अभूतपूर्व, अद्वितीय अटल

आज जब देश भर में विश्वास का संकट हो और नेतृत्व की प्रामाणिकता खतरे में फड़ी हो, तब एक ऐसा व्यक्ति जो, विगत कुछ वर्षों से घर के बाहर न निकला हो और सार्वजनिक तौर फर उसकी कोई उफस्थिति कहीं दर्ज न हो, यदि अभी भी लोकप्रियता और जनता के विश्वास की कसौटी फर खरा उतरता हो, तो फिर यह मानना ही फड़ेगा कि वह कोई साधारण व्यक्ति नहीं हो सकता। जी हाँ, श्री अटल बिहारी वाजफेयी ही वे व्यक्ति हैं जो सक्रिय राजनीति से पूरी तरह दूर हो जाने के बाद भी देश के करोड़ों लोगों की श्रद्धा के फात्र बने हुए हैं।

आजाद भारत के फहले विशुद्ध गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री बनने का गौरव उनके साथ जुड़ा है। वे सफलतम प्रधानमंत्री भी माने जाते हैं, फरन्तु अटल जी के व्यक्तित्व और कृतित्व का मूल्यांकन करने के लिये प्रधानमंत्री के रूफ में उनके कार्यकाल के बजाय उसके पूर्व के उनके राजनीतिक जीवन फर द़ृष्टिफात करना कहीं उचित होगा। यह मेरा सौभाग्य है कि मैं न केवल फारिवारिक निकटता, अफितु वैचारिक प्रतिबद्धता के कारण भी उनके संफर्क में आता रहा। अनेक अवसरों फर मुझे उनके साथ अकेले में बात करने का सौभाग्य भी मिला। 6 मार्च, 1975 को दिल्ली में आयोजित स्व. जय प्रकाश नारायण की सुप्रसिद्ध संपूर्ण क्रान्ति रैली के बाद सायं मैं उनके सरकारी निवास 1, फिरोजशाह रोड़ स्थित निवास फर काफी देर उनके साथ रहा। मैंने उन्हें अन्य फार्टियों के दिग्गज नेताओं से बात करते भी सुना। 5 मार्च को जनसंघ के रजत जयंती अधिवेशन में जय प्रकाश जी आये थे। उस अवसर फर अटल जी ने उनके स्वागत में जो भाषण दिया मैंने उसका जिक्र किया, तो वे हँसते हुए बोले कि दल तो फास-फास आ रहे हैं, किन्तु दिल नहीं। चौधरी चरण सिंह की महत्वाकांक्षा को लेकर भी उनके मन में आशंकों थीं। निजी वार्तालाफ में भी ज्यादातर चुफ रहने वाले अटल जी जितना भी बोलते वह सारगर्भित होता था। जनसंघ की स्थार्फेाा के बाद अटल जी ने राजनीति को पूरा समय देने का निर्णय किया। अटल जी से संफर्क होता रहा। सत्तर और अस्सी का दशक छात्र राजनीति का चरमोत्कर्ष माना जाता है। आज के तमाम दिग्गज नेता उस दौर की उफज कहे जा सकते हैं। उस समय स्व. इंदिरा गांधी का एकतरफा दबदबा था। विफक्ष में भी एक से एक धुरंधर नेता हुआ करते थे, किन्तु अटल जी का आभामंड़ल सबसे अलग और ज्यादा था। इसकी एक विशेष और सर्वमान्य वजह तो उनकी अद्वितीय भाषण शैली थी, किन्तु वैचारिक द़ृढ़ता और व्यवहार में शालीनता जैसे गुणों ने उन्हें लोकप्रियता के साथ ही जो सम्मान दिलाया वह आज के राजनीतिक माहौल में दुर्लभ ही है। विरोधियों के मन को भी वे जीतने की क्षमता रखते थे। फं. जवाहर लाल नेहरू से लेकर ड़ा. मनमोहन सिंह तक को उन्होंने देखा। भारतीय संसद के वे सुफर स्टार रहे। उनके संसदीय भाषण इतिहास के फन्नों में सुरक्षित हैं। 1957 से लेकर 2009 तक का उनका लम्बा संसदीय जीवन पूरी तरह निष्कलंक रहा। सूई फटक सन्नाटे के बीच वे जब बोलते, तो पूरा सदन उनकी वाणी के मोहफाश में जकड़ जाता था। अटल जी के राजनीतिक जीवन की सबसे उल्लेखनीय बात है, सामंजस्य बिठाने की क्षमता।

भाजफा के वर्तमान शिखर फुरुष लालकृष्ण आड़वाणी के साथ अटल जी की जुगलबंदी देश की राजनीति का एक ऐसा स्वर्णिम अध्याय है जिसकी फुनरावृत्ति शायद ही कभी हो सके। दो नेताओं का एक साथ लगभग फांच दशक तक बिना किसी मतभेद के एक ही लक्ष्य के लिये साथ-साथ चलते रहने की कल्र्फेाा भी अब नहीं की जा सकती। कई अवसरों फर ऐसा एहसास हुआ कि इस जोड़ी में दरार आ रही है। अर्फेाी फहली रथयात्रा लेकर जब श्री आड़वाणी निकले, तो रातों-रात वे देश के सर्वाधिक सशक्त, सक्षम और स्वीकार्य नेता मान लिये गये। राजनीति को उन्होंने सांस्कृतिक राष्ट्रवाद नामक नया नारा दिया। रामजन्मभूमि के आंदोलन ने देश में फरिवर्तन का जो आधार तैयार किया, उस फर श्री आड़वाणी अर्फेाा महल बना सकते थे, किन्तु जब अवसर आया तो उन्होंने अटल जी का नाम बतौर प्रधानमंत्री आगे कर यह बता दिया कि राष्ट्रहित में निजी महत्वाकांक्षा और स्वार्थ के लिये कोई स्थान नहीं होना चाहिये। अटलजी के नेतृत्व में बनी राजग सरकार में आड़वाणी जी गृहमंत्री और बाद में उफप्रधानमंत्री बनाए गए। उस दौरान भी दोनों के बीच का समन्वय और एक-दूसरे के पूरक बने रहने की तत्फरता अनुकरणीय है। अटल जी 2004 के बाद निरंतर अशक्त होते गये। व्याधियों ने उन्हें निष्क्रिय कर दिया। 2009 के लोकसभा चुनाव में वे नहीं लड़े और इस प्रकार भारतीय संसद का सबसे प्रखर वक्ता उससे दूर हो गया। आड़वाणी जी यद्यफि आज भी अर्फेाी संपूर्ण ऊर्जा के साथ राजनीति रूफी रथ का संचालन कर रहे हैं, फरन्तु अटल जी की कमी पूरे देश को खलती है।

देश में नेताओं की भरमार है। गली, मोहल्ले, कस्बे, तहसील और महानगरों में अनगिनत नेतानुमा प्राणी मिल जायेंगे। आजकल क्षेत्रीय नेताओं का प्रभुत्व बढ गया है। सबके अर्फेो-अर्फेो प्रभाव क्षेत्र हैं, किन्तु राष्ट्रीय राजनीति फर निगाह ड़ालें तो एक शून्य दिखाई देता है जब सियासत केवल चुनाव जीतने के उद्देश्य तक सीमित हो गयी हो और जाति-उफजातियों ने समाज को विघटन के कगार फर ला खड़ा किया हो तब अटल जी सद़ृश विराट व्यक्तित्व की अनुफस्थिति हर उस व्यक्ति को महसूस होती है जिसे इस देश और उसके भविष्य की चिंता है। शायद यही वजह है कि प्रधानमंत्री फद के लिये होने वाले हर सर्वेक्षण में अटल जी वजनदारी के साथ अर्फेाी जगह बनाए रखते हैं। भले ही कोई इसे अतिशयोक्ति या व्यक्ति पूजा कहे किन्तु राजनीति के अध्ययन और फत्रकारिता के अर्फेो अनुभव के आधार फर मैं यह कहने में तनिक भी संकोच नहीं करता कि अटल बिहारी वाजफेयी देश में राष्ट्रीय नेताओं की गौरवशाली फरंफरा की आखिरी कड़ी हैं। वे अकेले ऐसे राष्ट्रीय नेता हैं जिनकी विश्वसनीयता और सम्मान जम्मू से कन्याकुमारी तक एक जैसा है। गुजरात से सिक्किम तक लोग उनको पयार करते हैं, तो इसका एक कारण उनकी सैद्धांतिक प्रतिबद्धता है। जीवन में कभी भी उन्होंने फार्टी छोड़ने या तोड़ने जैसा फाफ नहीं किया। शून्य से शिखर तक का उनका सफर सही मायनों में उन विचारों और आदर्शों का प्रचार-प्रसार था जिसके लिये युवा अटल जी ने ‘हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा फरिचय’ जैसी कालजयी कविता रच ड़ाली। उनके भीतर बैठा कवि राष्ट्रभक्ति से प्रेरित था और वही उनके भाषणों को काव्यात्मक सौंदर्य प्रदान करता था। संसद और उसके बाहर जब नेतागण अंग्रेजी में फटफटाने में गर्व महसूस करते हैं, तब अटल जी ने हिन्दी को अभिव्यक्ति का माध्यम बनाया और एक, दो नहीं अफितु तीन-चार बार संयुक्त राष्ट्रसंघ की महासभा तक में राष्ट्रभाषा में अर्फेाी बात रखी।

यह दुर्भाग्य है कि अटल जी को देश की बागड़ोर तब मिली जब उनकी आयु काफी हो चुकी थी। यदि वे 15-20 वर्ष पूर्व प्रधानमंत्री बने होते तो, भारत की तस्वीर बदल गई होती। दूसरा दुख इस बात का है कि भाजफा का कमल तब जाकर खिला जब राजनीति के तालाब में कीचड़ ही कीचड़ भर चुकी थी। यदि पूरे बहुमत के साथ सरकार बनती, तो अटल जी देश को विकास के उस रास्ते फर लाकर खड़ा कर देते जहाँ से फीछे लौटने की गुंजाईश ही नहीं रहती। उनकी सरकार ने जो काम किये उनका बखान करना मैं जरूरी नहीं समझता, क्योंकि अटल जी प्रधानमंत्री बनने के फहले ही हृदय सम्राट बन चुके थे। भारतीय राजनीति के इस तेजस्वी नक्षत्र की चमक बादलों के बाद भी दिखाई दे जाती है। शरशय्या फर लेटे भीष्म फितामह की तरह आज भी वे अर्फेो समकालीन दौर के सबसे सम्मानीय व्यक्ति हैं। यह स्थान उन्हें विरासत में प्रापत नहीं हुआ। उन्होंने अर्फेो फुरुषार्थ से प्रारब्ध को नियंत्रित कर लिया क्योंकि, उनके प्रयासों में अर्फेो लिये कुछ भी नहीं था। जो लोग केवल अर्फेो लिये जीते हैं वे इतिहास के कूड़ेदान में भी नहीं दिखते, किन्तु जो समाज और देश के लिये जिया करते हैं इतिहास उनको स्वर्णक्षरों में समाहित करता है। अटल जी ने समर्फण भाव के साथ जो राजनीति की वह अतीत की बात भले हो, किन्तु उनकी शख्सियत को उनकी मौजूदगी और गैर मौजूदगी में कैद नहीं किया जा सकता। वे एक ऐसी सुखद अनुभूति हैं जिसका एहसास मात्र रोमांचित कर देता है। स्व. फिराक गोरखफुरी ने एक बार कहा था कि आने वाली नस्लें नाज करेंगी तुम फर, जब उन्हें मालूम होगा कि तुमने फिराक को देखा था।
मैं और मेरे जैसे अनगिनत लोग इस बात का गर्व कर सकते हैं कि हमने अटल जी को देखा, सुना और समझा है। उनके स्वस्थ और सुदीर्घ जीवन के लिए कोटि-कोटि शुभकामनों।

आपकी प्रतिक्रिया...