दीपावली के परंपरागत मगर हटके पकवान

दीपावली के शुभ अवसर पर घर-घर में मीठे नमकीन और चटाखेदार पकवान बनते है। जैसे लड्डू, बर्फी, गुझिया, सेव, चकली, चिवड़ा आदि। पारंपरिक पकवानों का अपना स्वाद है। मगर क्यों ना इस वर्ष परंपरागत पदार्थ कुछ अलग तरीक से बनाएं ठीक वैसे ही जैस बाजार में मिलते हैं, तो स्वाद भी बदलेगा, नयापन भी रहेगा। लोग तारीफ करगें सो अलग…

चकली

भारत के हर प्रदेश में चकली बनाने का तरीका व नाम अलग है। महाराष्ट्र में इसे चकली, गुजरात में चकरी और दक्षिण भारत में मुख्कू कहते हैं। परंपरागत तरीके से चकली, चावल और दाल से बनायी जाती है।

इसके अन्य प्रकार भी हैं जैसे मैदा चकली, आटे की चकली, चावल की चकली, लहसून चकली, टमाटर चकली, पालक चकली, बाजरा चकली, नाचणी (रागी) चकली आदि।

इन्हें बनाने का तरीका आसान है। परंपरागत चकली के आटे में टमाटर का पेस्ट डालने पर टोमेटो चकली, पालक का पेस्ट डालने पर पालक चकली और लहसुन का पेस्ट डालने पर लहसुन चकली बनती। यहां सबकी मनपसंद मंचूरियन चकली की विधि बताते हैं।

मंचूरियन चकली

सामग्री – 1कप गेंहू का आटा, 1/2 कप बेसन, 1/2 कप चावल का आटा, 2 टीस्पून सफेद तिल, 1 पैकेट मंचूरियन मसाला, नमक स्वादानुसार और तलने के लिए तेल।

विधि – एक बर्तन में तीनों आटे, नमक और तिल मिला लें। उसमें 2 टेबलस्पून गर्म तेल (मोयन) डालें। अब एक कप पानी में मंचूरियन मसाला डालकर अच्छी तरह उबालें ठंडा होने पर इसे आटे में डालकर आटा मल ले पानी भी डाल सकते हैं। परंतु ध्यान रहे आटा नरम ना हो पूडी जैसा कड़ा होना चाहिए। अब इसे चकली के सांचे में डालकर चकली बनाएं आर गरम तेल में तल ले। यह चकली बच्चे, बूढ़े, युवा सभी बहुत पसंद करते हैं।

सेवया भूजिया

परंपरागत तरीके से सेव बेसन की बनती है। भुजिया में मूंग या मोठ (मटकी) का आटा लिया जाता है। सेव की भी अनेक व्हरायटीज हैं, जैसे आलू भुजिया, लहसुनी सेव, मसाला सेव, पालक सेव एवं टोमेटो सेव आदि।

आलू भुजिया या पोटेटो सेव

आलू भुजिया बनाना हो तो 100 ग्राम मोठ (मटकी) का आटा लें। सेव बनाना हो 100 ग्राम बेसन लें। 5-6 उबले आलू कद्दूकस किए हुए, 1/2 चमच हल्दी पावडर, 1 चमच लाल मिर्च पावडर, गरम मसाला एवं नमक स्वादानुसार, चाट मसाला 1चम्मच, तलने के लिए तेल।

विधि – चाट मसाला छोेड़कर आटे में सारी सामग्री मिलाकर गूंथ लें। पानी जरुरत पड़ने पर ही मिलायें। आटा ना ज्यादा कडक हो ना नरम। अब इसे गीले कपड़े से 15 मिनट ढंककर रखें। सेव बनाने वाली मशीन में डालकर गर्म तेल में तल लें। हल्का ठंडा होने पर सेव तोडें और इसके ऊपर चाट मसाला छिड़कें। बाजारवाली आलू भुजिया तैयार।

लड्डू

परंपरागत तरीकों में हम बेसन के लड्डू, सूजी के लड्डू, बेसन सूजी मिक्स लड्डू, बूंदी लड्डू और मोती चूर के लड्डू खाते आ रहे हैं। अन्य लड्डूओं में आटा ड्रायफूड लड्डू, मूंगदाल के लड्डू, उड़द दाल के लड्डू, मावा लड्डू, नारियल के लड्डू, चूरमा लड्डू आदि हैं। एकदम सरल मिनटों में तैयार होने वाले खजूर ड्रायफूट लड्डू।

झटपट खजूर ड्रायफूट लड्डू

20-25 बीज निकले हुए खजूर मिक्सर में दरदरे पीसें, 1/2 कप सूखा नारियल, 1 चम्मच खसखस, 1 चम्मच घी।

विधि – एक पैन में खसखस व नारियल थोड़ा भूने उसी पैन में धी डालें। अब ड्रायफूट, खजूर का दरदरा पिसा मिश्रण डालकर मिक्स करें और थाली में निकाल लें, गुनगुना होने पर छोटे छोटे लड्डू बना लें।

गुझिया

इसे हिंदी में गुझिया, मराडी में करंजी और गुजराती में गुधरा कहते हैं। यह कई तरह से बनाई जाती है, जैसे सूजी की गुझिया, मावा गुझिया, नारियल गुझिया, अंजीर, खजूर गुझिया, चाशनीवाली गुझिया, चूरमा गुझिया और चॉकलेट गुझिया।

चॉकलेट गुझिया

1,1/2 कप मैदा, 2 कप खोया, 1 कप चीनी, 100 ग्राम चॉकलेट चिप्स, इलायची पावडर और घी।

विधि – सबसे पहले मैदे में 2 बड़े चम्मच गर्म घी का मोयन डालें और पानी से आटा गूंथ लें। अब पैन में खोया हल्का होने तक भूनें। चीनी और इलायची पावडर मिलाएं। हल्का ठंडा हो तो चॉकलेट चिप्स मिलाएं, अब मैदे की लोई बेलें। उसमें मिश्रण भरकर सांचे की मदद से सील कर लें। अब घी में सुनहरा होने तक तल लें।

बर्फी

वैसे तो परंपरागत रुप से बेसन की बर्फी बनाते हैं पर अब इनकी भी अनेक किस्में मौजूद हैं बादाम बर्फी ,नारियल बर्फी मावा बर्फी, चाकलेट बर्फी, गाजर बर्फी, तिल बर्फी, मूंगफली बर्फी आदि।

संतरा बर्फी

4-5 संतरों का गूदा, 400 ग्राम मावा, 400 ग्राम चीनी, 2-3 चम्मच कटे हुए ड्रायफूट 1/2 चम्मच ऑरेंज ऐसेंस व घी।

विधि – मावा मिक्सर में पीस लें। एक पैन में चीनी डालें, मावा भी डाले मिश्रण पकाएं, तुरंत गूदा डाल दें, ऑरेंज फूड कलर डालें, ऑरेंज एसेंस डालें। मिश्रण गाढा हो तो घी लगी हुई थाली में तुरंत पलट दें। फैलाकर ड्राई फूट से सजाएं।

ठंडा होने पर मनचाहे आकार में काटें। बाजार जैसी स्वादिष्ट संवरा बर्फी तैयार।

 

आपकी प्रतिक्रिया...