मकर संक्रान्ति के स्नान व दान का महत्व

Continue Readingमकर संक्रान्ति के स्नान व दान का महत्व

भगवान सूर्य जब शनि के साथ मकर राशि में प्रवेश करते हैं तो उस दिन मकर संक्रांति का त्यौहार मनाया जाता है। इस दिन से ही सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण की तरफ चलना शुरु करता है। हिन्दू धर्म में इसी दिन से मलमास की समाप्ति होती है और शुभ दिनों की…

आध्यात्मिक चेतना और राष्ट्रीय एकात्मता का पर्व मकर संक्रांति

Continue Readingआध्यात्मिक चेतना और राष्ट्रीय एकात्मता का पर्व मकर संक्रांति

शीत  ऋतु के बीच जब सूर्य धनु राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करते हैं तो मकर संक्रांति होती है, इसी दिन से सूर्य की उत्तरायण गति प्रारम्भ होती है। यह पर्व जीवन व सृष्टि में नवसंचार करता है। यह हिंदुओं का प्रमुख काल चेतना या परिवर्तनकारी समय का…

लव जिहाद को बढ़ावा देता बॉलीवुड, #Boycott_Atrangi_Re ट्विटर पर कर रहा है ट्रेंड

Continue Readingलव जिहाद को बढ़ावा देता बॉलीवुड, #Boycott_Atrangi_Re ट्विटर पर कर रहा है ट्रेंड

एक तरफ पूरे देश में लव जिहाद जैसे कानून बनाए जा रहे हैं और उसे सख्ती से लागू करने की कोशिशें भी की जा रही है। वहीं दूसरी ओर हमारे ही देश के अंदर बॉलीवुड के कलाकार फिल्म निर्देशक और  फिल्म निर्माता भारत की संस्कृति को छिन्न-भिन्न करने पर तुले…

सनातन धर्म होगा अगला पड़ाव!

Continue Readingसनातन धर्म होगा अगला पड़ाव!

  वेदों और शास्त्रों के माध्यम से यह पता चलता है कि सनातन धर्म दुनिया का सबसे पुराना और एकमात्र धर्म है जहां हिंसा और अपराध को बढ़ावा नहीं दिया जाता है बल्कि प्यार और सहयोग की भावना जागृत की जाती है। 'सनातन' का अर्थ है 'शाश्वत' यानी 'हमेशा बना…

पीएम मोदी ने देश को समर्पित किया काशी विश्वनाथ कॉरिडोर

Continue Readingपीएम मोदी ने देश को समर्पित किया काशी विश्वनाथ कॉरिडोर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर का उद्घाटन कर एक बड़ा कीर्तिमान चर दिया। शिव जी के त्रिशूल पर टिकी काशी में बाबा विश्वनाथ मंदिर का बड़ा महत्व है जिसे आज मोदी सरकार की मेहनत से एक नया रूप दिया गया। करीब 54 हजार वर्ग मीटर में फैले इस…

आज के युग में “अहं ब्रह्मास्मि” की अनिवार्यता

Continue Readingआज के युग में “अहं ब्रह्मास्मि” की अनिवार्यता

हजारों वर्षों से भारत अपनी महान विरासत और ऋषियों के लिए जाना जाता है।  विभिन्न समयों पर, ऋषियों ने मानव जीवन के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं का अध्ययन किया, जैसे कि मन, बुद्धि, स्मृति, अहंकार और आत्मन। इन पहलुओं की संतों के विस्तृत अध्ययन और ज्ञान का व्यापक रूप से वैश्विक विचारकों और दार्शनिकों द्वारा अपने स्वयं के…

हिन्दू धार्मिक नेताओं का एकजुट होना जरुरी

Continue Readingहिन्दू धार्मिक नेताओं का एकजुट होना जरुरी

बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदुओं के खिलाफ जो कुछ भी हुआ वह कोई मामूली घटना नहीं थी। जब इस्कॉन ने विरोध की तारीख और समय के बारे में विस्तार से सब कुछ घोषित किया, तो क्या सभी धार्मिक नेताओं, मठाधिपती, अखाड़ा प्रमुख आदि सभी की यह जिम्मेदारी नहीं थी कि वे आगे आएं और बांग्लादेश में हिन्दू अल्पसंख्यकों के साथ खड़े हो जाएं?

ब्रह्म मुहूर्त का महत्त्व

Continue Readingब्रह्म मुहूर्त का महत्त्व

सूर्योदय से चार घड़ी पूर्व यानी करीब डेढ़ घंटे पहले का समय ब्रह्म मुहूर्त होता है और हिन्दू धर्म में नींद त्यागने के लिए यह समय सबसे उपयुक्त समय बताया गया है। ब्रह्म मुहूर्त यानी सुबह करीब 4 से 5.30 तक का समय जब सभी को नींद त्यागनी चाहिए और…

हिंदू धर्म परंपरा: ‘तिलक’ और उनकी विभिन्नता

Continue Readingहिंदू धर्म परंपरा: ‘तिलक’ और उनकी विभिन्नता

हिन्दू धर्म में कुछ ऐसी परंपराएं हैं जिनका महत्व तो बहुत है, लेकिन समय के साथ-साथ वह धूमिल पड़ती जा रही है। माथे पर किसी प्रकार का तिलक या टीका एक धार्मिक प्रक्रिया प्रतीत होते हुए भी विज्ञान और दर्शन का उत्कृष्ट समावेश है। प्राचीन काल में जब भी राजा महाराजा…

हिन्दू और हिंदुत्व में बस इतना सा अंतर है

Continue Readingहिन्दू और हिंदुत्व में बस इतना सा अंतर है

हिंदू धर्म व हिंदुत्व में अंतर है, यह बहस चल रही है। हिंदू धर्म व हिंदुत्व में अंतर नहीं है। हिंदुत्व हिंदू धर्म का प्रयोग है। हिंदू धर्म यदि सिद्धांत हैं तो हिंदुत्व उसका प्रयोग है। उदाहरण देखें.... अहिल्या का उद्धार करना हिंदू धर्म है और बाली का संहार करना…

क्यों जरुरी हैं छठ पर्व ?

Continue Readingक्यों जरुरी हैं छठ पर्व ?

दुनिया का इकलौता ऐसा पावन पर्व जिसकी महत्ता दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। आज यह पर्व भारत, मलेशिया के अतिरिक्त लंदन, अमेरिका में भी बड़े धूमधाम से मनाया जा रहा है। ये छठ पूजा जरुरी है धर्म के लिए नहीं अपितु.. हम-आप सभी के लिए जो अपनी जड़ों…

पर्व त्यौहारों की विविधता है भारत की पहचान

Continue Readingपर्व त्यौहारों की विविधता है भारत की पहचान

पोंगल,जल्लीकट्टू,कम्बाला,पोळा,सोहराय,सोनहाना आदि आदि परब त्योहार पशुधन को समर्पित परब है जो कृषि प्रधान भारत वर्ष को विविधता के साथ संस्कृति के एक सूत्र में बाँधने का काम करता है।.. कोई एक साथ ही दीपावली मना रहा तो कोई सोहराय तो कोई काली पूजा, तो कोई कुछ और, कहीं कोई समस्या…

End of content

No more pages to load