सुन्दर केशों का रहस्य

सुन्दर केश आपके व्यक्तित्व को निखारते हैं, पर ऐसा बहुत कम महिलाओं के साथ होता है कि उनके केश सुन्दर और स्वस्थ बने रहें। केशों का झड़ना आम बात है जो दुनिया भर की महिलाओं के लिए चिन्ता का विषय बना हुआ है।

हर किसी को अपने बाल बेहद प्रिय हैं। इसी कारण लोग भारी से भारी ब्राण्डेड शैम्पू, तेल या कलर खरीदने से भी परहेज नहीं कर रहे हैं, ताकि इन सभी सामगियो्ंर से अपने केश की रक्षा कर सकें। लोगों में काफी वक्त से यह धारणा बन चुकी है कि वे ब्राण्डेड सामग्री के इस्तेमाल से घने, काले और रेशमी केश पाने में सक्षम हो पाएंगे, क्योंकि आज प्रदूषण, धूल‡मिट्टी, खान‡पान में लापरवाही और अस्त‡व्यस्त जीवनशैली बालों को बेजान तो बनाती ही है, साथ ही उन्हें खराब भी करती है। बाल झड़ने की समस्या शुरू हो जाती है। वैसे तो अनेक कारणों से भी बाल झड़ जाते हैं। कहा जाता है कि गर्भावस्था में भी अधिकतर महिलाओं के बाल झड़ जाते हैं। कभी‡कभी दवाइयों की अधिक मात्रा के कारण भी बालों का झड़ना शुरू हो जाता है। अगर आप किसी प्रकार के तनाव से गुजर रहे हों तो स्वाभाविक है कि बाल झड़ जाते हैं या बेजान हो जाते हैं। कभी तो बाल झड़ने की समस्या अनुवांशिक होती है। महिलाएं अपने बजट से बाहर जाकर एक से एक बड़े प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करती हैं।

लेकिन इन सब चीजों से परे एक और असलियत है जो बहुत कम लोग जानते हैं या कम ही लोग सस्ते और टिकाऊ प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हैं। कल्याण में रहने वाली एक महिला से हमने जब मुलाकात की तो पता चला कि इनके बढ़े हुए बालों का राज बेहद सस्ता है। 25 वर्षीय रेशमा कांबले को अपने बढ़े हुए बालों के लिए ें कई बार खिताब मिल चुका है। हाल ही में इन्हें लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है। अपने बालों की वजह से इन्हें कई विज्ञापनों का ऑफर भी मिलने लगा है। कई बार महंगे प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करके भी अच्छे बाल किसी को मिल नहीं पाते हैं। लेकिन रेशमा कांबले अपने बाल पर सिर्फ शिकाकाई साबुन और नारियल के तेल का इस्तेमाल करती हैं और इस तरह अपने बाल का ध्यान रखती हैं। बालों को लेकर हर कोई उत्साहित रहता है इसी उत्सुकता के कारण हमने उनसे कुछ सवाल किये।

आपके बढ़ते हुए बालों का राज क्या है?

‡ मेरे बढ़ते हुए बालों का राज कोई भी महंगा प्रोडक्ट्स, शैम्पू, कंडिश्नर नहीं है। मैं सिर्फ शिकाकाई साबुन का इस्तेमाल करती हूं। हफ्ते में एक बार शिकाकाई साबुन से बाल धोकर बाल पर कोकोनट ऑयल लगाकर मसाज करती हूं। इससे मेरे बाल घने, मुलायम और लम्बे हुए हैं।

आपको बाल लम्बे करने का शौक कैसे हुआ?

‡ हां, मेरी मां और मासी के बाल लम्बे थे, उन्हें ही देखकर मुझे प्रेरणा मिली। उन्हें देखकर ही लगा कि मेरे भी बाल लम्बे और घने होने चाहिए। इस कारण मैंने अपने बाल को बढ़ाने की तरफ ध्यान दिया और सफल भी हुई हूं।

सुना है डिलीवरी के बाद बाल झड़ने लगते हैं और ग्रेथ रुक जाती है?

‡ हां, अक्सर ऐसा होता है, लेकिन मेरे साथ अब तक ऐसा नहीं हुआ है। आगे देखते हैं मुझे मेरे बाल को और अधिक बढ़ाना है तो मैं अपने बाल की केयर करूंगी।

आपके बाल काफी बड़े और खूबसूरत हैं तो इसे कभी आपने काटा है?

‡ नहीं, मुझे बाल कटाना पसंद नहीं है, शुरुआत से ही मैं अपनी मां से जरा सा बाल कटाती रही हूं। मैंने कभी ब्यूटी पार्लर का सहारा नहीं लिया। मुझे मेरे लम्बे बाल ही पसंद हैं। मुझे मेरे लम्बे बाल के लिए स्कूल कॉलेज में कॉम्पलिमेंट मिलता रहा है। मेरे ससुराल वालों ने बाल को देखकर ही शादी के लिए हां कहा था। मेरे पति को मेरे बड़े और लम्बे बाल बेहद पसन्द हैं।

आप महिलाओं को बालोंकी देखभाल के लिये क्या सुझाव देंगी?

‡ बस! मैं तो यहीं कहूंगी कि महंगे शैम्पू और कंडिश्नर से जहां तक हो बचें और ज्यादा से ज्यादा कोकोनट ऑयल का इस्तेमाल करें।

रेशमा कांबले के बाल को देखकर आपको भी महसूस होगा कि काश, हमारे बाल भी बड़े और लम्बे होते तो कितना अच्छा होता! 25 वर्षीय रेशमा कांबले के बालोंकी लंबाई 6 फीट 10 इंच है। इन्हें अपने बालों पर कंघी करने के लिए स्टूल पर खड़ा रहना पड़ता है। रेशमा कांबले ने शादी से पहले कई प्रतियोगिताएं जीती हैं। उन्हे विज्ञापन में काम करने का अवसर भी मिला था। अब सन 2013 में इनके बालों के लिए इन्हें लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज किया गया है। रेशमा ने तय किया है कि अब वे आगे भी अपने बाल को बढ़ाएंगी, ताकि एक और नया रिकॉर्ड कायम कर सकें।

आपकी प्रतिक्रिया...