पीएलआई योजना: चीन की अर्थव्यवस्था को भारत ने दिया फिर झटका

भारत लगातार चीन को हर क्षेत्र में झटका दे रहा है। चीन को सीमा पर कड़ी टक्कर देने के बाद भारत लगातार चीन की अर्थव्यवस्था पर वार कर रहा है और इसका सीधा असर चीन की इकॉनामी पर भी देखने को मिल रहा है। भारत एक तरफ जहां ज्यादा से ज्यादा सामान भारत में तैयार करने की कोशिश में है तो दूसरी तरफ चीनी सामानों पर पूरी तरह से रोक लगाने की तैयारी कर रहा है। भारत सरकार के इस कदम से चीन को भी बड़ा झटका लगेगा और देश में रोज़गार भी पैदा होगा। भारत सरकार लगातार उन बड़ी कंपनियों से भी बात कर रहा है जो चीन में अपना कारोबार चला रही है। भारत सरकार की तरफ से यह आग्रह किया जा रहा है कि वह चीन से निकल कर भारत में अपना व्यवसाय शुरु करें। 
 
भारत सरकार की इस अपील के बाद सैमसंग ने चीन से कंपनी को उत्तर प्रदेश के नोएडा में शिफ्ट करने का फैसला लिया है। इस खबर की पुष्टि खुद उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से की गयी है। जानकारी के मुताबिक सैमसंग अपनी आईटी और मोबाइल डिस्प्ले कंपनी को चीन से निकाल कर नोएडा में शिफ्ट करने का प्लान किया है। सैमसंग इसके लिए 4825 करोड़ का निवेश करेगी। सैमसंग के इस फैसले से जहां चीन को बड़ा झटका लगने वाला है वहीं देश की अर्थव्यवस्था के लिए यह एक बड़ा फैसला माना जा रहा है। सैमसंग के नोएडा प्रोजेक्ट के चालू होने के बाद इसमें करीब 500 से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष रुप से रोजगार मिलेगा जबकि अप्रत्यक्ष रुप से हजारों लोगों को इसका लाभ मिलेगा। दक्षिण कोरियाई कंपनी सैमसंग टीवी, मोबाइल और टैबलेट जैसी तमाम चीजों की डिस्प्ले तैयार करती है। 
 
केंद्र सरकार की तरफ से कहा गया है कि सरकार अपनी योजनाओं की बदौलत चीन को मैनुफैक्चरिंग सेक्टर में पीछे छोड़ने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है। भारत सरकार की तरफ से सभी छोटी-बड़ी कंपनियों को आश्वासन दिया गया है कि अगर वह भारत में अपना व्यापार शुरु करना चाहते है तो उनके स्वागत है और भारत में निवेश को लेकर सरकार ने जमीन और कागज़ात के कामों में काफी सहुलियत कर दी है जिससे अब किसी भी निवेशक को सरकारी ऑफिसों के चक्कर लगाने की जरुरत नहीं होगी। 
 
केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, “हम चाहते है कि भारत दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल विनिर्माता बने, लेकिन अब मैं भारत को चीन से आगे बढ़ाने पर जोर दे रहा हूं यह मेरा लक्ष्य है और मैं इसे स्पष्ट रुप से परिभाषित करता हूं” विदेशी निवेश को बढ़ाने के लिए भारत सरकार ने  PLI योजना का लांच किया है जिसका मकसद विश्व स्तरीय कंपनियों को भारत लाना है और भारतीय कंपनियों को विश्व स्तरीय बनाना है।

आपकी प्रतिक्रिया...