अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक पर छिड़ी बहस

Continue Readingअल्पसंख्यक और बहुसंख्यक पर छिड़ी बहस

  जब से कश्मीर फाइल्स फिल्म रिलीज हुई है तब से बहुत सारे प्रश्न सामाजिक विमर्श में उभर आए हैं तथा आम जनमानस उन प्रश्नों के उत्तर की तलाश कर रहा है । एक प्रश्न यह भी है कि अल्पसंख्यकों को विशेष अधिकार क्यों , भारत में अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक…

अप्रिय विवाद का पटाक्षेप

Continue Readingअप्रिय विवाद का पटाक्षेप

कृषि कानूनों के मुद्दे पर राजग से नाता तोड़कर अकाली दल की असली मंशा यह थी कि वह खुद को पंजाब के किसानों का सबसे बड़ा हितैषी साबित कर सके। अब जबकि प्रधान मंत्री मोदी ने नए कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा कर दी है तब अकाली दल को भाजपा से पुनः मित्रता करने में कोई दिक्कत होने का प्रश्न ही उपस्थित नहीं होता।

हिमालय क्षेत्र में प्रकृति संरक्षण एवं आपदा प्रबंधन

Continue Readingहिमालय क्षेत्र में प्रकृति संरक्षण एवं आपदा प्रबंधन

पहाड़ी क्षेत्रों में बादल का फटना एवं भूस्खलन एक साधारण घटना है, लेकिन केदारनाथ क्षेत्र में इतनी बड़ी आपदा पहली बार हुई है। इसी तरह से बादल का फटना, भूस्खलन, नदी की धारा बाधित होना, अल्पकालिक झील का निर्माण, झील का ध्वस्त होना एवं त्वरित बाढ़ का आना एवं अवसाद के अपवहित होने की घटना पर गंगोत्री हिमनदीय क्षेत्र में शोध अध्ययन किए गए हैं।

राजनीतिक सामाजिक हालातों की चिंताजनक कहानी

Continue Readingराजनीतिक सामाजिक हालातों की चिंताजनक कहानी

राज्य गठन के बाद उत्तराखंड को अटल सरकार ने दस साल के लिए औद्योगिक पैकेज दिया था। इसके तहत राज्य के मैदानी इलाकों में इंडस्ट्री तो आयी लेकिन पैकेज सब्सिडी अवधि खत्म होने के बाद उत्पादन ठप्प कर दिया। नतीजतन स्थानीय युवकों को रोजगार के संकट से गुजरना पड़ा और भू माफियाओं की दखलंदाजी बढ़ने से कृषि योग्य भूमि भी घटती चली गई।

जनसंघ की निधि पर भाजपा की शक्ति

Continue Readingजनसंघ की निधि पर भाजपा की शक्ति

मां और पुत्र के बीच जो शाश्वत प्रेम प्राकृतिक रूप से स्थापित होता है, वह किसी अन्य परस्पर दो जीवो के बीच देखने को नहीं मिलता। इसका एक प्रमुख कारण यह भी है कि मां अपने पुत्र को नौ माह तक पहले गर्भ में उसका पालन पोषण करती है। अनेक…

मीडिया का माइक चालू था और कांग्रेस नेता पढ़ रहे थे शिवकुमार के गैरकानूनी कमाई की किताब

Continue Readingमीडिया का माइक चालू था और कांग्रेस नेता पढ़ रहे थे शिवकुमार के गैरकानूनी कमाई की किताब

कांग्रेस और भ्रष्टाचार का बहुत पुराना रिश्ता रहा है और यह रिश्ता लगातार बढ़ता ही जा रहा है। अगर आप को पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस के घोटालों की खबर नहीं मिल रही है तो कारण है उसका सत्ता से दूर रहना। जब देश में राजीव गांधी की सरकार थी…

कन्हैया और जिग्नेश को शामिल करने के खतरे कांग्रेस के लिए ही ज्यादा हैं

Continue Readingकन्हैया और जिग्नेश को शामिल करने के खतरे कांग्रेस के लिए ही ज्यादा हैं

कांग्रेस की दुर्दशा का इससे बड़ा प्रमाण कुछ नहीं हो सकता है कि इस समय उसके बारे में जो भी नकारात्मक टिप्पणी कर दीजिए सब सही लगता है। केंद्रीय नेतृत्व यानी सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा जो दांव लगाते हैं वही उल्टा पड़ जाता है। कन्हैया कुमार को…

प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी के खिलाफ साजिशे….

Continue Readingप्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी के खिलाफ साजिशे….

लोकतंत्र ने हर व्यक्ति को विरोध करने और अपने विचार खुलकर व्यक्त करने का अधिकार दिया है, इरादा लोकतंत्र को जीवंत और गतिशील बनाना है ताकि समाज और देश के प्रत्येक वर्ग को लाभ हो। हालाँकि कुछ राजनीतिक दलों और उनके संगठनों के अलग-अलग एजेंडा हैं और इस लोकतांत्रिक साधन…

मुख्यमंत्री बदलना भाजपा की चुनावी रणनीति 

Continue Readingमुख्यमंत्री बदलना भाजपा की चुनावी रणनीति 

गुजरात भाजपा के राजनीतिक इतिहास की जांच करने पर यह स्पष्ट है कि चुनाव से डेढ़ साल पहले से ही भाजपा के नेता चुनावी रणनीति बनाने में लगे हैं और हर हाल में अगले साल आने वाले चुनाव में ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने की कोशिश कर रहे हैं। संक्षेप में व्यवहार्यता महत्वपूर्ण है, व्यक्ति नहीं।

आरएसएस की तालिबान से तुलना जावेद अख्तर को पहुंचाएगी जेल!

Continue Readingआरएसएस की तालिबान से तुलना जावेद अख्तर को पहुंचाएगी जेल!

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा कार्यों का जिक्र समाज में बहुत ही कम होता है, जबकि संघ को कट्टर हिंदुत्व के लिए हमेशा से निशाने पर लिया जाता है। क्या ऐसे लोगों को सेवा कार्य नजर नहीं आता या फिर वह जानबूझकर उसे नजर अंदाज करते है। यह जरुरी नहीं…

लखीमपुर: क्या किसानों पर सच में चढ़ाई गयी कार?

Continue Readingलखीमपुर: क्या किसानों पर सच में चढ़ाई गयी कार?

किसानों का आंदोलन दिल्ली से चलकर उत्तर प्रदेश तक पहुंच चुका है और उत्तर प्रदेश में इसका एक भयानक रूप देखने को मिला जिसने अभी तक 9 लोगों की जान ले ली है। देश में इससे पहले भी किसानों के आंदोलन हुए हैं लेकिन ऐसा आंदोलन शायद यह पहला होगा…

सिंहदेव की मजबूत दावेदारी से धर्मसंकट में कांग्रेस हाईकमान

Continue Readingसिंहदेव की मजबूत दावेदारी से धर्मसंकट में कांग्रेस हाईकमान

आज से लगभग तीन वर्ष पूर्व संपन्न मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभाओं के चुनावों में छत्तीसगढ़ एकमात्र ऐसा राज्य था जहां कांग्रेस की प्रचंड विजय ने डेढ़ दशकों से सत्तारूढ भाजपा को स्तब्ध कर दिया था। भाजपा को डेढ़ दशकों के बाद सत्ता से बाहर दिखाने में  राज्य के जिन…

End of content

No more pages to load