शूल की तरह चुभते अर्णब

Continue Readingशूल की तरह चुभते अर्णब

रिपब्लिक भारत के मालिक संपादक अर्णव गोस्वामी की पत्रकारिता से असहमत होने का अधिकार किसी को भी हो सकता है लेकिन असहमति का तत्व सत्ता के बल पर दमन की इजाजत नही देता है।जिस तरीके से अर्नब को मुंबई पुलिस ने निशाने पर लिया है वह महाराष्ट्र सरकार के उसी…

सामंती सोच से विस्मृत एक महान शख्सियत

Continue Readingसामंती सोच से विस्मृत एक महान शख्सियत

लाल बहादुर शास्त्री के बहाने हमें उस सामंती सोच का विश्लेषण करने की भी आवश्यकता है जिसने कांग्रेस जैसी ऐतिहासिक पार्टी को एक परिवार का बंधक बनाकर भारतीय लोकतंत्र का भी गहरा नुकसान किया है। क्या आज कांग्रेस में उस कांग्रेस का अक्स हमें भूल से भी नजर आता है जो औपनिवेशिक मुक्ति का सबसे सशक्त मंच था?

स्वास्थ्य का मूलाधिकार आत्मनिर्भरता की बुनियाद

Continue Readingस्वास्थ्य का मूलाधिकार आत्मनिर्भरता की बुनियाद

मोदी सरकार ने जिस राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति को 2017 में लागू किया है उसके मूल प्रारूप में ’जनस्वास्थ्य’ को शिक्षा और खाद्य की तरह बुनियादी अधिकार बनाने का प्रस्ताव था; लेकिन राज्यों के कतिपय विरोध के चलते इसे विलोपित कर दिया गया। कोरोना महामारी के अनुभव ने हमें अब पुनः इस पर नए सिरे से सोचने पर मजबूर किया है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में हम तभी आत्मनिर्भर बन सकते हैं, जब स्वास्थ्य को हम नागरिकों का बुनियादी अधिकार मानें।

क्यों महाराष्ट्र सीबीआई जांच से कतरा रहा है?

Continue Readingक्यों महाराष्ट्र सीबीआई जांच से कतरा रहा है?

 महाराष्ट्र पुलिस के रवैये से सुशांत सिंह कथित आत्महत्या मामला और उलझता जा रहा है। महाराष्ट्र ने बिहार पुलिस को इस मामले में प्राथमिकी दर्ज होने पर भी जांच में न सहयोग किया और न जांच होने दी, न सीबीआई जांच को राजी है। आखिर इसका राज क्या है?

राजनीति में हिंदुत्व का अधिष्ठान भी मंदिर निर्माण

Continue Readingराजनीति में हिंदुत्व का अधिष्ठान भी मंदिर निर्माण

असल में कांग्रेस औऱ दूसरे सेक्यूलर दलों ने जिस दबी जुबान में मंदिर निर्माण का स्वागत किया है उसे संसदीय सियासत के करवट लेते हुए घटनाक्रम के रूप में भी देखे जाने की जरूरत है। ...कल तक जो राजनीति हिंदुओं के सांस्कृतिक मानमर्दन पर फलती फूलती रही है उसका चेहरा औऱ कोण दोनों बदलने वाले हैं।

भारत के सामयिक उत्कर्ष की ओर उड़ान

Continue Readingभारत के सामयिक उत्कर्ष की ओर उड़ान

शिक्षा के ढांचे से प्रशासनिक उलझाव खत्म कर एकीकृत स्वरूप देने का प्रावधान बहुत लंबे समय से प्रतीक्षित था। वह शिक्षा के जरिए भारत को महाशक्ति बनाने की प्रबल इच्छा को उद्घाटित करती है। इसका देश भर में स्वागत हो रहा है; जबकि कांग्रेस व वामपंथियों का निरर्थक रुदाली रुदन जारी है, जो समय के साथ अपने आप ठंड़ा पड़ने ही वाला है।

पूंजी औऱ सियासी खेल को समझने की दरकार

Continue Readingपूंजी औऱ सियासी खेल को समझने की दरकार

बाबा रामदेव की कोरोनिल दवा के विवाद को लेकर दो आयाम समझने की जरूरत है। एक- बाबा ने अतिशय उत्साह दिखाया, जिससे यह दुनिया के बहुराष्ट्रीय दवा कारोबार के लिए एक जलजला है। दूसरा- वे तथाकथित लिबरल वामपंथी गिरोह हैं, जो वेद, योग व आयुर्वेद के सहसम्बंध को स्वीकार नहीं करने की सियासत करते रहे हैं।

क्या वैश्वीकरण का तिलस्म टूटेगा?

Continue Readingक्या वैश्वीकरण का तिलस्म टूटेगा?

2021 से दुनियाभर में मौजूदा अवधारणाएं ध्वस्त होंगी और एक नई आर्थिकी, सामाजिकी का जन्म होगा। तकनीकी और लोकजीवन के नए आयाम भारतीय मूल्यों से सराबोर होकर सुस्थापित होंगे।

प्रयोगशालाओं से उठती उम्मीद की किरणें

Continue Readingप्रयोगशालाओं से उठती उम्मीद की किरणें

न केवल भारत बल्कि पूरी दुनिया में इस चीनी वायरस पर विजय पाने की जमीनी लड़ाई प्रयोगशालाओं में लड़ी जा रही है। दुआओं के समुच्चय में दवा का सृजन शीघ्र ही मानवता को इस चीनी हमले से निजात दिलाएगा ऐसी आशा है।

संकल्प से सिद्धि तक

Continue Readingसंकल्प से सिद्धि तक

ऐसे बीसियों उदाहरण है  जिनसे यह प्रमाणित होता है कि  हमारी चेतना में राष्ट्रीय दायित्व बोध आज भी स्थायी भाव नहीं बना सका है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिस टीम इंडिया औऱ एक भारत श्रेष्ठ भारत की बात पर जोर देते है उसकी बुनियादी सोच 125 करोड़ भारतीयों में नागरिकबोध के प्रादुर्भाव का ध्येय ही है।

End of content

No more pages to load