जम्मू कश्मीर में 36 घंटे में 9 आतंकी ढेर

जम्मू कश्मीर में आतंकी संगठनों का सफाया लगातार जारी है। गुरुवार को सेना और आतंकियों के बीच में शुरु हुई मुठभेड़ अभी भी जारी है ताजा रिपोर्ट के मुताबिक अभी तक 3 आतंकी मारे जा चुके है और 4 जवान भी घायल हुए है जिसमें 3 पुलिसकर्मी और एक सेना का जवान शामिल है। दरअसल श्रीनगर के पंथा चौक के पास आतंकियों के होने की जानकारी सेना को मिली जिसके बाद जम्मू कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ ने संयुक्त ऑपरेशन लांच किया। सुरक्षाबलों ने संदिग्ध इमारत की घेराबंदी करनी शुरु की ही थी कि अंदर से फायरिंग खोल दिया जिसमें 4 जवान घायल हो गए। सेना ने अपना मोर्चा संभाला और भारी फायरिंग करते हुए तीन आतंकियों को मार गिराया। सेना द्वारा मारे गये आतंकियों में से कुछ की पहचान हो चुकी है जो आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े हुए थे। मारे गये आतंकियों के पास से गोला बारूद और कुछ जरुरी कागजात भी मिले है।

कश्मीर घाटी में पिछले 24 घंटे में कुल 9 आतंकियों को मार गिराया गया है। कुलगाम, अनंतनाग और श्रीनगर की अलग अलग हुई घटनाओं में यह आतंकी मारे गये है। मुठभेड़ में घायल सभी 4 जवानों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनकी हालात अब ठीक बताई जा रही है। दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षाबलों ने एक और मुठभेड़ को अंजाम दिया जिसमें दो आतंकियों को ढेर कर दिया गया। इस ऑपरेशन में मारे गये आतंकी 13 दिसंबर के बस हमले में शामिल थे। इससे पहले नौगाम और कुलगाम में भी सुरक्षाबलों ने 4 आतंकियों को मार गिराया था। सेना के लिए यह बहुत ही बहादुरी का काम था कि एक ही रात में 6 आतंकियों को मार गिराया।

दरअसल 13 दिसंबर को श्रीनगर के जेवर में पुलिस की बस को आतंकियों ने निशाना बनाया और फायरिंग की थी जिसमें 3 पुलिसकर्मी शहीद हो गये थे और करीब 12 सैनिक घायल हुए थे। इस हमले को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने अंजाम दिया था। इस घटना के बाद से सुरक्षाबल लगातार आतंकियों की तलाश कर रहे थे और फिर अलग अलग घटनाओं में सुरक्षाबलों ने अभी तक 9 आतंकियों को मार गिराया है। मारे गये आतंकियों की पहचान सुहैल अहमद राथर, पीर अल्ताफ हुसैन और सुल्तान उर्फ रईस के रूप में हुई है इसमें सुल्तान उर्फ रईस पाकिस्तान का रहने वाला था और दक्षिण कश्मीर में 2017 से सक्रिय था। मारे गये सभी आतंकियों पर बड़े हमले करने के आरोप थे।

आपकी प्रतिक्रिया...