिव बापू जगदाले, श्रीमती अनुराधा आम्बेडकर, राजेन्द्र जाम्भुलकर एवं मुख्याधिपिका श्रीमती शिवानी सुतार सहित शिक्षक, सेवक वर्ग, दिव्यांग विद्यार्थी व उनके पालक बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

आपकी प्रतिक्रिया...