माहौल बिगाड़ने के विरुद्ध घातक प्रतिक्रिया

Continue Readingमाहौल बिगाड़ने के विरुद्ध घातक प्रतिक्रिया

पहले चरण के मतदान के साथ पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की शुरुआत हो गई है। वैसे तो ये सभी चुनाव महत्वपूर्ण है लेकिन सबसे ज्यादा नजर उत्तर प्रदेश एवं उसके बाद पंजाब पर लगी हुई है। पंजाब सुरक्षा की दृष्टि से जम्मू कश्मीर के बाद दूसरा सबसे संवेदनशील राज्य…

उत्तर प्रदेश में बढे़गा राजनैतिक तापमान 

Continue Readingउत्तर प्रदेश में बढे़गा राजनैतिक तापमान 

उत्तर प्रदेश में विधानसभ चुनावों को लेकर सरगर्मियां और बयानबाजियां तेज होती जा रही हैं। सत्तारूढ भारतीय जनता पार्टी ने भी 2014, 2017 और 2019 की सफलता को दोहराने के लिये अपनी कमर कस ली है। भाजपा को इस बार सपा मुखिया अखिलेश यादव की विजय रैलियों में आ रही भारी भीड़ से कड़ी चुनौती…

विरोधी दलों पर भारी भाजपा

Continue Readingविरोधी दलों पर भारी भाजपा

उ.प्र. सहित देश के पांच राज्यों में अगले साल फरवरी-मार्च में विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनावी राज्यों में राजनीतिक तापमान गर्म है और जो सर्वेक्षण उभर कर सामने आ रहे हैं। उनमें से चार राज्यों में भाजपा के पक्ष में माहौल दिख रहा है। दूसरी ओर भाजपा विरोधी दल जातीय और धार्मिक समीकरणों के सहारे भाजपा को घेरने की रणनीति पर काम कर रहे हैं।

उप चुनाव परिणामों का अतिवादी विश्लेषण

Continue Readingउप चुनाव परिणामों का अतिवादी विश्लेषण

कांग्रेस ऐसी पार्टी है जो अपनी विजय से ज्यादा भाजपा की पराजय पर प्रसन्न होती है। वह भूल गई है कि बंगाल में तृणमूल कांग्रेस ने उसकी पार्टी को लगभग खत्म कर दिया है। भाजपा के पास तो अभी भी नेता, कार्यकर्ता चुनाव अभियान चलाने वाले बचे हुए हैं पर कांग्रेस के सामने अस्तित्व का संकट है।

जनता ने किसे बताया उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री ?

Continue Readingजनता ने किसे बताया उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री ?

उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले है जिसे लेकर सभी पार्टियों ने अपनी अपनी कमर कस ली है। सभी नेता अपने कार्यों और बयानों के माध्यम से जनता को लुभाने की कोशिश में लगे हुए हैं लेकिन इस बीच सवाल यह है कि आखिर जनता किसे अपना…

उत्तर प्रदेश में विपक्ष दे रहा है भाजपा को उसके अनुकूल मुद्दे

Continue Readingउत्तर प्रदेश में विपक्ष दे रहा है भाजपा को उसके अनुकूल मुद्दे

उत्तर प्रदेश के राजनीतिक परिदृश्य पर नजर दौड़ाइए तो विधानसभा चुनाव के संदर्भ में कई रोचक तस्वीर दिखाई देगी। भाजपा अपने मुद्दों के साथ पहले से बुद्धिमता और योजनाबद्ध तरीके से सक्रिय है। मजे की बात कि विपक्षी दल भी ऐसे मुद्दे उठा रहे हैं जो भाजपा के लिए ज्यादा…

दलित नेतृत्व का अभाव

Continue Readingदलित नेतृत्व का अभाव

पिछले दिनों राहुल गांधी ने कहा था कि मायावती किसी दलित नेता को उभरने नहीं देती हैं। उन्होंने सच कहा था। इसका स्वागत किया जाना चाहिए कि उन्हें दलितों की चिंता है। वास्तव में देश में दलित नेताओं का अभाव है।

End of content

No more pages to load