तेरे बज्म में आनेसे ऐ साकी….

Continue Reading तेरे बज्म में आनेसे ऐ साकी….

‘उर्दू गजल’ के चाहनेवाले दिन-ब-दिन बढते ही रहे हैं; और यह बडी खुशी की बात है । इस में पुरानी फिल्मों के संगीत का बडा योगदान रहा है। संगीतकार मदनमोहन, नौशाद, सी. रामचंद्र जैसे कई महान संगीतकारों ने इस विषय में अपनी छाप छोडी है । जगजितसिंग, अनुप जलोटा, तलत…

दिल ही तो है….    

Continue Reading दिल ही तो है….    

 शायरी के शब्दों के पीछे भी गहरा मतलब छिपा रहता है इसलिए तो वह शायरी या कविता कहलाती है। वह गहरा अर्थ समझने पर ही पाठक को असली आनंद आता है। पुराने गीत अच्छी शायरी हुआ करती उर्दू शायरी में दिलचस्पी रखने वालों की संख्या आजकल कम नहीं है ।…

दर्द-ए-मलिका मीना कुमारी

Continue Reading दर्द-ए-मलिका मीना कुमारी

इत्तेफाकन् मैं आपके कंपार्टमेंट में चला आया; आपके पांव देखे; बहुत हसीन हैं इन्हें जमीन पर मत उतारिएगा, मैले हो जाएंगे.. पाकीजा फिल्म में राजकुमार का यह संवाद याद आता है? पाकीजा याने शुद्ध, पवित्र! एक नर्तकी के जीवन में एक ऐसा गबरू जवान आता है, जो उससे ‘रूहानी’ मुहब्बत…

बदनसीब शायर -बहादुरशाह जफ़र

Continue Reading बदनसीब शायर -बहादुरशाह जफ़र

ये पंक्तियां मुग़ल बादशाह बहादुरशाह जफ़र की हैं। बहादुर शाह जफ़र भारत में अंग्रेजों के शासन से पहले का अंतिम बादशाह था। जफ़र की इतनी अवहेलना की गयी थी कि वे सोचते थे कि उनसे से तो शतरंज का बादशाह अच्छा है।

शायरी का खुदा-मीर तक़ी मीर

Continue Reading शायरी का खुदा-मीर तक़ी मीर

शायर कहता है देखो जरा यह धुआं कहां से उठ रहा है। जरूर किसी प्रेमी का दिल दुख से जल रहा होगा। ये धुआं उसके दिल से उठ रहा है या दर्द उसके प्राणों तक चले जाने के कारण उसके प्राणों से उठ रहा है। कहीं वह प्रेमी जीवन-मृत्यु की सीमा पर तो नहीं है?

शब्दों के जादूगर-साहिर लुधियानवी

Continue Reading शब्दों के जादूगर-साहिर लुधियानवी

इस तरह के गद्य रूप के गीतों को सुनकर याद आती है पुराने मधुर संगीत की और उन्हें लिखने वाले गीतकारों की। हमारी जैसी पूरी एक पीढ़ी का सांस्कृतिक पोषण इन शायरों की शायरी ने ही किया है। भले ही फिल्मों के लिए लिखा गया हो, परंतु उसमें काव्य भरपूर हुआ करता था।

मिहरे-नीम रोज़ मिर्ज़ा ग़ालिब

Continue Reading मिहरे-नीम रोज़ मिर्ज़ा ग़ालिब

शायरी पसंद करनेवाला शायद ही कोई हो जिसे ग़ालिब का यह शेर पता न हो। हृदय में जागृत हुए प्रेम के दुख से व्याकुल कवि के ये उद्गार मन को ‘स्पर्श’ कर जाते है। प्रेम कवि के मन को इतनी पीड़ा देता है कि वह किसी भी तरह कम नहीं होती।

तू जी ऐ दिल जमाने के लिए…

Continue Reading तू जी ऐ दिल जमाने के लिए…

मन्ना डे चले गए और मन भी पचास के दशक के अतीत में चला गया। उस समय हम भाई-बहन भी किशोर वयीन थे। फिल्म ‘सीमा’ देखी थी। दो गानों ने हमें दीवाना बना दिया था-

दर्द-ए-मलिका मीना कुमारी

Continue Reading दर्द-ए-मलिका मीना कुमारी

पाकीजा फिल्म में राजकुमार का यह संवाद याद आता है? पाकीजा याने शुद्ध, पवित्र! एक नर्तकी के जीवन में एक ऐसा गबरू जवान आता है, जो उससे ‘रूहानी’ मुहब्बत करता है।

End of content

No more pages to load