बदलती परंपराओं और त्यौहारों का नया स्वाद

Continue Reading बदलती परंपराओं और त्यौहारों का नया स्वाद

ट्रिंग... ट्रिंग... ट्रिंग... कॉलबेल बजी। उत्साह से नेहा ने दरवाजा खोला। अपनी चारों सहेलियों को देख नेहा का चेहरा खिल उठा। “कौन आया है बेटी?” मां भी कमरे से बाहर आ गई। नेहा ने गांव से आई अपनी मां का सभी सहेलियों से परिचय कराया। बातचीत चल निकली तो त्यौहारों पर आकर अटक गई कि…

गर्मी से बेहाल न हों नौनिहाल

Continue Reading गर्मी से बेहाल न हों नौनिहाल

गर्मियों का मौसम चल रहा है, घर से बाहर झुलसानेवाली धूप तप रही है, बच्चो की गर्मी की छुटियां भी शुरू हो गई हैं। हर माता पिता बच्चों के प्रति जागरुक रहते हैं, उनकी देखभाल भी करते हैं, परंतु इतनी सर्तकता के बावजूद, बच्चों को गर्मी में होनेवाली बीमारियां घेर…

संक्रांति पर्व

Continue Reading संक्रांति पर्व

संक्रांति का त्यौहार सामाजिक संबंध दृढ़ करने, आपस में मिलने जुलने, तनाव दूर कर, खुशियां फैलाने वाला त्यौहार है. यह पर्व केवल भारत ही नहीं, थाईलैंड, म्यांमार, कंबोडिया और श्रीलंका में भी पूरी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है.

बदलती परंपराओं और त्यौहारों का नया स्वाद

Continue Reading बदलती परंपराओं और त्यौहारों का नया स्वाद

आज की युवा पीढ़ी, परंपराओं के साथ भले ही हाथों में हाथ डाल कर ना चल रही हो परंतु उन्हें जिंदा रखने की हसरत उनमें है। बस उनका देखने का नजरिया बदल गया है। बदलाव और नयापन हमेशा अच्छा होता है। इससे समाज उन्नति की ओर बढ़ता है। ट्रिंग... ट्रिंग... ट्रिंग... कॉलबेल बजी। उत्साह से नेहा ने दरवाजा खोला। अपनी चारों सहेलियों को देख नेहा का चेहरा खिल उठा। ‘‘कौन आया है बेटी?’’ मां भी कमरे से बाहर आ गई। नेहा ने गांव से आई अपनी मां का सभी सहेलियों से परिचय कराया। बातचीत चल निकली तो त्यौहारों पर आ

ऋतुओं की रानी बारिश

Continue Reading ऋतुओं की रानी बारिश

सूर्यदेवता के कोप से धरती जली जा रही थी। सूर्यदेवता आसमान में चढ़ते ही जा रहे थे। घरों और सड़कों पर मानो आग बरस रही थी। बिजली भी चली गई थी। पंखा झलने वाले हाथ थकने लगे थे। दोपहर की झपकी आखों से कोसों दूर थी। लू चल रही थीं। सडकें तवे के समान तप रही

दो नावों पर सवार

Continue Reading दो नावों पर सवार

महिलाओं को सुपर वुमन बनने में और खुद को नजरअंदाज करने में महानता का अहसास होता है। यह सोच बदलनी होगी। कामकाजी महिला हो तो घर के सभी की मिलजुलकर काम करने की जिम्मेदारी बढ़ती है। इस नए परिवेश को अपनाए बगैर और कोई चारा नहीं है। प्रिया की सुबह की गहमागहमी, अफ

End of content

No more pages to load