हिंदी भाषा का उपयोग-कुछ निजी अनुभव

Continue Reading हिंदी भाषा का उपयोग-कुछ निजी अनुभव

हिंदी को काम में लाने के लिए जज्बा चाहिए, अपनत्व चाहिए। देश में विभिन्न सरकारी कार्यालयों में तैनात हिंदी अधिकारियों से इस तरह की कोई अपेक्षा नहीं है। वे महज खानापूरी के लिए जाने जाते हैं।

कांटों के उद्यान मेंएक महकता गुलाब

Continue Reading कांटों के उद्यान मेंएक महकता गुलाब

मेरे स्वर्गीय पिता श्री शिवनाथ मिश्र न्यायाधीश तो थे ही, जिन्होंने १९३६ से १९५६ तक मध्य प्रांत और विदर्भ को, और १९५६ से १९६७ तक नवगठित मध्य प्रदेश राज्य को अपनी सेवाएं दी। वे कानून के अलावा संस्कृत, हिंदी, अवधी, मराठी तथा उर्दू पर अच्छी पकड़ रखते थे।

गंजों की शिकायत और उन्हें सलाह

Continue Reading गंजों की शिकायत और उन्हें सलाह

राहुल गांधी का बचपना उनकी उम्र के अनुपात से बढ़ता ही जा रहा है। असावधानी वश या नातजुर्बा बीमारी से या जोश में जैसे ही वे कहीं मुंह खोलते हैं, किसी न किसी की नाराज कर देते हैं।

संगीतमय सड़कें

Continue Reading संगीतमय सड़कें

कोई माने या न माने, पर मुझे संजय की तरह दिव्य दृष्टि प्राप्त हो गयी है और मैं भली भांति देख पा रहा हूं कि निकट भविष्य में क्या होने वाला है।

मन को झंकृत करने वाले गीत

Continue Reading मन को झंकृत करने वाले गीत

हिंदी फिल्मों की सफलता में गीतों की महती भूमिका रही है। गीत अब भी होते हैं लेकिन उनमें वह माधुर्य, वह कशिश नहीं होती। गत शताब्दी के तीसरे दशक में, जब सवाक फिल्मों का युग आरम्भ हुआ, तब से लेकर साठ-सत्तर के दशक तक फिल्मों के प्राय: सभी गाने सदाबहार होते थे, क्योंकि उनकी धुनें मधुर और कर्णप्रिय होती थीं। गीतकार शब्दों से जो शानदार ढांचा तैयार करते थे, संगीतकार उसमें जान डाल देते थे।

मूंछ की महत्ता

Continue Reading मूंछ की महत्ता

मूंछ को पौरुष का प्रतीक सदा से माना गया है। किंतु मेडिकल साइंस के अनुसार पुरुषों और महिलाओं में अंत:स्रावी ग्रंथियाँ भिन्न प्रकार के हार्मोन छोड़ती हैं। एस्ट्रोजेन के हार्मोनों के कारण उनमें स्त्रियोचित चिन्ह बनते हैं। कभी-कभी पुरुषों में एस्ट्रोजेन की कमी से उनके दाढ़ी- मूछें नहीं ऊगतीं, आवाज महिलाओं जैसी सुरीली हो जाती है;

मुहावरे-कहावते : पशु-पक्षी और पर्यावरण

Continue Reading मुहावरे-कहावते : पशु-पक्षी और पर्यावरण

हमारे समाज, परंपरा, साहित्य और लोकोक्तियों में पशु-पक्षियों को बहुत महत्व दिया गया है, जो प्रकृति से हमारे पूर्वजों के जुड़ाव का द्योतक है।

आर.के. लक्ष्मण – न भूतो न भविष्यति

Continue Reading आर.के. लक्ष्मण – न भूतो न भविष्यति

लक्ष्मण का व्यंग्य चित्रकार बनना और अखबारों से जुड़ना ऐसी घटना थी जिसे विधाता ने पूर्व निर्धारित कर रखा था। आज कार्टून की दुनिया में लक्ष्मण का जवाब लक्ष्मण ही हैं। संप्रति 85 वर्ष की आयु में, आधा शरीर पक्षाघात के कारण निष्चेष्ट जैसा हो जाने के बावजूद, उनके व्यंग्य चित्रों की धार अक्षुण्ण है।

End of content

No more pages to load