दि. २९ जून – ४ जुलाई अंक

हिंदी विवेक के इस अंक में आवरण कथा भारत चीन संघर्ष पर आधारित है. कवर पृष्ठ देखकर ही भारत के शौर्य पराक्रम से लबरेज भारतीय सेना युद्ध के लिए तैयार है, इसका सन्देश मिल जाता है. वामपंथी चोले में साम्राज्यवादी आचरण, सीमा विवाद की वास्तविकता, श्रीगुरुजी का चीन के सन्दर्भ में चिंतन, चीन से कैसे निपटे ? भारत से मिलेगा चीन को करारा जवाब जैसे शीर्षकों से प्रकाशित आवरण कथा देशवासियों में आत्मविश्वास जगाती हुई प्रतीत होती है और चीन के विस्तारवादी नीतियों पर आघात पहुंचाती है. इसके अलावा क्या वैश्वीकरण का तिलस्म टूटेगा ? वेब सीरिज पर सेंसर जरुरी, ‘ऑर्गेनिक खेती से समृद्ध होगा राज्य’ जैसे आलेख पाठकों के लिए जागरूक करने के साथ ही आकर्षण के केंद्र है. हमें विश्वास है कि हिंदी विवेक का यह अंक पाठकों को बेहद पसंद आएगा.

आपकी प्रतिक्रिया...