स्नो व्हाइट और सात बौने 

यह बेहद पुरानी बात है, एक राज्य की रानी सर्दियों के समय खिड़की के पास बैठकर कुछ सिल रही थी. अचानक सुई उसकी उंगली में चुभ गई और रानी के रक्त का क़तरा पास की बर्फ पर जा गिरा. इस घटना को देख रानी के मन में एक ख़्याल आया कि काश मेरी एक बेटी होती, जिसका रंग इस बर्फ की तरह की तरह ही सफेद होता, उसका होंठ रक्त के क़तरे से भी लाल होते और बाल काली घटाओं से.
कुछ समय बाद ही रानी को बेटी हुई और वो ठीक वैसी ही थी, जैसी उन्होंने कल्पना की थी, इसलिए उसका नाम रखा गया स्नो व्हाइट. कुझ समय बाद रानी की मृत्यु हो गया और समय बीतने के बाद राजा ने दूसरी शादी कर ली. वो नई रानी भी बेइंतेहा ख़ूबसूरत थी. रानी के पास एक जादुई आईना था, जिससे वो वो रोज़ पूछती कि बता इस दुनिया में सबसे सुंदर कौन है? चूंकि वो आईना कभी झूठ नहीं बोलता था, तो वो हमेशा कहता- आप ही सबसे सुंदर हो रानी. यह सुन रानी ख़ुद भी इतराती.

समय बीतने के साथ-साथ स्नो व्हाइट की ख़ूबसूरती और भी निखरती गई और एक दिन ऐसा आया, जब जादुई आईने ने रानी की बजाय जवाब दिया- जग में सबसे सुंदर है- स्नो व्हाइट! यह सुन रानी को सदमा लगा और वो स्नो व्हाइट से जलने लगीं. रानी ने अपने सबसे ख़ास और क़रीबी सिपाही को बुलाकर आदेश दिया कि स्नो व्हाइट को दूर जंगल में ले जाकर मार डालो.
सिपाही स्नो वहाइट को ले तो गया, पर उसे मार नहीं पाया. मासूम स्नो व्हाइट पर उसको दया आ गई और उसने स्नो व्हाइट को रानी की असलियत बताकर उससे दूर रहने को कहा. स्नो व्हाइट को जंगल में ज़िंदा ही छोड़कर जाते समय सिपाही एक जंगली जानवर का दिल ले गया सबूत के तौर पर.

स्नो व्हाइट यहां-वहां भटकती रही कि तभी उसकी नज़र एक छोटे-से घर पर पड़ी. वो घर एकदम बच्चों के घर जैसा था. वो घर था सात बौनों का. स्नो व्हाइट ने देखा वहां खाना भी है, वाइन भी है. उसे भूख लगी थी. इतने छोटे-छोटे बर्तन और चीज़ें उसे आकर्षित कर रही थीं. स्नो व्हाइट ने खाना खाया, वाइन भी और सो गई. जब बौने घर लौटे तो सब कुछ अस्त-व्यस्त देखकर सोच में पड़ गए, फिर उनकी नज़र स्नो व्हाइट पर पड़ी. वो जाग गई और उसने बौनों को अपनी कहानी सुनाई, तो उन्हें उस पर दया आ गई और उन्होंने उसे अपने साथ रख लिया. वो घर का सारा काम करती और बौने जंगल में जाकर पैसे, खाने का इंतज़ाम करते. बौनों ने स्नो व्हाइट को सावधान रहने को कहा कि जब वो घर पर न हों, तो किसी को भी घर में न घुसने दे.

इस बीच रानी से फिर से अपने आईने से पूछा कि कौन सबसे सुंदर है, आईने ने कहा आप बेशक सबसे सुंदर हैं, लेकिन जो आपसे भी सुंदर है, वो है- पहाड़ों के उस पर, सात बौनों के साथ रहनेवाली स्नो व्हाइट. रानी ग़ुस्से से आग-बबूला हो गई और उसने स्नो व्हाइट को ख़त्म करना का बीड़ा ख़ुद उठाया. उसने एक बुढ़िया का वेश धरा और कंघी बेचनेवाली बनकर जंगल की तरफ़ चल पड़ी. स्नो व्हाइट को देखकर उसने कहा कि ये कंघी ले लो बेटी. मैं तुम्हारे बाल संवारकर दिखाती हूं, जैसे ही उसने स्नो व्हाइट के बालों को कंघी किया, स्नो व्हाइट बेहोश होकर गिर पड़ी, क्योंकि वो कंघी ज़हरीली थी. रानी वहां से चली गई, लेकिन फ़ौरन बौने आकर स्नो व्हाइट के बालों से कंघी निकाल देते हैं और वो बच जाती है.रानी फिर आईने से पूछती है, आईना वही जवाब देता है.

रानी फिर किसान की बूढ़ी बीवी का वेश बदलकर जाती है. वो अपनी टोकरी में ज़हरीले सेब लेकर जाती है. यह सेब ख़ासतौर से उसने ख़ुद तैयार किए थे, जिसमें यह ख़ासियत थी कि जो भी इसे चखेगा, वो स्लीपिंग डेथ में चला जाएगा और इस जादुई ज़हरीली सेब का असर स़िर्फ और स़िर्फ फर्स्ट किस से ही ख़त्म हो पाएगा. रानी आश्‍वस्त थी कि स्नो व्हाइट को तो मरा हुआ सझकर बौने दफना ही देंगा और इस तरह से वो अपने मंसूबों में कामयाब हो जाएगी. रानी स्नो व्हाइट से कहती है कि ये मीठे सेब हैं, तुम इन्हें ख़रीद लो. स्नो व्हाइट इस बार सतर्क थी. उसने दरवाज़ा नहीं खोला. लेकिन वो बार-बार आग्रह करने लगी, फिर उसने एक सेब के दो टुकड़े किए, जिसका एक टुकड़ा ज़हरीला नहीं था और दूसरा था. रानी ने सादा वाला टुकड़ा खाकर कहा कि देखा इतना रसीला सेब है, मैं भी लालच नहीं रोक पा रही. स्नो व्हाइट को लगा यह सच कह रही है, उसने भी दूसरा टुकड़ा चखा. लेकिन उसे चखते ही वो बेहोश होकर गिर पड़ी. रानी हंसते हुए चली गई, क्योंकि इस बार उसने बेहद ज़हरीला वार किया था, जिससे बचना स्नो व्हाइट के लिए नामुमकिन था.

स्नो व्हाइट ऐसी अवस्था में चली गई थी, जहां अस्थाई तौर पर उसके शरीर के अंग क्रियाशील नहीं थे, बौने भी उसे बचा नहीं सके और उन्हें लगा वह मर गई. सभी फूट-फूट कर रोने लगे. उन्होंने स्नो व्हाइट को देखा, वो एकदम फ्रेश लग रही थी. उनका मन नहीं माना कि उसे ज़मीन में दफना दें, इसलिए उसके लिए कांच का बॉक्स तैयार किया और उसे उसमें सुला दिया. कांच के बॉक्स पर लिखा कि यह अनमोल है!

इस बीच रानी आईने से पूछती और आईना कहता- तुम ही सबसे सुंदर हो. रानी ख़ुद भी गर्व करती.
समय बीतने लगा. कुछ समय बाद ही उस जंगल से एक सुंदर राजकुमार जा रहा था. उसने स्नो व्हाइट को देखा और उसका दीवाना हो गया. बौनों ने भी देखा कि ये राजकुमार क्या करेगा. राजकुमार बेहद दुखी था कि जिस लड़की से मुझे प्यार हुआ, वो तो ज़िंदा ही नहीं है. उसने कॉफिन का कांच खोला और सोचा अलविदा करने से पहले अपने पहले प्यार को जीभर के देख लूं. राजकुमार ने कांच खोला और स्नो व्हाइट को भावुकता में एक किस कर दिया.

किस करते ही रानी का जादू ख़त्म हो गया. स्नो व्हाइट ज़िंदा थी. राजकुमार की ख़ुशी का ठिकाना न रहा. बौने भी ख़ुशी से उछल पड़े. राजकुमार स्नो व्हाइट को अपने देश ले गया. वहां जाकर उन्होंने शादी की, शादी में बौनों के साथ-साथ रानी को भी बुलाया गया. बौने भी बेहद ख़ुश थे. इस बीच रानी ने आईने से पूछा कि कौन है सबसे हसीन, तो आईने ने कहा, तुम हो सबसे हसीन, लेकिन तुमसे भी हसीन है वो नई रानी.

स्नो व्हाइट की असलियत जाने बिना रानी नई रानी की ख़ूबसूरती देखने शादी में चली गई, लेकिन उसे देखते ही उसके होश उड़ गए. रानी को देश निकाला दे दिया गया और स्नो व्हाइट राजकुमार के साथ ख़ुशी-ख़ुशी रहने लगी.

सीख: ईर्ष्या और षडयंत्र करनेवाले ख़ुद अपनी ही आग में जल जाते हैं. एक न एक दिन उन्हें अपने किए की सज़ा मिलती ही है. इसलिए मन में किसी के लिए भी ईर्ष्या मत रखो और षडयंत्र से दूर रहो.

 

आपकी प्रतिक्रिया...