…ऑस्कर, नाम तो सुना ही होगा !!

Continue Reading…ऑस्कर, नाम तो सुना ही होगा !!

विश्व का शायद ही कोई कोना हो जहां इंसान  रहते हों और फिल्में ना देखी  जाती हों। कहीं बड़े धूमधाम से बनती हैं और लोग उनके रिलीज होने का महीनों या सालों इंतजार करते हैं, तो कहीं पर लोग तमाम प्रतिबंधों के बावजूद चोरी-छिपे देख ही लेते हैं। कट्टप्पा ने बाहुबली…

स्वर यात्री जुथिका रॉय

Continue Readingस्वर यात्री जुथिका रॉय

जो लोग कला जगत में बहुत ऊंचाई पर पहुंच जाते हैं, उनमें से अधिकांश को आचार-व्यवहार की अनेक दुर्बलताएं घेर लेती हैं; पर भजन गायन की दुनिया में अपार प्रसिद्धि प्राप्त जुथिका राॅय का जीवन इसका अपवाद था। इसका एक बहुत बड़ा कारण यह था कि उनका परिवार रामकृष्ण मिशन…

ब्रूस ली एक दार्शनिक महान योद्धा

Continue Readingब्रूस ली एक दार्शनिक महान योद्धा

वो महानतम मार्शल आर्टिस्ट था। वो पंद्रह सौ पुशअप कर सकता था,दो सौ टू फिंगर्स पुशअप। वो एक इंच दूर से पंच कर किसी फाइटर को धराशायी कर सकता था। कोक कैन में अपनी उंगली के प्रहार से छेद कर सकता था । वो एक बार में नौ पंच कर…

कॉमेडी के बहाने कब तक होगा महिलाओं का अपमान

Continue Readingकॉमेडी के बहाने कब तक होगा महिलाओं का अपमान

भारतीय समाज स्त्रियों के सम्मान के बारे मे बड़ी बड़ी बातें करता है । स्त्री को देवी का रूप माना गया है । पत्नी को आधा अंग का दर्जा दिया गया है, लेकिन वास्तविकता क्या है ? वास्तविकता यह है, की कपिल शर्मा नाम का एक शो बनता है, जिसका…

बकाया वसूल किए बिना ही आईपीएल को सुरक्षा प्रदान

Continue Readingबकाया वसूल किए बिना ही आईपीएल को सुरक्षा प्रदान

बारबार पत्राचार करने के बाद भी मुंबई पुलिस बकाया पैसा वसूल करने के लिए गंभीर नहीं हैं। बकाएदार मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन को बार बार नए क्रिकेट मैच के लिए सुरक्षा उपलब्ध कराई जा रही हैं। मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन ने मुंबई पुलिस का 14.82 करोड़ रुपए अदा नहीं किया हैं जबकि…

रंगमंच में प्रेम का राग है, तो जुदाई का दर्द भी !

Continue Readingरंगमंच में प्रेम का राग है, तो जुदाई का दर्द भी !

रंगमंच को अभिनय कला का नशा माना जाता है। जिसने भी इस दुनिया में कदम रखा, रंगमंच उसकी रूह में उतर गया। फिर वह चाहकर भी रंगमंच की दीवानगी से खुद को जुदा नहीं कर सकता। दरअसल, रंगमंच इश्क का एक ऐसा दरिया है जिसकी गहराइयों में जिंदगी बसती है।…

‘द कश्मीर फाइल्स’ ने देश को झकझोर दिया है

Continue Reading‘द कश्मीर फाइल्स’ ने देश को झकझोर दिया है

भोपाल: सुप्रसिद्ध फ़िल्म अभिनेता अक्षय कुमार ने कहा कि इस देश ने 70 साल एक ऐसे प्रधानमंत्री का इंतजार किया जो यह बता सके कि हर घर में शौचालय हो। हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान के कारण आज इस महत्वपूर्ण मुद्दे के बारे में जागरूकता आयी है। अक्षय…

पीएम मोदी ने मीटिंग में किया कश्मीर फाइल्स का जिक्र

Continue Readingपीएम मोदी ने मीटिंग में किया कश्मीर फाइल्स का जिक्र

देश में इस समय फिल्म 'द कश्मीर फाइल्स' (the kashmir files) की चर्चा हो रही है। आम से लेकर खास तक सभी इस फिल्म को देखने के लिए उत्सुक हैं, केवल कुछ ख़ास लोगों को छोड़ कर। सबसे बड़ी बात है कि इस फिल्म की चर्चा स्वयं पीएम नरेंद्र मोदी…

The Kashmir Files के जरिये केरल कांग्रेस का बेतुका ट्वीट, क्या कर रही है साबित?

Continue ReadingThe Kashmir Files के जरिये केरल कांग्रेस का बेतुका ट्वीट, क्या कर रही है साबित?

बॉलीवुड के निर्देशक विवेक अग्निहोत्री द्वारा निर्देशित फिल्म 'द कश्मीर फाइल्स' (The Kashmir Files) इस समय देश भर में चर्चा का विषय बनी हुई है। यह फिल्म साल 1990 में आतंकियों द्वारा कश्मीर से खदेड़े गए कश्मीरी पंडितों पर आधारित है। फिल्म को देखने के बाद लोगों के भावुक होने वाला वीडियो लगातार सोशल…

‘द कश्मीर फाइल्स’ – आरंभ हैं प्रचंड

Continue Reading‘द कश्मीर फाइल्स’ – आरंभ हैं प्रचंड

यह राष्ट्रवाद की जीत हैं। एक नया विमर्श गढ़ने जा रहा हैं। आज तक जिस सच को राजनेताओं और मीडिया ने छिपा के रखा था, उसे विवेक अग्निहोत्री जी ने ‘द कश्मीर फाईल्स’ के माध्यम से अत्यंत प्रभावी तरीके से सामने लाया हैं। ‘कश्मीर फाईल्स’ हिट हैं। जबरदस्त हिट हैं।…

यहूदियों की तरह हिन्दुओं का हुआ है कई बार नरसंहार

Continue Readingयहूदियों की तरह हिन्दुओं का हुआ है कई बार नरसंहार

आज से लगभग 100 साल पहले जब तुर्की में खलीफा राज के लिए मालाबार में हिन्दुओं की गर्दनें उतारी जा रही थीं और पूरा देश गांधीवाद और अहिंसा की भांग खाकर सेक्युलरिज्म की नींद सो रहा था.... तब रत्नागिरी जेल में बंद पूज्य सावरकर अकेले सच लिखने की हिम्मत कर…

द कश्मीर फाइल्स ! : आत्मा को अंदर तक हिला देने वाला अनुभव !

Continue Readingद कश्मीर फाइल्स ! : आत्मा को अंदर तक हिला देने वाला अनुभव !

वैसे तो ये “आत्मा को हिला देने वाला” जैसे शब्द भी इस अनुभव के सामने बेहद ही छोटे हैं | हम सभी को कश्मीर की सच्चाई पता है | कश्मीर में १९ जनवरी १९९० को क्या हुआ है ये पता है | और जिसे नहीं पता उसे अब पता होगा…

End of content

No more pages to load